चिली में प्रतिस्पर्धात्मक कार्रवाई में लौटने से उत्साहित है भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम 

कोरोना महामारी के कारण एक साल बाद किसी प्रतिस्पर्धा में टीम करेगी मुकाबला  

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम चिली की राजधानी सैंटियागो में पहुंच गई है और 18 जनवरी को होने वाले दौरे के अपने पहले मुकाबले में चिली की जूनियर टीम के खिलाफ भिड़ने की तैयारी कर रही है।

भारत की स्ट्राइकर ब्यूटी डुंगडुंग अपने उत्साह को रोक नहीं पा रहीं, क्योंकि टीम आखिरकार कोरोना महामारी के कारण बर्बाद हुए एक साल बाद प्रतिस्पर्धा में मुकाबला करने के लिए तैयार है।

17 वर्षीय स्ट्राइकर ने कहा, "मैं इस स्पर्धा में टीम की भागीदारी को लेकर सबसे पहले हॉकी इंडिया, भारतीय खेल प्राधिकरण और मेजबान चिली का शुक्रिया अदा करना चाहूंगी।"

उन्होंने आगे कहा, "प्रतिस्पर्धी हॉकी प्रतियोगिता फिर से शुरू होने और इसमें शामिल होने के लिए हम सभी खुद को बहुत भाग्यशाली समझते हैं। इस जगह सभी प्रोटोकॉल की पालना करते हुए हम इस सप्ताह के अंत में अपना पहला मैच खेलने के लिए तैयारी कर रहे हैं।" 

डुंगडुंग ने कहा, "महामारी के कारण हम पिछले साल कोई टूर्नामेंट नहीं खेल सके। भारतीय टीम के लिए पिछला मैच मैंने दिसंबर 2019 में ऑस्ट्रेलिया में आयोजित 3-राष्ट्र आमंत्रण टूर्नामेंट में खेला और जीता था। तब से बेंगलुरु के शिविर में केवल सीमित खेल गतिविधियों में भाग लिया, जो आसान नहीं था। लेकिन हमे अपनी क्षमताओं पर पूरा विश्वास है। यहां हमने सुनिश्चित करने के लिए काम किया कि हम चिली में प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार हो सकें।"  

जूनियर चिली के खिलाफ दो मैच खेलने के बाद भारतीय टीम 20, 21, 23 और 24 जनवरी को सीनियर टीम से भिड़ेगी। इसे टीम के लिए निर्णायक दौरा माना जा रहा है, क्योंकि दिसंबर में टीम दक्षिण अफ्रीका में होने वाले जूनियर महिला विश्व कप में भाग लेगी। इसके साथ यह भी ध्यान देने वाली बात है कि अप्रैल, 2021 में जापान में जूनियर महिला एशिया कप भी होगा।

भारतीय महिला हॉकी टीम

हॉकी इंडिया (HI) ने इस दौरे के लिए 24 सदस्यीय टीम की घोषणा की है, जिसका नेतृत्व डिफेंडर सुमन देवी थूदम कर रही हैं। इशिका चौधरी उप-कप्तान हैं।

सीनियर टीम की कप्तान असुंता लकड़ा को आदर्श मानने वाली फार्वर्ड का मानना ​​है कि इस दौरे से मिलने वाला अनुभव आगामी एशियाई कप और विश्व कप के लिए अमूल्य होगा।

डुंगडुंग ने कहा, "हम जानते हैं कि हमारे छह मैच मजबूत प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ हैं। पहले हम चिली की जूनियर टीम के खिलाफ दो मैच खेलेंगे और फिर उनकी सीनियर टीम के खिलाफ चार मैच खेलेंगे। इससे हमें अपनी प्रतिभा दिखाने का अच्छा मौका मिलेगा। वास्तव में हमारी टीम इस दौरे से उतना ही फायदा उठाना चाहती है जितना हम इस दौरे से उम्मीद करते हैं।"

उनकी आखिरी प्रतिस्पर्धी दिसंबर 2019 में एक त्रिकोणीय राष्ट्र टूर्नामेंट में हुई थी, जिसमें उन्होंने ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले किये थे। प्रतियोगिता में टीम ने प्रभावशाली प्रदर्शन करते हुए चार में से दो मैच जीते थे।