अधिक से अधिक ओलंपियन करें युवा खिलाड़ियों की मदद: अंजू बॉबी जॉर्ज

भारतीय एथलेटिक्स का मानना है कि पूर्व खिलाड़ी जिन्होंने उच्चतम स्तर पर अच्छा प्रदर्शन किया है, वे युवाओं को आगे बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।

विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले एकमात्र भारतीय अंजू बॉबी जॉर्ज (Anju Bobby George) को उम्मीद है कि पूर्व ओलंपियन और स्पोर्ट्स स्टार आगे बढ़कर युवा खिलाड़ियों की मदद करेंगे।

इंस्टाग्राम लाइव सत्र में भारतीय विंटर ओलंपियन शिवा केशवन (Shiva Keshavan) के साथ बात करते हुए भारतीय एथलेटिक्स ने पूर्व एथलीटों के महत्व को देखते हुए युवाओं को संवारने की जिम्मेदारी उन्हें दी।

अंजू ने कहा कि "जब आप सलाह देने के बारे में बात करते हैं तो वह आपको सुनते हैं। मैंने खुद ने देखा है कि जब मैं एक युवा एथलीट को कुछ बताती हूं, तो लोग सुनते हैं। यह इसलिए है क्योंकि वे जानते हैं कि मैं अपने अनुभव से बात कर रही हूं।”

इसके अलावा उन्होंने कहा कि “वे सभी जानते हैं कि मैंने टॉप लेवल पर प्रदर्शन किया है और मुझे पता है कि यहां तक कैसे पहुंचा जा सकता है और प्रदर्शन किया जाता है। उन सभी को पता है कि मैं उन्हें सही सलाह दे रही हूं।”

भारतीय स्टार ने कहा “मुझे उम्मीद है कि हमारे पूर्व ओलंपियन जो अन्य गतिविधियों से जुड़े नहीं हैं उन्हें युवा खिलाड़ी की मदद के लिए आगे आना चाहिए। इसके अलावा उन्हें युवा खिलाड़ियों का समर्थन करना होगा।”

लॉंग जंप की नेशनल रिकॉर्ड होल्डर अंजू बॉबी जॉर्ज ने उम्मीद जताई कि पूर्व एथलीटों अपने करियर से प्रेरणा लेकर भारत में खेलों की स्थिति को और बेहतर बनाएंगे।

अंजू बॉबी जॉर्ज ने आगे कहा कि “अगर आप इसे देखते हैं, तो एथलीट हमेशा अपनी सीमा से परे जाने की कोशिश करते हैं। यह उनके पूरे करियर के दौरान चलता है। हम तब तक कोशिश करते रहते हैं, जब तक हमें अंतिम परिणाम नहीं मिल जाता। यह एक निरंतर प्रयास है।”

उन्होंने कहा कि “पूर्व ओलंपियन खिलाड़ी काफी कुछ कर सकते हैं। वह चमत्कार कर सकते हैं। वे खिलाड़ी जिनके पास टॉप लेवल पर प्रदर्शन करने का अपार अनुभव है, वह युवा खिलाड़ियों की मदद करेंगे तो उन्हें काफी मोटिवेशन मिलेगा।”

अभिनव बिंद्रा (Abhinav Bindra), योगेश्वर दत्त (Yogeshwar Dutt), सुमा शिरूर (Suma Shirur) और गगन नारंग (Gagan Narang) जैसे कई पूर्व ओलंपिक खिलाड़ी भारतीय खेलों के स्तर को बढ़ाने के लिए पर्दे के पीछे से लगातार काम कर रहे हैं तो केरल की स्टार ने उम्मीद जताई कि भविष्य में कई और खिलाड़ी भी ऐसा ही करेंगे।

अंजू बॉबी जॉर्ज की दोहरी ज़िम्मेदारी

43 साल की अंजू बॉबी जॉर्ज साल 2016 से अपनी ऐकेडमी के माध्यम से युवा खिलाड़ियों को ट्रेनिंग दे रही हैं।

पिछले साल अंजू बॉबी जॉर्ज को भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) ने एथलीट आयोग का अध्यक्ष नियुक्त किया था। इस भूमिका के माध्यम से वह युवा एथलीट्स के लिए उचित इको-सिस्टम बनाने पर फोकस कर रही हैं।

साल 2003 वर्ल्ड एथलीट्स चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता ने बताया कि आईओए एथलीट्स कमीशन के सदस्य के तौर पर मुझे लगता है कि हमारे पास एथलीटों का ध्यान रखने की जिम्मेदारी है। यह एथलीट्स के लिए सपोर्ट सिस्टम की तरह काम करता है।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि “मैं एथलीट आयोग को अंतर्राष्ट्रीय निकाय (IOC), भारतीय निकाय (IOA) और एथलीटों के बीच सेतु के रूप में देखती हूं।”

ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता निशानेबाज अभिनव बिंद्रा भी अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति एथलीट्स आयोग के सदस्य है और बॉबी अंजू जॉर्ज के साथ मिलकर एथलीट्स के लिए काम कर रहे हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!