भारतीय पैडलर्स ने 2019 दक्षिण एशियाई खेलों में जीता शीर्ष पुरस्कार

भारतीय युगल टीम ने टेबल टेनिस में अपना दबदबा बनाया जबकि ताइक्वांडो के दल ने टैली में छह और पदक जोड़े।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

नेपाल के काठमांडू में चल रहे 2019 दक्षिण एशियाई खेलों में बुधवार को भी भारतीय खिलाड़ियों ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा। एक ओर जहां टेबल टेनस की युगल टीम ने स्पर्धा में शीर्ष स्थान प्राप्त किया तो वहीं दूसरी ओर ताइक्वांडो के दल ने अपनी पदक टैली में छह और मेडल जोड़े।

टेबल टेनिस में भारतीय खिलाड़ियों ने पूरी तरह दबदबा बनाए रखते हुए युगल वर्ग में तीनों फाइनल आसानी से जीत लिए और हरमीत देसाई, एंथनी अमलराज और मधुरिका पाटकर ने भारत की झोली में शीर्ष पदक डाल दिया।

पुरुष युगल फाइनल में, देसाई और अमलराज को स्वर्ण पदक के लिए हमवतन सानिल शेट्टी और सुधांशु ग्रोवर को हराने के लिए एक गेम की रैली करनी पड़ी। देसाई और अमलराज 8-11, 11-7, 11-7, 11-5, 8-11, 12-10 से मैच जीतने में कामयाब रहे। इस बीच, मेज़बान नेपाल का प्रतिनिधित्व करने वाले संतू श्रेष्ठ और विनेश खनिया ने चैंबर्स गिनेज और रश्मिका कृष्णानंद की श्रीलंकाई जोड़ी पर अपनी जीत के साथ ब्रॉन्ज़ जीतने में सफलता हासिल की।

दक्षिण एशियाई खेलों में फाइनल का द्वंद

महिला युगल में, मधुरिका पाटकर और श्रीजा अकुला की जोड़ी ने पोडियम पर शीर्ष स्थान प्राप्त किया और साथी देश की सुतिर्था मुखर्जी और आयुका मुखर्जी पर एक शानदार जीत हासिल की।

शुरुआती गेम 2-11 से हारने के बाद, पाटकर और अकुला ने चौथी हार मिलने से पहले टाई में शानदार वापसी की और पांचवा मैच जीतने में सफल रहीं। लेकिन मुखर्जी की जोड़ी इस दबाव को नहीं झेल सकी और उनके प्रतिद्वंदियों ने 2-11, 11-8, 11-8, 11-6, 5-11, 11-5 के स्कोरलाइन के साथ गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया।

हालांकि, सुतीर्था ने दिन में बाद में खुद के प्रदर्शन को बेहतर किया और देसाई के साथ मिलकर मिश्रित युगल का खिताब जीतने के लिए 11-6, 9-11, 11-6, 11-6, 11-8 के स्कोर से अमलराज और आयुका पर जीत हासिल की।

सुमीतारा मुखर्जी (बाएं) दक्षिण एशियाई खेलों में हरमीत देसाई के साथ मिश्रित युगल खिताब जीतने के लिए किया शानदार प्रदर्शन।

दक्षिण एशियाई खेलों में ताइक्वांडो की खुशी

पूमासे में अपने बेहतरीन प्रदर्शन के बाद, भारतीय ताइक्वांडो टीम ने बुधवार को ओलंपिक अनुशासन में भी कई पदक जीते। पुरुषों के 74 किलोग्राम वर्ग में उलटफेर करते हुए, भारत के जरनल सिंह ने पाकिस्तान के जबरन खान पर 41-26 की आसान जीत दर्ज की। इसी बीच सौरव (63 किग्रा) और गगनजोत गिल (62 किग्रा) को अंतिम बाउट में हार के बाद ब्रॉन्ज़ पदक से ही संतोष करना पड़ा। चैतन्य विजया इनामदार ने +87 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में अपनी हार के बाद सिल्वर मेडल जीता।

महिलाओं के वर्ग में, लतिका भंडारी और रोडाली बरुवा बुधवार को अपने गोल्ड मेडल जीतने वाले प्रदर्शन के साथ भारत की शीर्ष प्रदर्शन करने वाली जोड़ी रही। 53 किग्रा वर्ग में, भंडारी ने गोल्ड के लिए पाकिस्तान की अनीला आयशा अफसर को 40-10 से हराया जबकि बरुआ नेपाल की निशा रावल को 32-9 से हराने में सफल रहीं।

इस बीच, भारतीय पुरुषों की खो-खो टीम ने भी फाइनल में बांग्लादेश पर 16-9 की शानदार जीत दर्ज की। बुधवार के प्रदर्शन के साथ 13वें दक्षिण एशियाई खेलों में भारत पदक तालिका में 29 गोल्ड, 15 सिल्वर और 29 ब्रॉन्ज़ मेडल के साथ दूसरे स्थान पर है जबकि नेपाल 34 गोल्ड, 23 सिल्वर और 13 ब्रॉन्ज़ के साथ पदक तालिका में शीर्ष स्थान पर काबिज़ है।