हॉकी टेस्ट इवेंट में भारतीय महिला और पुरुष टीमों ने जीत के साथ किया आगाज़ 

पुरुष हॉकी टीम ने किया मलेशिया को ढेर और महिला टीम ने जापान को घर में रौंदा

लेखक जतिन ऋषि राज ·

हॉकी टेस्ट इवेंट का आगाज़ जापान में 17 अगस्त से हो चुका है और भारतीय पुरुष और महिला टामें इसमें भाग ले रहीं हैं। यह टेस्ट इवेंट टोक्यो के ओई स्टेडियम में खेला जा रहा है। भारतीय महिला खिलाड़ियों ने जोश दिखाते हुए जापान को 2-1 से हराया और दूसरी तरफ पुरुष टीम ने तो मानों एक अलग ही दृश्य दिखाया। मलेशिया के खिलाफ भारतीय मेंस हॉकी टीम ने 6 गोल दागे और मुकाबला 6-0 से अपने नाम किया। दोनों ही टीमों ने बेहतरीन शुरुआत कर इवेंट में हल्ला बोल दिया है।

मंदीप सिंह ने (33 और 46 मिनट) और गुरसाहिबजीत सिंह ने (18 और 56 मिनट) दो-दो गोल दाग कर दिया भारत को जीत का सुनहरा मौका प्रदान किया। 60वें मिनट में एस.वी.सुनील ने भी अपने नाम एक गोल कर भारत की जीत की राह मज़बूत कर दी।

भारतीय हॉकी टीम का आक्रामक अंदाज़ 

हॉकी टोक्यो टेस्ट इवेंट में भारत ने कई युवा खिलाड़ियों का चुनाव किया और हेड कोच ग्राहम रीड भी खिलाड़ियों के प्रदर्शन को लेकर उत्सुक दिखे। युवाओं ने उम्दा प्रदर्शन कर कोच के निर्णय को सही साबित किया और भारत को बड़ी जीत प्रदान की।

भारत ने आक्रामक खेल का मुज़ाहिरा पेश करते हुए विरोधी टीम को फील्ड पर चारों खाने चित किया। इसमें मनदीप ने भी अहम भूमिका अदा की। वह बेहद इस मुकाबले में बेहद ही अच्छे टच में दिखे। वहीं दूसरी तरफ सुनील भी अपनी तेज़ी का फायदा उठाते हुए कुछ ख़ास मूव बनाए। 


करकेरा बने टीम की ढाल

हालांकि भारत की पुरुष टीम ने एकजुट होकर मुकाबला खेला लेकिन मुंबई के सूरज करकेरा ने अपनी ज़िम्मेदारी बखूबी निभाई। सूरज ने उम्दा गोलकीपिंग करते हुए मलेशिया के अटैक को गोल करने का कोई मौक़ा प्रदान नहीं किया। यही वजह रही कि भारत पहले क्वार्टर में 2-0 की बढ़त हासिल करने में कामयाब रहा। 

सेकंड क्वार्टर का खेल भी भारत के पक्ष में रहा और पंजाब के मंदीप सिंह इसकी बड़ी वजह रहे। जसकरण सिंह और मंदीप सिंह के ताल मेल का मलेशियाई खिलाड़ियों के पास कोई जवाब न था और भारत का स्कोर बोर्ड एक बार फिर बढ़ने लगा। अंत में पुरुष टीम ने मुकाबले पर 6-0 से कब्ज़ा करते हुए आसान जीत दर्ज की।

सेकंड क्वार्टर का खेल भी भारत के पक्ष में रहा और पंजाब के मंदीप सिंह इसकी बड़ी वजह रहे। जसकरण सिंह और मंदीप सिंह के ताल मेल का मलेशियाई खिलाड़ियों के पास कोई जवाब न था और भारत का स्कोर बोर्ड एक बार फिर बढ़ने लगा। अंत में पुरुष टीम ने मुकाबले पर 6-0 से कब्ज़ा करते हुए आसान जीत दर्ज की।

गुरजीत ने जीता सबका दिल

इससे पहले भारतीय महिला टीम की शुरुआत अच्छी रही और 16वें मिनट में शार्ट-कार्नर से गोल दाग कर टीम ने बढ़त हासिल की। हालांकि जापान ने एक बार कमर कस भारत को फील्ड पर चौकन्ना किया और काउंटर अटैक शुरू किया। लेकिन भारत की सूझ-बूझ के आगे मलेशिया का अटैक ज़्यादा देर तक चल न सका और गुरजीत कौर ने एक और मौके को गोल में तब्दील कर दिया। हालांकि जापान की टीम एक गोल करने में सफर रही लेकिन अंत में इस मुकाबले को भारत महिला टीम ने 2-1 से अपने नाम करते हुए टूर्नामेंट में जीत के साथ अपना आगाज़ किया। 

आपको बता दें भारतीय मेंस हॉकी टीम का अगला मुकाबला रविवार को न्यूज़ीलैंड के खिलाफ खेला जाएगा और भारतीय वूमेंस हॉकी टीम उसी दिन ऑस्ट्रेलिया से टक्कर लेती नज़र आएगी।