पीवी सिंधु और लक्ष्य सेन को झटका, चार अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन इवेंट्स हुए रद्द

बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन ने सितम्बर में आयोजित किए जाने वाले चार और इवेंट्स को रद्द कर दिया है। यानी अब शटलरों का कोर्ट पर उतरने का इंतज़ार जारी रहेगा।

अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन को फिर से शुरू किए जाने की प्रतीक्षा लंबे समय से की जा रही है। ऐसे में बुधवार को बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (BWF) ने सितंबर में होने वाले चार और इवेंट्स को भी रद्द कर दिया है।

कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के बढ़ते प्रकोप की वजह से ताइपे ओपन (1-6 सितंबर), कोरिया ओपन (सितंबर 8-13 सितंबर), चाइना ओपन (15-20 सितंबर) और जापान ओपन (22-27 सितंबर) को रद्द कर दिया गया है।

पीवी सिंधु (PV Sindhu) और लक्ष्य सेन (Lakshya Sen) ने चीनी ताइपे और दक्षिण कोरिया में होने वाले इवेंट्स में हिस्सा लेना सुनिश्चित किया था।

BWF 25 अगस्त से सान्या में चाइना मास्टर्स सुपर 100 इवेंट के साथ इस सीज़न को फिर से शुरू करने की उम्मीद कर रहा था। लेकिन आयोजकों को यह इवेंट छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।

अगर BWF कैलेंडर में बदलाव नहीं किया जाता है, तो 3 से 11 अक्टूबर के बीच होने वाले थॉमस एंड उबेर कप के साथ बैडमिंटन एक बार फिर एक्शन में वापस लौट सकता है।
अगर BWF कैलेंडर में बदलाव नहीं किया जाता है, तो 3 से 11 अक्टूबर के बीच होने वाले थॉमस एंड उबेर कप के साथ बैडमिंटन एक बार फिर एक्शन में वापस लौट सकता है।अगर BWF कैलेंडर में बदलाव नहीं किया जाता है, तो 3 से 11 अक्टूबर के बीच होने वाले थॉमस एंड उबेर कप के साथ बैडमिंटन एक बार फिर एक्शन में वापस लौट सकता है।

BWF के महासचिव थॉमस लुंड (Thomas Lund) ने एक मीडिया बयान में कहा, “टूर्नामेंट रद्द करने का यह निर्णय खिलाड़ियों, दर्शकों, वॉलंटीयर्स और सदस्य संघों के स्वास्थ्य को सर्वोपरी रखते हुए लिया गया है। हम टूर्नामेंट को रद्द करने के लिए बहुत अधिक निराश हैं, लेकिन सभी लोगों की भलाई और स्वास्थ्य इस समय सबसे महत्वपूर्ण है।“

एक सही कदम

पूर्व राष्ट्रीय चैंपियन यू विमल कुमार (U Vimal Kumar) ने BWF के इस फैसले का समर्थन किया।

उन्होंने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया, “यह एक अच्छा निर्णय है और पूरी तरह से सही है क्योंकि कई देश और उनकी सीमाएं अभी भी नहीं खोली गई हैं।“

प्रकाश पादुकोण बैडमिंटन अकादमी में मुख्य कोच और निर्देशक के रूप में कार्यरत विमल कुमार ने इससे पहले ओलंपिक चैनल से भी अपनी राय साझा की थी।

द्रोणाचार्य अवार्डी ने कहा था, “मुझे लगता है कि BWF ने जो किया है, उन्होंने बैडमिंटन सर्किट में पूरे वातावरण को कुछ सकारात्मकता देने की कोशिश की है। यह एक अच्छी बात है।”

“लेकिन हम नहीं जानते हैं कि कितने लोगों को चीन की यात्रा पर प्रतिबंध लगाए जाने की इच्छा होगी। फिलहाल हम सभी बस इंतज़ार कर सकते हैं। ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो हमारे हाथ में नहीं हैं। लेकिन मुझे यक़ीन है कि अगर सबकुछ ठीक-ठाक रहा, तो कई ऐसे खिलाड़ी होंगे जो इन प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेना चाहेंगे। लेकिन कम से कम, उम्मीद तो ज़िंदा है।”

BWF कैलेंडर के अनुसार अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन को 3 से 11 अक्टूबर के बीच डेनमार्क में आयोजित होने वाले थॉमस एंड उबेर कप के साथ फिर से एक्शन में लौटने की उम्मीद है।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!