कोरोना वायरस के कारण अब रद्द हो सकता है इंडिया ओपन 2020

एक और महत्वपूर्ण ओलंपिक बैडमिंटन क्वालिफिकेशन इंवेट का आयोजन खतरे में है।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

कोरोना वायरस के कारण टोक्यो ओलंपिक का क्वालिफिकेशन इवेंट इंडिया ओपन के आयोजन पर खतरा मंड़रा रहा है। इस वायरस के कारण इस इवेंट को या तो स्थगित किया जा सकता है या इसकी तारीख को आगे बढ़ाया जा सकता है।

अगर सबकुछ उम्मीद के अनुरुप नहीं रहा तो 24 से 29 मार्च तक 4 लाख डॉलर की ईनामी राशि वाले बीडबल्यूएफ सुपर 500 टूर का आयोजन नहीं हो पाएगा। रद्द होने वाले टूर्नामेंट की सूची में जर्मन ओपन (German Open), पोलिश ओपन (Polish Open) और चाइना मास्टर (China Masters) पहले ही शामिल है।

यह खबर तब आई जब भारत के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने एडवाइडरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि 20 फरवरी से पहले ईरान, साउथ कोरिया, ईरान और इटली से आने वाले लोगों को भारत पहुंचने पर 14 दिन तक जांच के दायरे में रहना होगा।

कोरोना वायरस के प्रभाव को रोकने के लिए चीन और हांगकांग से आने वाले पर्यटकों को 14 दिन तक जांच के दायरे में रखने का नियम पहले से ही लागू है।

इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्रालय और विदेश मंत्रालय (एमईए)(Indian Health Ministry and the Ministry of External Affairs) ने बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (Badminton Association of India) से कहा कि वह चीन बैडमिंटन एसोसिएशन (Chinese Badminton Association) से चीनी खिलाड़ियों के स्वास्थ्य की जानकारी लें। अब चीन बैडमिंटन संघ जो जानकारी देगा, उसके बाद मंत्रालय फैसला लेगी।

चीन अपने 60 सदस्य दल को भारत भेजने की उम्मीद कर रहा है, इस दल में महिला वर्ल्ड नंबर वन चेन युफेई भी शामिल है। भारतीय बैडमिंटन संघ के जनरल सेक्रेटरी अजय सिंघानिया (Ajay Singhania) ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान कहा कि बीडबल्यूएफ इस इवेंट को रद्द करना चाहता है तो वह उनका फैसला होगा क्योंकि फैसला करने का आखिरी अधिकार उन्हीं के पास है।

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों के लिए बड़ा नुकसान

ओलंपिक शुरू होने में अब ज्यादा वक्त नहीं बचा है और अब इससे ठीक पहले इस तरह के इवेंट रद्द होने से भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों के पास अवसर लगातार कम हो रहे हैं।

बीडबल्यूएफ रैंकिंग में 10वें स्थान पर काबिज साई प्रणीत और 12वें स्थान पर श्रीकांत किदांबी तो राहत की सांस ले सकते हैं लेकिन पारुपल्ली कश्यप के लिए अपनी रैंकिंग में सुधार की जरूरत है क्योंकि उनकी रैंकिंग 25वीं है।

दुनिया के 25वें नंबर के खिलाड़ी उम्मीद कर रहे होंगे कि इंडिया ओपन 2020 का आयोजन अच्छी तरह हो जाए।

पारुपल्ली कश्यप ही नहीं इस रेस में कई और खिलाड़ी शामिल है। एच एस प्रणॉय (HS Prannoy) 27वें, युवा खिलाड़ी लक्ष्य सेन 29वें और वर्मा भाई सौरभ और समीर 30वें और 31वें स्थान पर है और सभी को उम्मीद है कि वह अपनी रैंकिंग को सुधार लेंगे।

वहीं महिला खिलाड़ियों की बात करें तो पीवी सिंधु (PV Sindhu) 6वें स्थान पर कायम है तो साइना नेहवाल (Saina Nehwal) का स्थान 18वां है। इसके बाद अश्मिता चालिहा (Ashmita Chaliha) का नंबर आता है जो 79वें पायदान पर है।