भारतीय पुरुष टीम ने एफआईएच क्वालिफायर में हासिल किया ओलंपिक टिकट

भारतीय पुरुष टीम ने रूस को दूसरे क्वालिफायर में 7-1 से करारी शिकस्त देकर ओलंपिक टिकट हासिल कर लिया है।

लेखक रितेश जायसवाल ·

भारतीय हॉकी टीम के लिए शनिवार का दिन बेहद खास रहा। भुवनेश्नवर के कलिंगा स्टेडियम मे खेले गए दो चरण के ओलंपिक क्वालिफायर मैचों में भारत की महिला हॉकी टीम ने अमेरिका को एग्रीगेट स्कोर में 6-5 से हराते हुए ओलंपिक का टिकट हासिल किया।

जिसके बाद पुरुष टीम ने रूस को दूसरे क्वालिफायर में 7-1 और एग्रीगेट स्कोर में 11-3 से करारी शिकस्त देते हुए 2020 में होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिए अपनी जगह पक्की कर ली।

भारत के लिए ललित उपाध्याय ने 17वें, आकाशदीप ने 23वें, 29वें मिनट में गोल किए। वहीं 47वें मिनट में नीलकांत शर्मा ने गोल किया। इसके बाद रूपिंदर पाल सिंह ने 48वें, 59वें मिनट और अमित रोहिदास ने 60वें मिनट में मिले पेनाल्टी कॉर्नर के जरिए गोल किए। वहीं मेहमान टीम रूस की ओर से एलेक्सी सोबोलेव्स्कली मैच के 30वें सेकेंड में ही इकलौता गोल करने में कामयाब हो सके।

मैच के चारों क्वार्टर का संक्षिप्त उल्लेख

भारत और रूस के बीच शुरू हुए दूसरे क्वालिफायर मैच के शुरु होते ही पहला गोल रूस की ओर से देखने को मिला। जो एलेक्सी सोबोलेव्स्कली ने 30वें सेकेंड में ही पहला गोल दागकर टीम को बढ़त दिलवा दी। इसके बाद पहले क्वार्टर में किसी भी दर की ओर से कोई और गोल देखने को नहीं मिला।

दूसरा गोल भारत की ओर से अपना सौवां अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे ललित उपाध्याय ने 17वें मिनट में किया। जिससे भारत और रूस का स्कोर 1-1 के साथ बराबर हो गया। इसके बाद आकाशदीप सिंह ने 23वें और 29वें मिनट में लगातार दो गोल मारे। पहले हाफ की समाप्ति तक तीन गोल की बदौलत भारतीय टीम 3-1 की बढ़त हासिल कर ली।

मैच के तीसरे क्वार्टर में रूस ने फिर एक बार वापसी करने की कोशिश की। हालांकि, इस क्वार्टर में किसी भी टीम की तरफ से कोई गोल नहीं हुआ। नतीजतन 3-1 से भारतीय टीम के पक्ष में बढ़त बरकरार रही।

रूस के खिलाफ भारत की 7-1 से मिली जीत के मैच की एक झलक। फोटो क्रेडिट : हॉकी इंडिया

चौथे क्वार्टर के शुरुआत होते ही भारतीय टीम ने रूस के ऊपर दबाव बनाना शुरू कर दिया। नीलकांत ने 47वें मिनट में गोल किया। जिसके बाद रूपिंदर पाल सिंह ने 48वें और 59वें मिनट में लगातार दो गोल दागे।

फिर अमित रोहिदास ने 60वें मिनट में मिले पेनाल्टी कॉर्नर के जरिए एक और गोल किया जिसके परिणामस्वरूप भारतीय टीम ने 7-1 से रूस पर शानदार जीत दर्ज कर ली।

इसी के साथ भारतीय महिला हॉकी टीम के बाद पुरुष हॉकी टीम भी ओलंपिक का टिकट हासिल करने में कामयाब रही।