2019 साउथ एशियन गेम्स में भारत ने लगाया स्वर्ण का शतक

काठमांडू में जारी साउथ एशियन गेम्स 2019 में भारतीय पहलवानों ने जीते 4 स्वर्ण पदक, भारत के नाम अब तक 106 स्वर्ण पदक।

लेखक सैयद हुसैन ·

नेपाल की राजधानी काठमांडू में चल रहे साउथ एशियन गेम्स 2019 में भारत का वर्चस्व लगातार क़ायम है। शनिवार को भारतीय पहलवानों ने भी कमाल का प्रदर्शन करते हुए 4 गोल्ड मेडल जीतते हुए अब तक गोल्ड मेडल का आंकड़ा 106 पहुंचा दिया है, जबकि 69 रजत और 35 कांस्य पदक भी भारत की झोली में आ चुके हैं।

97 किग्रा वर्ग में भारत के दिग्गज पहलवान और राष्ट्रीय चैंपियन सत्यव्रत कादियान ने कुश्ती में शनिवार को पहला गोल्ड मेडल दिलाया। उन्होंने पाकिस्तान के ताबियार रज़ा को 10-1 से करारी शिकस्त दी, कादियान ने हाल ही में रियो ओलंपिक 2016 में भारत को कांस्य पदक जिताने वाली महिला पहलवान साक्षी मलिक से शादी की है।

125 किग्रा फ़्री स्टाइल वर्ग में भी भारत के साक्षी मलिक का दबदबा क़ायम रहा, फ़ाइनल में उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी पर 8-2 की एक तरफ़ा जीत के साथ स्वर्ण पदक हासिल किया।

महिला फ़्री स्टाइल कुश्ती में ठीक यही तस्वीर सामने आई, शनिवार को भारतीय महिला पहलवानों ने भी काठमांडू में अपना दमखम दिखाते हुए देश का नाम रोशन किया।

साउथ एशियन गेम्स 2019 में कुश्ती के फ़्री स्टाइल 65 किग्रा वर्ग में भारत के पहलवान अमित कुमार ने भी स्वर्ण पदक हासिल किया

महिला पहलवान गुरशरणप्रीत कौर ने 76 किग्रा वर्ग में एक हफ़्ते पहले राष्ट्रीय चैंपियनशिप में किए गए अपने प्रदर्शन को यहां भी जारी रखा। उन्होंने श्रीलंकाई पहलवान को फ़ाइनल में 10-0 से हराते हुए भारत के सिर एक और स्वर्ण पदक किया। पंजाब की इस पहलवान ने हाल ही में कुश्ती में वापसी की है, वह क़रीब 7 साल से इस स्तर की कुश्ती से दूर थीं। लेकिन कहीं से भी ऐसा नहीं लगा कि कौर वापसी कर रही हैं, उन्होंने धमाकेदार अंदाज़ में अपनी प्रतिद्वंदी पर जीत दर्ज की।

कौर की ही तरह सरिता मोर को भी 57 किग्रा वर्ग में गोल्ड मेडल जीतने के लिए ज़्यादा पसीना नहीं बहाना पड़ा।

इससे पहले शुक्रवार को भारत के लिए शीतल तोमर (50 किग्रा), पिंकी (57 किग्रा), अमित कुमार (65 किग्रा) और राहुल कुमार (65 किग्रा) ने गोल्ड मेडल जीतते हुए भारत को कुश्ती में शानदार आग़ाज़ दिलाया था।

फ़ाइनल में पहुंची भारतीय फ़ुटबॉल टीम

शनिवार को साउथ एशियन गेम्स में फ़ुटबॉल से भी देश को एक अच्छी ख़बर मिली, जब भारतीय महिला फ़ुटबॉल टीम ने फ़ाइनल में प्रवेश कर लिया।

भारतीय महिला टीम ने लगातार तीसरी जीत दर्ज करते हुए मेज़बान नेपाल को रोमांचक मुक़ाबले में 1-0 से शिकस्त देकर गोल्ड मेडल मैच में प्रवेश कर लिया है। भारतीय कप्तान बाला देवी का 18वें मिनट में किया गया गोल ही इस मैच में दोनों टीमों के बीच फ़र्क़ रहा। दोनों ही टीमों ने लगातार बेहतरीन खेल खेला, लेकिन इसके बाद दोनों ही टीमों की ओर से कोई और गोल नहीं हो सका और इस तरह भारत को जीत हासिल हुई। रविवार को खेले जाने वाले फ़ाइनल में भी भारतीय महिला टीम का सामना नेपाली महिला टीम से होगा।

स्कॉयश में भी भारत ने पक्का किया पदक

भारत के लिए शनिवार को ख़ुश होने का मौक़ा स्कॉयश से भी आया, जहां हिन्दुस्तान ने कुछ पदक पक्के कर लिए हैं।

शनिवार को खेले गए व्यक्तिगत मुक़ाबलों में भारत के हरिन्दर पाल संधु ने पाकिस्तान के फ़रहान महबूब को सांस रोक देने वाले मैच में 9-11, 11-8, 6-11, 11-8, 11-7 से शिकस्त देकर प्रतियोगिता के फ़ाइनल में स्थान बना लिया है। दूसरी ओर, संधु के हमवतन अभय सिंह हारकर बाहर हो गए। पाकिस्तान के तय्यब असलम जो टूर्नामेंट में सर्वोच्च वरीयता प्राप्त खिलाड़ी हैं, उनके हाथों अभय को 6-11, 11-4, 12-14, 12-10, 11-7 से हार मिली।

महिला एकल मुक़ाबलों में भारत के सामने कोई कठिन चुनौती नहीं आई, सुनैना कुरुविला और तनवी खन्ना ने अपने अपने मुक़ाबले जीतते हुए फ़ाइनल में जगह बना ली है यानी गोल्ड मेडल का मुक़ाबला भारतीय खिलाड़ियों के बीच ही होगा। कुरुविला ने जहां पाकिस्तान की फ़ैज़ा ज़फ़र को 7-9, 11-6, 11-10, 11-6 को हराया तो खन्ना ने पाकिस्तान की ही मदीना ज़फ़र को 12-10, 11-6, 11-7 से मात देकर फ़ाइनल में एंट्री ली।

मुक्केबाज़ों ने भी लहराया परचम

भारतीय मुक्केबाज़ों ने भी साउथ एशियन गेम्स में अपना कमाल का फ़ॉर्म दिखाते हुए अपने अपने कैटेगिरी के फ़ाइनल में जगह बना ली है।

इनमें सबसे आगे रहे AIBA वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में कांस्य पदक विजेता मनीष कौषिक, 64 किग्रा वर्ग में कौषिक ने आसानी के साथ श्रीलंकाई मुक्केबाज़ पोन्नाविला विदानालागे को 5-0 से हराते हुए गोल्ड मेडल मैच में प्रवेश किया।

कौषिक के अलावा, 2017 एशियन चैंपियनशिप कांस्य पदक विजेता शिक्षा (54 किग्रा), एस कलाइवानी (48 किग्रा), सचिन सिवाच (56 किग्रा), अंकित खताना (75 किग्रा), विनोद तंवर (49 किग्रा) और गौरव चौहान (91 किग्रा) ने भी फ़ाइनल में जगह बना ली है।