किदांबी श्रीकांत को खेल रत्न के लिए किया गया नामित 

बैडमिंटन एसोसि ऑफ़ इंडिया ने समीर वर्मा और चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी का नाम अर्जुन अवार्ड के लिए भेजा है।

पूर्व वर्ल्ड नंबर 1 और ओलंपियन किदांबी श्रीकांत (Kidambi Srikanth) का नाम बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया ने खेल रत्ना के लिए आगे दिया है। यह अवार्ड इंडियन स्पोर्ट्स एंड यूथ अफेयर्स मिनिस्ट्री द्वारा बनाया गए हैं। रियो 2016 में ओलंपिक में शिरकत करने वाले भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी ने एक साल के अंदर 4 सुपर सीरीज़ के खिताब भी जीते हैं। ऐसा करने वाले वह पहले भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बनें।

खेल जगत में किदांबी की उपलब्धियों को पहले भी सरहाया गया है और 2015 में उन्हें अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। इनसे पहले ऑल इंग्लैंड ओपन चैंपियन पुल्लेला गोपीचंद (Pullela Gopichand), ओलंपिक मेडल विजेता साइना नेहवाल (Saina Nehwal) और पीवी सिंधु (PV Sindhu) को खेल रत्ना अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। इनके अलावा 38 भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने अर्जुन अवार्ड हासिल किया है।

उस फेहरिस्त में इंडोनेशिया ओपन (Indonesia Open), ऑस्ट्रेलियन ओपन (Australian Open), डेनमार्क ओपन (Denmark Open) और फ्रेंच ओपन (French Open) जैसे बड़े खिताब शामिल हैं। खेल रत्न के लिए नाम भेजे जाने पर BAI के जनरल सेक्रेट्री अजय सिंघानिया (Ajay Singhania) ने कहा “श्रीकांत की उपलब्धियों को मद्देनज़र रखते हुए हमने उनका नाम राजीव गांधी खेल रत्ना अवार्ड के लिए भेजा है।”

2018 कॉमनवेल्थ गेम्स (2018 Commonwealth Games) में इस भारतीय शटलर ने जमकर प्रदर्शन किया और अपनी झोली में टीम इवेंट में गोल्ड मेडल डाला और व्यक्तिगत इवेंट में सिल्वर मेडल। इसके आड़ उन्होंने 2019 साउथ एशियन गेम्स (2019 South Asian Games) में भी टीम इवेंट में गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

किदांबी श्रीकांत ने रियो गेम्स में दिखाया जलवा

किदांबी श्रीकांत ने रियो 2016 गेम्स में सैयद मोदी इंटरनेशनल चैंपियनशिप ग्रां प्री (Syed Modi International Badminton Championships Grand Prix) जीत कर भाग लिया था और वहां इस खिलाड़ी ने अपने अनुभव का भरपूर इस्तेमाल भी किया। इतना ही नहीं ओलंपिक गेम्स 2016 में भाग लेने से पहले किदांबी ने डबल्स वर्ग में खेलते हुए 2016 साउथ एशियन गेम्स (2016 South Asian Games) में भी गोल्ड मेडल जीता हुआ था। 

रियो के सफ़र में भारतीय बैडमिंटन स्टार किदांबी ने लीणो मुनोज़ (Lino Muñoz) और हेनरी हुरस्काईनेन (Henri Hurskainen) को मात दी और क्वार्टर-फाइनल में प्रवेश किया। हालांकि इस सफ़र में उन्हें जापान के वर्ल्ड नंबर 5 जान ओ जोर्गेसन (Jan Ø. Jørgensen) के सामने शिकस्त का सामना भी किया था।

इसके बाद भारतीय शटलर को चीनी लिन डान (Lin Dan) से हार का सामना करना पड़ा और उनका ओलंपिक गेम्स में मेडल जीतने का सपना अधूरा रह गया।

2020 की शुरुआत निरशाजनक

फॉर्म और इंजरी से जूझ रहे किदांबी ने ओलंपिक साल की शुरुआत बहुत उम्दा नहीं की थी। इस खिलाड़ी ने इस साल 6 टूर में हिस्सा लिया है वह केवल एक ही बार राउंड ऑफ़ 16 में पहुंचने में सफल रहे हैं। यह मौका भी उन्होंने बार्सिलोना स्पेन मास्टर्स (Barcelona Spain Masters) के दौरान बनाया।
अब जब BWF ने क्वालिफिफिकेशन की तारीखों में बदलाव किया है तो भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी से टोक्यो 2020 में क्वालिफाई करने की उम्मीदें बढ़ गईं है। गौरतलब है कि भारतीय शटलर श्रीकांत किदांबी फिलहाल 40,469 अंकों के साथ 22वें स्थान पर हैं। क्वालिफिकेशन की तारीख अगले साल करने की वजह से भारतीय बैडमिंटन के सबसे चहेते स्टार पुल्लेला गोपीचंद भी टोक्यो 2020 में जगह बनाने की रेस में शामिल हो गए हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!