नीरज चोपड़ा का मानना है टोक्यो 2020 होगा और भी दिलचस्प

भारतीय जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा मैदान पर उतरने के लिए उत्सुक हैं और वे जल्द ही स्पर्धा के लिए भी तैयार हो जाएंगे।

भारतीय जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) का मानना है कि कोरोना वायरस (COVID-19) के चलते ओलंपिक गेम्स का स्थगित होना उनके लिए फायदेमंद है। इंजरी से जूझते हुए नीरज को रिकवरी का अतिरिक्त समय मिल जाएगा।

 ACNW लीग में 87.86 मीटर के थ्रो के ज़रिए नीरज ने ओलंपिक गेम्स के लिए क्वालिफाई कर लिया है और वे मेडल जीतने के लिए भारत की बड़ी उम्मीदों में से एक माने जा रहे हैं। नीरज का मानना है कि स्थिति सुधरने के बाद विश्व के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी बड़े मंच पर प्रदर्शन करने के लिए बेकरार होंगे और इससे टोक्यो 2002 का मज़ा और भी बढ़ जाएगा।

सपोर्टस्टार से बातचीत के दौरान भारतीय जेवलिन थ्रो के दिग्गज ने कहा “अब जब सब खेल और मैदान से दूर हैं तो ऐसे में स्पर्धा का मज़ा और ही बढ़ जाएगा। यह दोनों खिलाड़ी जो कि मैदान पर वापसी करेंगे और दर्शक जो कि अपने खिलाड़ियों को देखने के लिए उत्सुक होंगे ऐसे में दोनों के लिए यह अच्छा है।”

नीरज की व्यक्तिगत बात करें तो उन्हें अपने खेल के स्तर को बढाने का समय मिल गया है और वे ज़रूर सही चीज़ों पर ध्यान दे रहे होंगे। नीरज चोपड़ा ने रॉयटर्स को बताया कि “सर्जरी के बाद मैं 100 प्रतिशत फिट नहीं था। मुझे अपनी तकनीक पर ज़्यादा काम करने का मौका नहीं मिला है क्योंकि मैं रीहैब पर ज़्यादा ध्यान दे रहा था। देर से शुरू करने की वजह से मुझे अपने थ्रो पर काम करने का भी मौका नहीं मिला है। मैंने जो दिक्कतें देखी हैं अब उनपर काम किया जाएगा।''

लॉकडाउन में क्या कर रहे हैं नीरज?

टर्की में ट्रेनिंग कर रहे नीरज को कोरोना वायरस की वजह से वापस भारत लौटना पड़ा। वहां से आने के बाद से यह खिलाड़ी NIS में सेल्फ-आइसोलेशन कर रहा है। पटियाला के हॉस्टल में रहते हुए नीरज इस मौके का फायदा उठाना चाहते हैं और अपने खेल को जारी रख उसे बढ़ाना चाह रहे हैं।

View this post on Instagram

Core exercise #dragonflag

A post shared by Neeraj Chopra (@neeraj____chopra) on

सपोर्टस्टार से आगे बातचीत में उन्होंने कहा “मेरे कमरे में एक थेराबैंड है जिससे मैं स्किपिंग, स्प्रिन्टिंग और रनिंग करता हूं। साथ ही मैं क्लाइम्बिंग और जम्पिंग के साथ ताकत की ट्रेनिंग के लिए एब व्यायाम भी कर रहा हूं। ऐसे में आप ट्रेनिंग के नए तरीके निकाल ही लेते हैं।”

अपनी जद्दोजहद के बाद भी नीरज चोपड़ा को लग रहा है कि उनका शरीर अभी उतना तैयार नहीं हुआ जितनी उन्हें उम्मीद थी। हालांकि यह उन्हें दिक्कत नहीं दे रहा है। उन्होंने आगे कहा “मुझे इसकी चिंता नहीं है। यह ऐसा नहीं जिसे सुधारा न जा सके। जब ट्रेनिंग शुरू होगी तो दो हफ़्तों के भीतर मैं दोबारा फिट हो सकूंगा।”

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!