भारतीय तीरंदाज़ों को अब है ट्रेनिंग कैंप्स का इंतज़ार, 2021 आर्चरी वर्ल्ड कप की तारीख़ों का हुआ ऐलान

सीनियर और यूथ वर्ल्ड आर्चरी चैंपियनशिप का आयोजन अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में क्रमश: सितंबर और अक्तूबर के महीने प्रस्तावित है।

लेखक सैयद हुसैन ·

भारतीय तीरंदाज़ों को अब ट्रेनिंग कैंप्स के एक बार फिर शुरू होने का बेसब्री से इंतज़ार है, क्योंकि सोमवार को वर्ल्ड आर्चरी ने वर्ल्ड कप और वर्ल्ड आर्चरी चैंपियनशिप की तारीख़ों का ऐलान कर दिया है।

हालांकि अभी भी 2021 आर्चरी वर्ल्ड कप के फ़ाइनल स्टेज की मेज़बानी किस देश को मिलेगी इस पर मुहर लगना बाक़ी है। तीन स्टेज वाली इस प्रतियोगिता का आयोजन गुआतेमाला सिटी, शंघाई और पेरिस में अप्रैस से जून 2021 के बीच होगा।

पहला स्टेज गुआतेमाला सिटी में 19 अप्रैल से 25 अप्रैल 2021 के बीच खेला जाएगा जबकि दूसरा स्टेज शंघाई में 17 से 23 मई के बीच प्रस्तावित है और तीसरे स्टेज की मेज़बानी पेरिस के पास होगी जहां 22 से 27 जून के बीच प्रतियोगिता खेली जाएगी। इस प्रतियोगिता का फ़ाइनल स्टेज सितंबर-अक्तूबर 2021 में खेला जाएगा जिसकी मेज़बानी किसे मिलेगी इस पर फ़ैसला आना बाक़ी है।

2021 आर्चरी वर्ल्ड कप का फ़ाइनल स्टेज सितंबर-अक्तूबर 2021 में प्रस्तावित है लेकिन मेज़बान देश के नाम पर मुहर नहीं लगी है।

वर्ल्ड अर्चरी ने इस प्रतियोगिता को लेकर एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की है जिसमें लिखा गया है, ‘’इस समय हम यही उम्मीद कर सकते हैं ये सारे इवेंट 2021 में सामान्य तौर पर आयोजित किए जाएंगे। ‘’

''हालांकि, उस समय के हिसाब से और सभी के स्वास्थ को ध्यान में रखते हुए इस पर दोबारा विचार किया जा सकता है। एथलीट्स और कोच की सुरक्षा का ख़्याल हमारी पहली प्राथमिकता है जिसपर विशेष ध्यान रखा जाएगा।''

वर्ल्ड कप के अलावा वर्ल्ड आर्चरी चैंपियनशिप भी अमेरिका के यांकतोन में 19 से 26 सितंबर के बीच प्रस्तावित है। जबकि वर्ल्ड आर्चरी यूथ चैंपियनशिप ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में 11 से 17 अक्तूबर के बीच खेली जाएगी।

भारतीय तीरंदाज़ी संघ ट्रेनिंग कैंप्स को लेकर सजग

मार्च से ही तमाम अंतर्राष्ट्रीय खेल पूरी तरह से निलंबित हैं, लिहाज़ा इस दौरान देश में जारी लॉकडाउन में भारतीय तीरंदाज़ भी अपने घर में ही सुरक्षित हैं।

AAI के प्रवक्ता ने ओलंपिक चैनल के साथ बातचीत में कहा कि तीरंदाज़ अपने घर पर ही लक्ष्य की प्रैक्टिस कर रहे हैं।

''एक तीरंदाज़ को कम से कम 50 मीटर की दूरी के साथ प्रैक्टिस करनी होती है, जो उन्हें घर पर मिलना मुश्किल है। इसलिए वे सभी 10 मीटर की दूरी पर अपने घर में ही प्रैक्टिस कर रहे हैं और अब उन्हें एक ट्रेनिंग कैंप की दरकार है।''

इससे पहले भारतीय तीरंदाज़ों को AAI ने राष्ट्रीय प्रतियोगिताएं जुलाई के अंत तक शुरू की जा सकती हैं जिसे अब आगे की तारीख़ के लिए टाल दिया गया है।

AAI के प्रवक्ता ने राष्ट्रीय इवेंट की नई तारीखों के बारे में बताया कि, ‘’हम लोग कोशिश कर रहे हैं हम इसे सितंबर के पहले हफ़्ते तक शुरू कर सकते हैं।‘’

भारतीय मेंस टीम ने टोक्यो ओलंपिक के लिए सभी उपलब्ध कोटा हासिल कर लिए हैं।

हालांकि ऐसे में जब देश में दूसरे खेल संस्थान और कैंप्स धीरे-धीरे शुरू हो रहे हैं तो AAI को भी उम्मीद है कि टोक्यो ओलंपिक की तैयारियों के लिए वह भी जल्द ही कैंप शुरू कर सकते हैं।

''हमने दो-तीन स्थानों को चयनित किया है, लेकिन अभी भी जो हालात कोरोना वायरस (COVID-19) के बने हुए हैं, उसको भी ध्यान में रखते हुए दो स्थान पर नज़र है। एक है पुणे में स्थित आर्मी इंस्टिट्यूट और दूसरा झारखंड में स्थित टाटा अकादमी।''

मेंस टीम का व्यक्तिगत और टीम कोटा जहां अतानु दास (Atanu Das) एंड कंपनी को हासिल हुआ है, तो वहीं भारत की नज़र वुमेंस इवेंट में ज़्यादा से ज़्यादा स्थान हासिल करने पर होगी। जहां अभी टोक्यो 2020 में जगह बनाने वाली एकमात्र भारतीय महिला तीरंदाज़ दीपिका कुमारी (Deepika Kumari) ही हैं।

ओलंपिक क्वालिफ़िकेशन के लिए आख़िरी प्रतियोगिता पेरिस वर्ल्ड कप स्टेज होगी जो 18 से 21 जून 2021 के बीच खेली जाएगी।

आर्चर की शारीरिक रचना: अतानु दास की छिपी हुई ताक़त

हम भारतीय आर्चर अतानु दास को स्पोर्ट्स साइंस लैब में ले गए ताकि हम इस ओलंपि...