भारतीय महिला टेबल टेनिस टीम क़रीबी मुक़ाबले में हार के साथ टोक्यो 2020 की दौड़ से बाहर

17वीं वरीयता प्राप्त इस टीम ने इससे पहले राउंड़ ऑफ़ 32 में स्वीडन को दी थी शिकस्त

लेखक सैयद हुसैन ·

शनिवार को पुर्तगाल के गोंदोमर में ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स मुक़ाबले में भारतीय महिला पैडलरों को एक बार फिर हार का सामना करना पड़ा, दो मैचों में भारतीय महिला टेबल टेनिस टीम की ये लगातार दूसरी हार है। मनिका बत्रा और कंपनी को अब फ़्रांस के हाथों क्वार्टर फ़ाइनल प्लेट इवेंट में 2-3 से हार झेलनी पड़ी।

भारतीय महिला टेबल टेनिस टीम के लिए प्लेट इवेंट का ये मुक़ाबला टोक्यो 2020 का टिकेट हासिल करने का भी आख़िरी विकल्प था। इससे पहले शुक्रवार को 17वीं वरीयता प्राप्त भारतीय महिला टीम को रोमानिया के हाथों भी 2-3 से हार मिली थी।

अगर पहले स्टेज के क्वार्टर फ़ाइनल में भारतीय टीम जीत जाती तो ओलंपिक में उनकी जगह भी पक्की हो जाती।

अहियका और सुतीर्था मुखर्जी ने दिलाया था अच्छा आग़ाज़

रोमानिया के ख़िलाफ़ अपना पहला मुक़ाबला हारने वाली अहियका मुखर्जी और सुतीर्था मुखर्जी ने शनिवार को फ़्रांस की पैडलर जोड़ी स्टीफ़ेन लेफ़लाइट और जिया नान युआन के ऊपर में 3-2 से जीत दर्ज की।

पहला गेम 11-7 से जीतने के बाद लगातार दो गेम में भारतीय जोड़ी को हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन इसके बाद कमाल की वापसी करते हुए भारतीय पैडलरों ने मुक़ाबला 11-7, 6-11, 10-12, 11-4, 11-8 से अपने नाम किया।

मिला जुला रहा मनिका का प्रदर्शन

भारत 1-0 की बढ़त के बाद अब टेबल पर थीं भारत की नंबर-1 महिला पैडलर और वर्ल्ड रैंकिंग में 61वें स्थान पर मौजूद मनिका बत्रा। लेकिन मनिका बत्रा ने निराश किया, उन्हें फ़्रांस की मैरी मिगोट ने 11-7, 3-11, 11-9, 3-11, 11-7 से हराते हुए स्कोर 1-1 कर दिया था।

इसके बाद सुतीर्था मुखर्जी ने भी अपना मुक़ाबला हारते हुए भारत की मुश्किलें बढ़ा दी थीं, उन्हें जिया नान युआन ने सीधे गेम्स में शिकस्त देते हुए फ़्रांस को भारत के ऊपर 2-1 की बढ़त दिला दी थी।

हालांकि अगले मुक़ाबले में मनिका बत्रा ने वापसी करते भारत को चौथे मुक़ाबले में आसान जीत दिला दी। मनिका ने स्टीफ़ेन लेफ़लाइट को सीधे गेम्स में मात दी और अब स्कोर 2-2 से बराबर हो गया था।

मनिका बत्रा 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में सिंगल्स और टीम इवेंट में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली खिलाड़ी हैं।

रोमांचक मुक़ाबले में हारीं अहियका मुखर्जी

आख़िरी और निर्णायक मुक़ाबला इन फ़ॉर्म मैरी मिगोट और अहियका मुखर्जी के बीच था, मेरी ने अपने पिछले मैच में मनिका पर शानदार जीत दर्ज की थी। तो डबल्स मुक़ाबले में अहियका ने दिलाई थी शनिवार को भारत की पहली जीत।

भारतीय पैडलर ने शुरुआत भी धमाकेदार अंदाज़ में की और पहला गेम 11-6 से जीता, हालांकि दूसरे गेम में मैरी ने 11-8 से बाज़ी मारी थी। लेकिन तीसरा गेम एक बार फिर 11-5 से शानदार अंदाज़ में जीतते हुए अहियका 2-1 से आगे थीं, और उन्हें अगले दो में से बस एक और गेम में जीत की दरकार थी, जो भारतीय महिला टीम को भी टोक्यो 2020 का टिकेट दिलाने के लिए काफ़ी था।

लेकिन फ़्रेंच खिलाड़ी ने हिम्मत नहीं हारी और अगले दोनों गेम 11-9, 11-9 से जीतते हुए अहियका के साथ साथ सभी भारतीय फ़ैंस की उम्मीदों को भी ध्वस्त कर दिया।

टेबल टेनिस में अब भारत के सामने चुनौती ?

भारतीय टेबल टेनिस फ़ैंस की नज़र अब भारतीय पुरुष पैडलरों पर है, जिनके सामने क्वार्टर फ़ाइनल प्लेट इवेंट में ही क्ज़ेच रिपबल्कि की चुनौती है। आईटीटीएफ़ वर्ल्ड टीम क्वालिफ़िकेशन का ये मुक़ाबला जो शनिवार को ही होना है, इसे जीतकर भारतीय पुरुष टेबल टेनिस टीम टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफ़ाई कर जाएगी।