कोरोना की वजह से नितेंद्र सिंह रावत के लिए टोक्यो 2020 का टिकट पाना हुआ मुश्किल

नितेंद्र सिंह रावत का कहना है कि कई इवेंट लगातार रद्द हो रहे हैं। जिससे अब भारतीय मैराथन धावक खुद को ओलंपिक क्वालिफिकेशन के लिए नहीं देख रहें हैं।

2016 के रियो ओलंपियन और भारत की लंबी दूरी के प्रमुख धावकों में से एक नितेंद्र सिंह रावत (Nitendra Singh Rawat) इस बार ओलंपिक में नज़र नहीं आ सकते हैं। क्योंकि कोरोना वायरस के कारण लंदन मैराथन ओलंपिक क्वालिफिकेशन स्थगित कर दिया गया है।

नितेंद्र सिंह ने ओलंपिक चैनल से बात करते हुए कहा, "दुनिया भर में मौजूदा स्थिति को देखते हुए यह संभावना थी कि ऐसा हो सकता है। शुरु में, हम सियोल (मैराथन) को देख रहे थे, तब उसे रद्द कर दिया गया था। अब लंदन मैराथन भी रद्द हो गया है।" उन्होंने आगे कहा, “मुझे लगता है अगर ऐसे ही हालात बने रहे तो हम आगे कैसे क्वालिफाई करने का प्रयास कर सकते हैं। अब तो मेरे लिए कोई भी ओलंपिक क्वालिफिकेशन रेस उपलब्ध नहीं है, जहां मैं हिस्सा ले सकूं।’’

33 वर्षीय रावत अपने घुटने की चोट के कारण 2019 के अधिकतर सीज़न में बाहर ही थे, वहीं, यह भारतीय धावक ओलंपिक 2020 के लिए दूसरे खेलों में क्वालिफाई करने की उम्मीद कर रहा था। रावत ने भावुक होते हुए कहा, "शुरुआत में, चोट से ऊभरने में मुझे कुछ महीनों का समय लगा, लेकिन जब मैं अब ट्रेनिंग के लिए वापस आया तो कोरोना वायरस का प्रकोप है। वर्तमान में जो स्थिति है, उससे हम आगामी महीनों के लिए भी कोई योजना नहीं बना सकते हैं। दौड़ या रद्द हो रही है या तो स्थगित हो रही है, और इसके साथ ही क्वालिफिकेशन के लिए आखिरी तारीख भी करीब आ रही है।

नितेंद्र सिंह रावत घुटने में चोट की वजह से साल 2019 में ज़्यादातर बाहर रहे थे। तस्वीर साभार: TMM मीडिया
नितेंद्र सिंह रावत घुटने में चोट की वजह से साल 2019 में ज़्यादातर बाहर रहे थे। तस्वीर साभार: TMM मीडियानितेंद्र सिंह रावत घुटने में चोट की वजह से साल 2019 में ज़्यादातर बाहर रहे थे। तस्वीर साभार: TMM मीडिया

आपको ये भी बताते चलें कि एथलीट क्वालिफाईंग मानकों को प्राप्त करके या अपने विश्व एथलेटिक्स के विश्व रैंकिंग (World Athletics World Rankings) के आधार पर 1 जुलाई 2020 तक ओलंपिक क्ववालिफिकेशन हासिल कर सकते है। जबकि, नितेंद्र सिंह रावत अपने रैंकिंग चार्ट में नीचे हैं।

इस बीच, टी गोपी (T Gopi), जो 2017 में एशियाई मैराथन चैंपियनशिप (Asian Marathon Championships) जीतने वाले पहले भारतीय बने थे। तो वहीं, सुधा सिंह (Sudha Singh) ने अपने विश्व एथलेटिक्स के विश्व रैंकिंग के आधार पर ओलंपिक 2020 (Olympic 2020) के लिए क्वालिफाई किया और भारतीय दौड़ का नेतृत्व किया।

टी गोपी को आखिरी बार 2019 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए देखा गया था, जहां उन्होंने 2:15:57 समय में अपनी दौड़ पूरी की थी, जबकि सुधा सिंह ने एक रन के साथ मुंबई मैराथन (Mumbai marathon) का 2020 संस्करण जीता था। जिसमें उन्होंने अपनी घड़ी को देखते हुए 2:45:30 मिनट में दौड़ पूरी की थी।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!