ओमान के खिलाफ अहम मुकाबले से पहले गुरप्रीत संधू ने साझा की अपनी रणनीति

2022 फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर में ओमान के खिलाफ रणनीति पर भारतीय टीम के गोलकीपर, गुरप्रीत सिंह संधू ने अपने विचार साझा किए।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

तीन ड्रॉ और एक हार के बाद भारतीय फुटबॉल टीम अब ओमान के लिए रवाना होगी। क़तर में चल रहे 2022 फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर में बने रहने के लिए भारतीय टीम के लिए इस मुकाबले को जीतने बेहद ज़रूरी हो गया है। जीत से वंचित चल रही भारतीय टीम अपने ग्रुप में फिलहाल चौथे स्थान पर काबिज़ है। कोच इगोर स्टीमाक के मार्गदर्शन के बावजूद भारतीय फुटबॉल टीम 2022 फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर में कोई ख़ास कमाल नहीं कर पाई है, लेकिन इसी टीम के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू मानते हैं कि पिछले मुकाबलों में मिली हार के साथ-साथ टीम को सीख भी मिली है। यह छोटे-छोटे सबक टीम के मनोबल के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

संधू ने ओलंपिक चैनल से बात करते हुए कहा, “फिलहाल घर से बाहर जीतना हमारी जरूरी प्राथमिकता है। वैसे तो घर से बाहर खेलना हमेशा से अहम रहा है। अफ़सोसनाक बात यह रही कि अफ़गानिस्तान के खिलाफ हम 3 अंक नहीं बटोर सके, लेकिन मैं इस बात से काफी खुश हूं कि खिलाड़ियों ने आख़िरी मिनट तक हार नहीं मानी और लड़ने का जज़्बा कायम रखा।”

क़तर के खिलाफ गुरप्रीत सिंह संधू का बेहतरीन प्रदर्शन: फोटो क्रेडिट: एआईआईएफ मीडिया 

ओमान के खिलाफ चुनौतियां

भारत का अगला मुकाबला अब ओमान से होगा। आपको बता दें ओमान विश्व रैंकिंग में 84वें स्थान पर मौजूद है। हालांकि भारतीय सरज़मीं पर खेलते हुए ओमान ने भारत के सामने कड़ी दावेदारी पेश की थी, लेकिन इसके बावजूद संधू का मानना है कि अगर हम अटैक करने में सफल होते हैं तो इसमें कोई शक नहीं कि भारत अपने नाम इस प्रतियोगिता में पहली जीत दर्ज करने में सफल होगा।

उन्होंने आगे कहा, “ओमान के खिलाफ हमारा मुकाबला दिलचस्प होने वाला है। ऐसे में हम पूरी कोशिश करेंगे कि फैसला हमारे ही हक़ में जाए। जब आप ओमान जैसी अच्छी टीम के खिलाफ उन्हीं के घर में खेलते हैं तो उनकी कमियों को उजागर कर फायदा उठाना बहुत ज़रूरी होता है और हम कुछ ऐसा ही करना चाहेंगे। अगर हम खेल को लंबा चलाएं तो हमारे जीतने की संभावनाएं बढ़ जाएंगी।”

गौरतलब है कि भारत के संदेश झिंगन घुटने की चोट के कारण टीम से बाहर हैं और इस वजह से भारतीय टीम का डिफेंस कमज़ोर दिखाई देता है। क़तर के खिलाफ हुए मुकाबले में झिंगन ने उम्दा प्रदर्शन किया और उनकी ग़ैरमौजूदगी का असर आने वाले मुकाबलों में भारतीय टीम पर पड़ सकता है।

इस बाबत संधू ने कहा, “झिंगन का टीम में न होना हमारे लिए एक बड़ा झटका है। वह नेशनल टीम का एक ख़ास हिस्सा थे। लेकिन फुटबॉल जैसे खेल में यह सब चीज़ें होती रहती हैं। हमे बस इन सब चीज़ों के लिए तैयार रहना है और इस बात पर ध्यान देना है कि जो खिलाड़ी उनकी जगह लेगा वह टीम को मुकाबले के दौरान जीत की ओर ले जाए। मैं टीम में शामिल हुए नए साथी खिलाड़ी पर पूरा भरोसा करता हूं।

फीफा क्वालिफिकेशन की दौड़

क्वालिफिकेशन की बात करें तो ओमान ‘ग्रुप ई’ में दूसरे स्थान पर है और क़तर ने अपनी पकड़ पहले पायदान पर बनाई हुई है। हालांकि कोच स्टीमाक ने आने वाले मुकाबले में कुछ फेरबदल के संकेत ज़रूर दिए हैं। अब देखना यह होगा कि क्या इन बदलावों से भारतीय टीम की किस्मत में कोई बदलाव आता है या नहीं। 2022 फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर में ओमान के खिलाफ होने वाले मुकाबले के बाद भारतीय टीम अब सीधा मार्च में क़तर के खिलाफ खेलेगी।