भारतीय ट्रैक एंड फील्ड एथलीटों के लिए 2021 से पहले कोई टूर्नामेंट नहीं: AFI

नेशनल फेडरेशन सितंबर में इस सीज़न को शुरू करने की उम्मीद कर रहा है। साथ ही 2021 की जल्दी शुरुआत से एथलीटों को ओलंपिक में जगह बनाने के लिए अधिकतम अवसर मिलने की आशा भी कर रहा है।

भारतीय एथलेटिक्स महासंघ सितंबर में अपना 2020 का सत्र शुरू करने की उम्मीद कर रहा है। AFI के अध्यक्ष आदिले जे सुमरिवाला ने मंगलवार को कहा कि देश के अधिकतर शीर्ष एथलीटों को जिन्हें अंतरराष्ट्रीय दौरों में हिस्सा लेना था, उनके पास 2021 से पहले कोई टूर्नामेंट विकल्प के तौर पर नहीं होगा।

AFI योजना समिति के साथ एक बैठक के बाद एथलीटों, कोचों और सहयोगी कर्मचारियों से बात करते हुए आदिले सुमरिवाला ने बताया कि फेडरेशन मौजूदा स्थिति पर कड़ी निगरानी रख रहा है और जल्द से जल्द कोई समाधान निकालने की कोशिश करेगा।

1980 के ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले आदिले सुमरिवाला ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI) से कहा, "मौजूदा स्थिति को देखते हुए हम इस साल के अंत तक किसी अंतरराष्ट्रीय दौरे के बारे में कुछ नहीं कह सकते, लेकिन हम 2021 के लिए कई अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के साथ ट्रेनिंग कैम्प की योजना जरूर बनाएंगे।”

उन्होंने आगे कहा, "हम ट्रेनिंग कैम्प की स्थिति पर निगरानी रख रहे हैं और जब स्थिति में सुधार आएगा तो एथलीट SAI से बातचीत करने के बाद देश से बाहर प्रशिक्षण लेने के लिए जा सकेंगे।”

अगले सीज़न के लिए करें तैयारी

एथलेटिक्स में भारत के अधिकतर बेहतर से बेहतर ट्रेनिंग कैम्प स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के केंद्रों से बाहर हैं, COVID-19 महामारी के प्रकोप की वजह से देश के लगभग सभी इनडोर ट्रेनिंग कैम्प को बंद कर दिया गया है।

जैवलिन शीर्ष नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra), मध्यम दूरी की धाविक हिमा दास (Hima Das) और शॉट पुट एथलीट तजिंदर पाल सिंह तूर (Tajinder Pal Singh Toor) पटियाला के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स से बाहर हैं। वहीं, टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाले पहले भारतीय रेसवॉकर केटी इरफान (KT Irfan), 4x400 मीटर रिले टीम के साथ बेंगलुरु के SAI साउथ सेंटर में हैं।

एएफआई अध्यक्ष ने एक वीडियो कॉल के जरिए एथलीटों को संबोधित करते हुए कहा, "हमें वास्तव में खुशी है कि आप सभी पटियाला, बेंगलुरु और ऊटी के ट्रेनिंग कैंप में फिट और सुरक्षित हैं। ओलंपिक खेलों का आयोजन 2020 की जगह 2021 में होगा। उसके बाद विश्व चैंपियनशिप, एशियाई खेल और राष्ट्रमंडल खेल 2022 में होने है जो कड़ी चुनौती होगी। हमें इस समय का फायदा उठाना होगा। इस अवसर का उपयोग करना होगा और आपको आज से ही इन चुनौतियों के लिए मानसिक रूप से तैयार रहना होगा।”

आदिले सुमरिवाला ने यह भी कहा कि नेशनल फेडरेशन सितंबर-अक्टूबर में अपने 2020 सीज़न को शुरू करने के लिए उत्सुक था। इसके अलावा यह भी उम्मीद कर रहा है कि 2021 की शुरुआत अगर जल्दी हुई तो एथलीटों को ओलंपिक में अपनी जगह पक्की करने के लिए कई अवसर मिलेंगे।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!