आईएएएफ वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए भारत ने की 25 नामों की घोषणा 

भारत के खिलाड़ी दोहा में होने वालीचैंपियनशिप में इतिहास रचने के लिए हैं तैयार और नाम भी हो सकते हैं शामिल

लेखक जतिन ऋषि राज ·

भारत के खिलाड़ी दोहा में होने वालीचैंपियनशिप में इतिहास रचने के लिए हैं तैयार और नाम भी हो सकते हैं शामिल

भारत में खेल को लेकर जोश और उत्साह देखते ही बनता है। खेल प्रेमियों के लिए खिलाड़ी मानो भगवान से कम नहीं हैं। वे दिन गए जब भारत में एक या दो खेलों का नाम लिया जाता था, बल्कि अब एथलेटिक्स, कुश्ती और बॉक्सिंग जैसे खेल भी भारतीय दिलों पर राज कर रहे हैं। इसी बीच एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने दोहा, क़तर में होने वाले आईएएएफ वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए 25 भारतीय खिलाड़ियों का चयन किया है।

घुटने की चोट के इलाज से गुज़र रहें हैं नीरज चोपड़ा 

इस लिस्ट में कई युवा तो कई दिग्गज खिलाड़ियों के नाम शामिल हैं। 1500 मीटर में रिकॉर्ड बनाने वाले जिन्सन जॉनसन, 3000 मीटर स्टीपलचेज़ में अविनाश साबले, शॉट पुट में तजिंदर सिंह, 1500 मीटर में पीयू चित्रा और जेवलिन थ्रो में अन्नू रानी जैसे नामों की घोषणा हुई। 4x400 मीटर रिले इवेंट के लिए भी 7 खिलाड़ी चुने गए जिनमेंमोहम्मद अनस, धरुण अय्यासामी, हिमा दास और एमआर पूवम्मा जैसे दिग्गजों के नाम शामिल हैं। एएफआई द्वारा बताया गया कि इस लिस्ट में दुती चंद और तेजस्विन शंकर भी शामिल हो सकते हैं, बस इंतज़ार है तो वर्ल्ड गवर्निंग बॉडी द्वारा निमंत्रण का।

नीरज चोपड़ा हुए बाहर

यह मीटिंग, पूर्व ओलंपियन गुरबचन सिंह रंधावा द्वारा की गई और उन्होंने बताया कि भारत के सबसे बेहतरीन जेवलिन थ्रोवर नीरज चोपड़ा ने आईएएएफ वर्ल्ड चैंपियनशिप  के लिए क्वालीफाई ज़रूर किया है लेकिन कोहनी के हुए ऑपरेशन की वजह से उन्हें इस प्रतियोगिता से बाहर रखा जा रहा है ताकि टोक्यो 2020 तक वह पूर्ण रूप से फिट हो सकें और भारत की अगुवाई पूरे जोश के साथ कर सकें।

आईएएएफ के निमंत्रण के लिए तेजस्विन शंकर को ट्रायल्स से गुज़ारना होगा

अभी बाकी हैं ट्रायल्स

सिलेक्शन कमेटी ने साफ़ किया कि दुती चंद और तेजस्विन को अगर निमंत्रण आता है तो उन्हें ट्रायल में भाग लेकर क्वालीफाई करना होगा। माना जा रहा है कि यह ट्रायल्स 21 सितम्बर को नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ स्पोर्ट्स, पटियाला में हो सकते हैं और इसी पर दोनों खिलाड़ियों का चयन निर्भर करेगा। 

तेजस्विन फिलहाल कैनसस स्टेट यूनिवर्सिटी, यू.एस में अपने 4 साल की विद्वत्ता का पालन कर रहे हैं, और अगर आईएएएफ वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए उनका चयन होता है तो उन्हें भारतीय ज़मीन पर ट्रायल देना पड़ेगा और 2.25 मीटर के स्कोर को पार कर अपनी जगह पुख्ता करनी होगी। हालांकि तेजस्विन पहले 2.27 जैसा उम्दा स्कोर कर चुकें है और इसी के साथ 2.29 का निजी सर्वश्रेष्ट स्कोर भी बना चुकें हैं जो कि फिलहाल नेशनल रिकॉर्ड भी है।

भारतीय उम्मीदें

वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत का रिकॉर्ड ख़ासा प्रभावित नहीं करता, ऐसे में इस बार सभी की नज़रें उन कुछ खिलाड़ियों पर टिकी होंगी जो कि भारत की ओर से इस प्रतियोगिता में जीत का एक नया अध्याय लिख सकें। अंजू बॉबी जॉर्ज एकमात्र भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेडल जीता है। पेरिस में हुए 2003 के संस्करण में इस हाई जम्पर ने भारत की झोली में ब्रॉन्ज़ मेडल ड़ाला था।

स्क्वाड: मेंस:

जाबिर एम्.पी (400 मीटर हर्डल्स), जिन्सन जॉनसन (1500 मीटर), अविनाश साबले (3000 मीटर स्टीपलचेज़), के.टी इरफ़ान और देवेंदर सिंह (20 किलो मीटर रेस वाक), गोपी टी (मैराथन), श्रीशंकर एम् (लॉन्ग जम्प), तजिंदर पाल सिंग तूर (शॉट पुट), शिवपाल सिंह (जेवलिन थ्रो), मोहम्मद अनस, निर्मल नूह टॉम, एलेक्स एंटोनी, अमोज जैकब, के.एस जीवन, धरुण अय्यासामी और हर्ष कुमार (4x400 मीटर मेंस एंड मिक्स्ड रिले)।

वूमेन:

पी.यू चित्रा (1500 मीटर), अन्नू रानी (जेवलिन थ्रो), हिमा दास, विस्मया वी.के, एम.आर. पूवम्मा, जिसना मैथ्यू, रेवाती वी, सुभा वेंकटेशन, विथ्या आर, (4x400 मीटर वूमेन एंड मिक्स्ड रिले)