एक बार में एक टूर्नामेंट पर ध्यान लगाना चाहतें है किदांबी श्रीकांत

किदांबी को टोक्यो के लिए क्वालिफाई करने के लिए अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है और श्रीकांत पहले अपनी फिटनेस पर ध्यान देना चाहते हैं।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

किदांबी श्रीकांत (Kidambi Srikanth) ने कुछ सालों में खुद को भारतीय बैडमिंटन के अगले बड़े स्टार के रूप में स्थापित किया है।

इस खिलाड़ी ने लिन डैन (Lin Dan) और विक्टर एक्सेलसेन (Viktor Axelsen) के कैलिबर के खिलाड़ियों को हराया था, इसके अलावा उन्होंने रियो 2016 के क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह बनाई। यहां तक साल 2017 में उन्होंने रिकॉर्ड 4 सुपर सीरीज टाइटल (Super Series titles) अपने नाम किए। यही नहीं वह वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर एक खिलाड़ी बनने वाले वह भारत के पहले पुरुष बैडमिंटन खिलाड़ी हैं।

लेकिन तब से किदांबी श्रीकांत को चोट के कारण काफी नुकसान झेलना पड़ा है, खासकर घुटने की चोट से तो वह काफी परेशान है। इस वजह से उनकी रैंकिंग में भी लगातर गिरावट देखने को मिली। लेकिन अब कोविड-19 के कारण मिले ब्रेक के बाद ये खिलाड़ी दोबारा ट्रैक पर लौट आया है।

श्रीकांत ने ओलंपिक चैनल के साथ बातचीत में कहा कि "मुझे लगता है कि लॉकडाउन ने मुझे वास्तव में मेरे रिहैब पर काम करने में बहुत अधिक मदद की है।" मुझे लगता है कि मेरा घुटना सच में अच्छा चल रहा है और मैं अच्छा और भारी प्रशिक्षण सत्र करने में सक्षम हूं। ”

इसके अलावा उन्होंने कहा कि "इसने मुझे वह समय दिया है जो मुझे फिर से खेलने से पहले अपने शारीरिक रूप से सर्वश्रेष्ठ होने की आवश्यकता थी।"

किदांबी श्रीकांत ने अक्टूबर में बीडब्ल्यूएफ सीज़न-फिर से शुरू होने पर वापसी की।  पर करने वाले डेनमार्क ओपन में प्रतिस्पर्धी कार्रवाई के लिए लौटे। इस टूर्नामेंट में उन्हें दुनिया के नंबर 2 चोउ तिएन चेन (Chou Tien Chen) से हार का सामना करना पड़ा, हालांकि वह क्वार्टर फाइनल तक पहुंचने में कामयाब रहे।

श्रीकांत अब अगले सर थाईलैंड में बीडबल्यूएफ वर्ल्ड टूर से अपनी तैयारी को परखना चाहेंगे।

श्रीकांत ने कहा कि “मुझे लगता है कि मैं वास्तव में शारीरिक रूप से बहुत बेहतर हो सकता हूं। इस समय मैं शारीरिक रूप से पूरी तरह फिट हो गया, जब मैं अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए 100 प्रतिशत दूंगा और फिर ओलंपिक के बारे में सोचूंगा। में सोचूंगा।”

इसके अलावा उन्होंने कहा कि "जब मैं अपनी पीक पर पहुंच जाऊंगा तो मेरे पास निश्चित रूप से दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के खिलाफ खेलने का बहुत अच्छा मौका होगा।"

किदांबी श्रीकांत: सचिन तेंदुलकर ने भविष्यवाणी की थी कि मैं नंबर 1 बनूंगा

ओलंपिक में भारतीय बैडमिंटन के उम्मीदवार ने लिटल मास्टर के साथ हुई एक मीटिंग...

किदांबी श्रीकांत वर्तमान में रेस टू टोक्यो ’रैंकिंग में 22 वें स्थान पर हैं और अगले साल टोक्यो में होने वाले अपने दूसरे ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने के लिए उन्हें शीर्ष -16 में प्रवेश करना है।

बीडब्ल्यूएफ द्वारा रैंकिंग को अनफ्रीज करने का फैसला करने के बाद उन्हें उन महत्वपूर्ण रैंकिंग अंकों को हासिल करने और रैंकिंग को ऊपर ले जाने के लिए कई टूर्नामेंटों में भाग लेना होगा।

भारतीय स्टार ने कहा कि “मैं वास्तव में 2021 में अपने आप को जितना चाहे पुश कर सकता हूं और अपना सर्वश्रेष्ठ दे सकता हूं, उतना दूंगा। उसके बाद देखते हैं क्या होता है।”

इसके अलावा उन्होंने कहा कि मैं अपनी फिटनेस पर और काम करना चाहता हूं और छोटी छोटी गलतियों को कम करना चाहता हूं। इसके अलाव मेरी कोशिश रहेगी कि आक्रमक तरीके से खेलूं और ज्यादा स्मैश करूं क्योंकि यही मेरी स्टाइल है।”