रानी रामपाल बनीं एथलीट ऑफ़ द ईयर की दावेदार

टोक्यो 2020 में क्वालिफाई करने के बाद भारतीय हॉकी कप्तान रानी रामपाल जीत सकतीं हैं “एथलीट ऑफ़ द ईयर 2019” अवार्ड।  

लेखक जतिन ऋषि राज ·

किसी भी खेल को अगर शिद्दत से खेला जाए तो वह आपको सम्मान देने से नहीं चूकता। इस नए साल की शुरुआत भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल के लिए काफी अच्छी रही है। दरअसल, इंटरनेशनल वर्ल्ड गेम्स एसोसिएशन द्वारा रामपाल को “एथलीट ऑफ़ द ईयर 2019” के दावेदारों में शामिल किया गया है।

रामपाल के साथ खेल जगत से अन्य 25 नाम और भी हैं जो इस सम्मानजनक पुरस्कार के लिए लड़ रहे हैं। उनके पिछले साल के प्रदर्शन को देखते हुए FIH ने यह निर्णय लिया है।

साल 2019  भारतीय महिला हॉकी टीम के लिए शानदार रहा और इसमें सबसे ज़्यादा योगदान रामपाल का ही था। सबसे सुनहरे पल तो इस खेमे में तब आए जब इस टीम ने 2020 ओलंपिक गेम्स के लिए क्वालिफाई किया। 

टोक्यो 2020 क्वालिफायर में यूएसए के खिलाफ दूसरे लेग में भारत 0-4 से पीछे चल रहा था। एक बार तो लगा कि टोक्यो का टिकट इस टीम के हाथ से निकल जाएगा लेकिन कप्तान ने हिम्मत नहीं हारी। उन्होंने अपनी टीम से अलफ़ाज़ साझा करते समय उन्हें बस रणनीति पर गौर करने की सलाह दी। शायद इसी का नतीजा रहा कि भारत ने इसके बाद एक भी अधिक गोल नही खाया। इसके बाद ज़रूत थी तो अपने प्रतिद्वंदी के खिलाफ गोल दागने की और कप्तान रामपाल ने ठीक ऐसा ही किया और इसके तहत ओलंपिक गेम्स के लिए अपनी जगह पुख्ता की। रामपाल के गोल की वजह से भारत अब जापान में ओलंपिक गेम्स में खेलता नज़र आएगा। 

भारतीय हॉकी टीम की सफलता में बड़ी भूमिका निभाने के कारण रानी रामपाल के नाम की सिफारिश की गई है। यह कहना गलत न होगा कि वह इस सम्मान के लिए वे एक सच्ची हकदार हैं।

गौरतलब है कि IWGA द्वारा रूसी खिलाड़ी मरीना चेर्नोवा और जॉर्जी पटाराइआ को साल 2018 प्लेयर ऑफ़ द ईयर घोषित किया गया था। वोटिंग की बात की जाए तो इन खिलाड़ियों ने 159, 348 के आंकड़ों को छुआ जिस वजह से वे अमरीकी लिफ्टर जेनिफ़र थॉम्पसन से आगे रहें।