सिर्फ ओलंपिक के बारे में सोचने से ही चिंता बढ़ जाती है: हिमा दास

भारतीय धावक हिमा दास फिलहाल रिकवरी पर हैं और टोक्यो 2020 के लिए उनका फ़ोकस 300 मीटर पर टिका हुआ है।

लोअर बैक की इंजरी से उबर रहीं भारतीय 400 मीटर धावक हिमा दास (Hima Das) ने नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ स्पोर्ट्स (National Institute of Sports - NIS), पटियाला में ट्रेनिंग शुरू कर दी है।

हिमा दास ने NIS पटियाला में आउटडोर ट्रेनिंग शुरू कर दी है  
हिमा दास ने NIS पटियाला में आउटडोर ट्रेनिंग शुरू कर दी है  हिमा दास ने NIS पटियाला में आउटडोर ट्रेनिंग शुरू कर दी है  

एशियन गेम्स 2018 में हिमा दास को पहली बार लोअर बैक की शिकायत आई थी। हालांकि दर्द के बावजूद भी हिमा ने उस प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल अपने नाम किए था। गौरतलब है कि इस भारतीय धावक ने 400 मीटर और 4x400 मीटर मिक्स्ड और वुमेंस रिले में मेडल अपने नाम किए थे।

‘ढिंग’ एक्सप्रेस के नाम से मशहूर हिमा ने ट्रीटमेंट के बाद यूरोप में लगातार 5 गोल्ड मेडल पर अपने नाम की मुहर लगा दी थी। आपको बता दें कि इन मेडल में केवल एक ही मेडल उन्होंने 400 मीटर में जीता था और बाकी सभी मेडल उनके हाथ 300 मीटर में आए थे। हालांकि उसके बाद ही इस एथलीट को दोबारा बैक की समस्या हुई और अब वह उसे पूरी तरह ठीक करने की जद्दोजहद में जुटीं हुईं हैं।

हिमा दास ने पीटीआई से बात करते हुए कहा “इसकी प्रक्रिया अभी चल रही है और मैं आउटडोर ट्रेनिंग के लिए फिट हूं और मैं यह पिछले 30-40 दिन से कर रही हूं।”

“हाल फ़िलहाल में कोई स्पर्धा नही है तो ऐसे में न तो हमने ट्रेनिंग के स्तर को कम किया और न ही उसे तीव्र बनाया। हम मध्यम तीव्रता की ट्रेनिंग ही कर रहे हैं।”

400 मीटर की जूनियर वर्ल्ड चैंपियन ने आगे कहा “यहां बहुत गर्मी है तो ऐसे में हम सुबह ही ट्रेनिंग करते हैं। शाम को हमारे पास समय होता है तो मैं साइक्लिंग करती हूं और क्रिकेट बॉल से बॉलिंग भी करती हूं।”

ओलंपिक की तैयारियों के लिए काफ़ी समय है

फरवरी के महीने में यह कहा गया था कि टोक्यो ओलंपिक गेम्स के लिए भारतीय धावक हिमा दास 400 की जगह 200 मीटर में स्पर्धा करना चाहती हैं और उस पर काम भी कर रहीं हैं।

अब जब कोरोना वायरस (COVID-19) की वजह से टोक्यो 2020 पोस्टपोन हो चुका है और एथलेटिक फेडरेशन ऑफ़ इंडिया (Athletic Federation of India’s - AFI) ने सभी नेशनल इवेंट को भी रोक दिया है तो ऐसे में हिमा को आगे बढ़ने का अतिरिक्त समय मिल गया है।

हालांकि अभी हिमा दास की रिकवरी भी चल रही और अभी नेशनल इवेंट की घोषणा नहीं हुई है तो ऐसे में हिमा दास बहुत आगे का प्लान नहीं करना चाहती हैं।

“मैं ओलंपिक क्वालिफिकेशन के बारे में नहीं सोच रही क्योंकि उससे चिंता बढ़ जाती है। अभी ओलंपिक गेम्स के लिए एक साल का समय और है।”हिमा दास ने आगे कहा “पहले तो हम सबको दुआ करनी चाहिए कि यह महामारी जल्द ही हट जाए। उसके बाद एथलेटिक का सीज़न शुरू होगा और अगले साल टोक्यो 2020 में क्वालिफाई करने का काफी समय भी मिल जाएगा।”

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!