ओलंपिक चैंपियन इलेन थॉम्पसन दुती चंद की तरक्की से काफी प्रभावित

जमैका की एथलीट इलेन थॉम्पसन-हेरा ने भाषा की बाधाओं को पार कर भारतीय एथलेटिक्स को दुनिया के नक़्शे पर लाने के लिए दुती चंद की प्रशंसा के पुल बांधे हैं।

लेखक रितेश जायसवाल ·

भारतीय एथलीट दुती चंद (Dutee Chand) की दो बार की ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता और उनकी साथी धावक इलेन थॉम्पसन-हेरा (Elaine Thompson-Herah) ने काफी प्रशंसा की है। थॉम्पसन-हेरा ने रियो 2016 में 100 मीटर और 200 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक जीते थे, जिसके साथ ही वह यह उपलब्धि हासिल करने वाली जमैका की एकमात्र महिला बन गईं थीं। इसके साथ ही सियोल 1988 में यूएसए की फ्लोरेंस ग्रिफिथ-जॉयनर (Florence Griffith-Joyner) के बाद वह ऐसा करने वाली पहली महिला भी बनीं।

ओलंपिक चैनल के साथ हाल ही में हुई एक ख़ास बातचीत में इलेन थॉम्पसन ने भारत की सबसे चर्चित खिलाड़ियों में से एक बनने के लिए कई बाधाओं को दूर करते हुए आगे बढ़ने के लिए दुती चंद की प्रशंसा की है।

थॉम्पसन-हेरा ने उड़ीसा के जाजपुर में पैदा हुई 24 वर्षीय दुती चंद के बारे में कहा, “उसका विकास बहुत जल्दी नहीं हुआ क्योंकि उसे सीखने के लिए अभी बहुत कुछ बाकी है, लेकिन वह धीरे-धीरे आगे बढ़ रही है। मुझे लगता है कि वह इस समय बहुत अच्छा कर रही है।”

दोनों ही एथलीट कई प्रतियोगिताओं में ट्रैक पर एक-दूसरे की प्रतिद्वंद्वी रही हैं, जिसमें रियो 2016 और पिछले साल विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप शामिल है।

थॉम्पसन-हेरा ने समझाते हुए बताया, “हमें यह भी समझना होगा कि कभी-कभी एक भाषा भी बाधा बन सकती है, क्योंकि अंग्रेजी उसके लिए मूल भाषा नहीं है। अंग्रेज़ी न बोलने वाले किसी व्यक्ति के लिए अलग से अनुवाद करना काफी कठिन हो जाता है, लेकिन दुती अधिक सीखने की इच्छा के साथ हर बार और भी बेहतर हो रही हैं।"

लिंग परीक्षण के खिलाफ भारतीय धावक दुती चंद की चुनौती

भारतीय स्प्रिंटर दुती चंद ने प्राकृतिक हार्मोन के स्तर की वजह से अयोग्य घोष...

भविष्य के लिए उत्साहित

इसमें कोई दोराय नहीं है कि दुती चंद बीते कई वर्षों में भारत की सबसे जबरदस्त स्प्रिंट स्टार रही हैं। उन्होंने रियो 2016 में 20 वर्षीय के रूप में ओलंपिक डेब्यू किया और वर्तमान में 11.22 सेकंड में 100 मीटर का राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी उन्हीं के नाम दर्ज है।

दुती चंद के ही प्रयासों की वजह से कई वर्षों से एथलेटिक्स की ताक़त से दूर भारत देश को वैश्विक स्तर पर पहचान मिली है।

भारत जैसे अन्य देशों की संभावनाओं की तरह ही दुती चंद भी स्प्रिंट में कड़ी प्रतिस्पर्धा देती है, जिसपर परंपरागत तौर पर यूएसए और जमैका का प्रभुत्व रहा है। यही वजह है कि इलेन थॉम्पसन-हेरा भविष्य को लेकर काफी उत्साहित हैं।

जमैका स्टार ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो मैं वैश्विक स्तर पर अन्य देशों की स्प्रिंट खिलाड़ियों को उनके देश का प्रतिनिधित्व करते हुए देखकर काफी अच्छा महसूस करती हूं। अब हमारे पास ग्रेट ब्रिटेन, आइवरी कोस्ट और केन्या जैसे देश भी हैं, जो रेसिंग में हिस्सा ले रहे हैं और खुद को व अपने देशों के लिए दौड़ रही हैं।”

ओलंपिक चैंपियन ने आगे कहा, "एक एथलीट के तौर पर मुझे लगता है कि उनका इस ओर आगे बढ़ना और इसपर काम करने के साथ ही बेहतर प्रदर्शन करना वास्तव में यह सबकुछ काफी रोमांचक है।”