कोर्ट पर वापसी के लिए उत्साहित हैं चिराग शेट्टी

COVID-19 और चोट की वजह से कई समय से कोर्ट से बाहर रहे, भारत के शीर्ष रैंक पुरुष युगल खिलाड़ी अपने ओलंपिक साल का आग़ाज़ थाईलैंड ओपन से करेंगे।

लेखक सैयद हुसैन ·

पिछली बार चिराग शेट्टी (Chirag Shetty) और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी (Satwiksairaj Rankireddy) बैंकॉक में थे तो इस जोड़ी ने 2019 थाईलैंड ओपन सुपर 500 इवेंट में पुरुष युगल का ख़िताब अपने नाम कर लिया था।

इस भारतीय जोड़ी को ये जीत चीन के मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन ली जुनहुई (Li Junhui) और लियू युचेन (Liu Yuchen) के ख़िलाफ़ हासिल हुई थी। चिराग और सात्विक की भारतीय जोड़ी ने देश को मेंस डबल्स का पहला और एकमात्र सुपर सीरीज़ ख़िताब जिताया था।

इस इवेंट को अब दो साल हो गए हैं, तब और अब में काफ़ी कुछ बदल भी चुका है। कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी की वजह से 2020 संस्करण को जहां रद्द करना पड़ा तो भारतीय जोड़ी को भी काफ़ी निराशाजनक दौर से गुज़रना पड़ा। पहले चोट की समस्या से जूझना पड़ा और फिर सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी कोरोना की चपेट में भी आए

एक साल बाद कोर्ट में वापसी कर रही ये भारतीय जोड़ी अब एक बार फिर लय पकड़ने को बेताब है। बैंकॉक के अपने होटेल से चिराग शेट्टी ने ओलंपिक चैनल के साथ बातचीत में कहा, “हम एक बार फिर कोर्ट में उतरने का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं।“

“हैदराबाद के नेशनल ट्रेनिंग सेंटर में मैंने चिराग के साथ पिछले एक महीने जमकर अभ्यास किया है। एक बार फिर टूर्नामेंट में खेलने का एहसास सुखद है, अभी हम दोनों ही पूरी तरह से फ़िट हैं और उम्मीद है कि अच्छा करेंगे।“

जगह बदल गई है लेकिन चिराग के इरादे नहीं

थाईलैंड ओपन में मौजूदा चैंपियन चिराग और सात्विकसाईराज की इस जोड़ी के लिए राह आसान नहीं होने वाली। 2021 का संस्करण हुआमार्क इनडोर स्टेडियम में नहीं बल्कि एक नई जगह इमपैक्ट एरिना में खेला जाएगा।

23 वर्षीय इस भारतीय शटलर ने कहा, “मुझे लगता है कि ये हमारे लिए एक नई शुरुआत होगी। इस बार अंतर ये है कि ये इवेंट एक अलग स्टेडियम में आयोजित होगा।“

“स्टेडियम के अंदर का माहौल और कोर्ट अलग होगा, लेकिन हम बहुत उत्साहित हैं। इसलिए नहीं कि ये थाईलैंड ओपन है बल्कि 11 महीनों के बाद ये हमारी पहली प्रतियोगिता है। हम दोनों ही एक बार फिर कोर्ट पर वापस उतरने के लिए बेक़रार हैं।“

कईयों के लिए राहें आसान

थाईलैंड ओपन में चीन और जापान के कई दिग्गज खिलाड़ियों की ग़ैरमौजूदगी इस प्रतियोगिता की चमक को थोड़ा फीका कर सकती है लेकिन यही कुछ खिलाड़ियों के लिए मौक़ा भी होगा।

जिडियोन और सुकामुलजो: ये उतना आसान नहीं जितना दिखता है

इंडोनेशिया के मार्कस जिडियोन और केविन सुकामुलजो सितंबर 2017 से ही विश्व की ...

दुनिया के 10वें नंबर के खिलाड़ी चिराग शेट्टी मानते हैं कि इस वजह से ड्रॉ पूरी तरह से खुल चुका है, लेकिन उनके लिए एक बार फिर ख़िताब की रक्षा करना आसान नहीं होगा।

“इस टूर्नामेंट में कई अपने पहले राउंड का मुक़ाबला जापान के शटलरों के ख़िलाफ़ खेल रहे होते। मुझे लगता है अब उन खिलाड़ियों के लिए आगे बढ़ना आसान होगा।“

चिराग शेट्टी ने अपनी बातों को ख़त्म करते हुए कहा, “हमें देखिए, पहले दौर में हमारे सामने किम जी जंग (Kim Gi Jung) और ली यंग डे (Lee Yong Dae) की जोड़ी होगी और अगर हमने अच्छा प्रदर्शन किया तो फिर हम विश्व नंबर-2 मोहम्मद एहसन (Mohammad Ahsan) और हेंड्रा सेतियावन (Hendra Setiawan) को भी चुनौती दे सकते हैं। लेकिन उससे पहले हमें दक्षिण कोरियाई खिलाड़ियों को मात देना होगा।“