पांच एथलीट जो भविष्य के ओलंपिक में बदल सकते हैं भारत की तस्वीर

गौरव बलियान और विवेक सागर प्रसाद कुछ ऐसे सितारे हैं जिनके नाम हो सकता है भारत का अगला दशक

पिछले 12 महीने भारतीय एथलिटों के लिए क़ामयाबी से भरे रहे हैं, पी वी सिंधु ने जहां अपना और देश के लिए पहली बार बीडब्लूएफ़ वर्ल्ड चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक हासिल किया। तो एआईबीए वूमेंस वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में एम सी मैरीकॉम ने आठवां पदक जीतकर इतिहास रच दिया।

भारतीय शूटर्स के लिए भी ये सीज़न शानदार रहा है, जहां कुल 15 शूटर्स ने टोक्यो 2020 ओलंपिक के लिए कोटा भी हासिल कर लिया। उम्मीद यही होगी कि आगे भी ये क़ामयाबी इसी तरह निरंतरत चलती रहेगी क्योंकि हर खेलों में कई युवा भारतीय एथलीट लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

आइए एक नज़र डालते हैं ऐसे ही पांच एथलिटों पर जो अगले दशक में देश का नाम रोशन कर सकते हैं।

गौरव बलियान

उत्तर प्रदेश के इस युवा पहलवान ने बेहद कम समय में ही अपने प्रदर्शन से सनसनी मचा दी है, 2019 साउथ एशियन गेम्स में भी गौरव बलियान ने आसानी से स्वर्ण पदक पर कब्ज़ा जमाया। जालंधर में हुई राष्ट्रीय चैंपियनशिप में भी इस पहलवान के नाम गोल्ड मेडल था, और ये पदक उहोंने दो बार के कॉमनवेल्थ रेसलिंग चैंपियनशिप के पदक विजेता परवीन राणा को हराकर जीता था।

18 वर्षीय ये युवा खिलाड़ी 74 किग्रा वर्ग में लगातार अच्छा प्रदर्शन करता आ रहा है, दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार भी इसी कैटेगिरी में खेलते हैं। सुशील की जगह लेना बहुत बड़ी चीज़ है लेकिन जिस तरह से ये युवा पहलवान खेल रहा है, उसे देखते हुए आने वाले समय में बलियान से उम्मीद की जा सकती है।

सुमित नागल

2019 यूएस ओपन में भारत के युवा टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल ने ख़ूब सुर्ख़ियां बटोरीं थीं। जब उन्होंने पहले सेट में रोजर फ़ेडरर को शिकस्त देकर सनसनी मचा दी थी, जिसके बाद फ़ेडरर ने मैच के बाद हुई प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा था ‘’नागल का करियर बेहद शानदार होगा’’।

यूएस ओपन में रोजर फ़ेडरर के ख़िलाफ़ खेलते हुए भारतीय टेनिस स्टार सुमित नागल
यूएस ओपन में रोजर फ़ेडरर के ख़िलाफ़ खेलते हुए भारतीय टेनिस स्टार सुमित नागलयूएस ओपन में रोजर फ़ेडरर के ख़िलाफ़ खेलते हुए भारतीय टेनिस स्टार सुमित नागल

डेविस कप में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ हुए मैच में भी सुमित का प्रदर्शन शानदार रहा था, जहां उन्होंने अपने दोनों मुक़ाबले बिना कोई सेट गंवाए जीते। हरियाणा के रहने वाले नागल ने 2015 में विंबलेडन का बॉयज़ ख़िताब जीतकर ही ख़ुद को साबित कर दिया था। सुमित ने अभी अपना करियर शुरू ही किया है, उम्मीद है कि अगले दशक में वह भारत के लिए कई कीर्तिमान स्थापित करेंगे।

दीपक पूनिया

नूर-सुल्तान में हुए वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में भारत के इस युवा पहलवान ने सभी को अपना दिवाना बना लिया था। फ़ाइनल तक का सफ़र दीपक ने बड़ी ही आसानी के साथ तय किया था और अपने हर मुक़ाबले में प्रतिद्वंदी पर एकतरफ़ा जीत हासिल की थी। लेकिन सेमीफ़ाइनल में चोट लगने की वजह से उन्हें फ़ाइनल से अपना नाम वापस लेना पड़ा था, हालांकि दीपक ने रनर अप रहते हुए टोक्यो 2020 ओलंपिक का कोटा अपने नाम कर चुके थे।

दीपक पूनिया ने 2019 वर्ल्ड जूनियर रेसलिंग चेंपियनशिप में भी गोल्ड मेडल पर कब्ज़ा जमाया था। जूनियर वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले वह 18 सालों में भारत के पहले पहलवान बन गए थे। दीपक की ताक़त और मज़बूत कद काठी उन्हें दूसरे पहलवानों से कहीं आगे रखती है। भारतीय फ़ैन्स को भी यही उम्मीद है कि दीपक का प्रदर्शन इसी तरह देश का नाम आगे भी रोशन करता रहेगा।

विवेक सागर प्रसाद

भारत के लिए पिछले कुछ साल हॉकी में बेहतरीन रहे हैं, जिसमें यूरोपेयिन दौरे पर भारत का अनबिटेन प्रदर्शन और फिर रूस पर 11-3 की जीत के साथ टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए क्वालीफ़ाई करना भी शामिल है।

इन प्रदर्शन के पीछे अगर किसी एक खिलाड़ी का निरंतर अच्छा प्रदर्शन देखें तो वह नाम आता है विवेक सागर प्रसाद का, जिन्होंने अब तक देश के लिए 50 से ज़्यादा मुक़ाबले खेल लिए हैं। पिछले सीज़न में इस 19 वर्षीय खिलाड़ी को एफ़आईएच राइज़िंग प्लेयर ऑफ़ द ईयर के पुरस्कार के लिए भी नामित किया गया था। भारतीय कप्तान मनप्रीत सिंह का मिडफ़िल्ड में साथ देने वाले विवेक आने वाले दशक में अपने और देश का नाम और भी रोशन करने की क़ाबिलियत रखते हैं।

एलावेनिल वालारिवन

भले ही एलावेनिल वालारिवन की उम्र अभी 20 साल ही हो, लेकिन अभी ही वह वूमेंस 10 मीटर एयर राइफ़ल में दुनिया की नंबर एक शूटर बन गईं हैं। तमिलनाडु की इस युवा शूटर के लिए ये सीज़न लाजवाब रहा है, कुछ ही महीनों पहले एलावेनिल ने रियो में हुए आईएसएसएफ़ वर्ल्ड कप में अपना पहला गोल्ड मेडल भी जीता है।

एलावेनिल यहीं नहीं रुकीं, उन्होंने इसके बाद पूतियान में भी हुए आईएसएसएफ़ वर्ल्ड कप में एक और स्वर्ण पदक जीतते हुए सनसनी मचा दी। 2018 में इस युवा शूटर ने एशियन जूनियर चैंपियनशिप में भी कांस्य पदक अपने नाम किया था। एलावेनिल ओलंपिक पदक विजेता और पूर्व दिग्गज शूटर गगन नारंग की अकादमी में ट्रेनिंग लेती हैं, अब देखना है कि आने वाले समय में इस शूटर का करियर कितना शानदार होता है।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!