गोपीचंद से कोई मतभेद नहीं, टोक्यो ओलंपिक की तैयारी के लिए गचीबोवली चुना: पीवी सिंधु

पीवी सिंधु ने साफ कहा कि गोपीचंद एकेडमी उन्होंने इसलिए छोड़ी क्योंकि गचीबोवली में उन्हें टोक्यो जैसी कंडीशन मिलेगी।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियन पीवी सिंधु (pv sindhu) ने हाल ही में टोक्यो ओलंपिक की तैयारी के लिए गोपीचंद एकेडमी को छोड़कर गचीबोवली स्टेडियम में ट्रेनिंग करने का फैसला किया था, जिसके बाद उनके और पुलेला गोपीचंद (Pullela Gopichand) के बीच मतभेद की खबर आई थी लेकिन अब उन्होंने इस मसले पर सारी बात साफ कर दी है।

पीवी सिंधु के अनुसार उन्होंने ये फैसला इसलिए किया क्योंकि हैदराबाद के गचीबोवली स्टेडियम में टोक्यो जैसी कंडीशन मिलेगी और इसके पीछे कोई अन्य कारण नहीं है।

रियो ओलंपिक की सिल्वर मेडलिस्ट पीवी सिंधु आमतौर पर पुलेला गोपीचंद एकेडमी में ट्रेनिंग करती है और वह अपनी सफलता के लिए नेशनल कोच गोपीचंद को पूरा श्रेय देती हैं। लेकिन पिछले हफ्ते पहले उन्होंने

ज्वाला गुट्टा एकेडमी में ट्रेनिंग की और इसके बाद उन्होंने गचीबोवली में ट्रेनिंग का फैसला किया।

पीवी सिंधु द्वारा गचीबोवली में अपने कोरियाई कोच पार्क ताए के साथ ट्रेनिंग करने पर कई तरह की बात बनने लगी थी। लेकिन भारतीय स्टार ने साफ कर दिया है कि उनके और गोपीचंद के बीच सब ठीक है और टेक्निकल कारण से उन्होंने गचीबोवली जाने का फैसला किया है।

सिंधु ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि "इंडोर एरिया उसी तरह का है, जैसा हमें इंटरनेशनल लेवल पर मिलता है। इसके अलावा यह वैसा ही है, जैसा टोक्यो ओलंपिक में हमारा वेन्यू होगा और इंटरनेशनल मैचों के दौरान हमे कुछ इस तरह का माहौल मिलता है।"

इसके अलावा उन्होंने कहा कि आपको विदेश में मिलने वाले वेन्यू को समझने की आवश्यकता है और हमे घर पर ही कुछ ऐसा माहौल बनाना होगा। इसके साथ ही स्टेडियम में ब्लोअर के कारण हवा के साथ भी तालमेल बढ़ाना जरूरी होता है।

भारतीय स्टार ने बताया कि "ब्लोअर के कारण आने वाली हवा के साथ अगर हम यहां ट्रेनिंग करते है तो हमे ओलंपिक में काफी मदद मिलेगी। वहीं हैदराबाद की ज्यादातर एकेडमी में ब्लोअर नहीं है इसलिए हम हवा के साथ तालमेल नहीं बैठा सकते। वहीं गचीबोवली इंडोर एरिना में ब्लोअर है, जिसके कारण आप हवा के साथ तालमेल बैठाने की प्रैक्टिस कर सकते हो।"

वहीं सिंधु ने साफ कर दिया है कि नेशनल कोच पुलेला गोपीचंद ने ही ओलंपिक में खेलने वाले सभी बैडमिंटन खिलाड़ियों से गचीबोवली में ट्रेनिंग करने को कहा है।

मुशिनो वन स्पोर्ट प्लाजा, जिसकी क्षमता 7,200 है, यहां टोक्यो में ओलंपिक खेलों के बैडमिंटन के मैच होंगे। वहीं हैदराबाद, तेलंगाना के गाचीबोवली इंडोर स्टेडियम में दर्शकों की क्षमता 5,000 है।

गोपीचंद ने टीओआई को बताया कि “स्टेडियम एकेडमी के करीब स्थित है और प्रशिक्षण की जरूरतों के आधार पर खिलाड़ी गचीबोवली और गोपीचंद अकादमी में प्रशिक्षण लेंगे।"

पिछले कुछ महीनों से पीवी सिंधु और पुलेला गोपीचंद के रिश्ते के बारे में बात चल रही थी और जब उन्होंने बीडबल्यूएफ एशियन लेग की तैयारी के लिए इंग्लैंड जाने का फैसला किया तो इन बातों को और बल मिला।

हालांकि सिंधु हमेशा इन बातों को दरकिनार करती रहीं। उन्होंने कहा कि "मेरे और गोपीचंद के बीच कोई मतभेद नहीं है और हम दोनों के बीच सब ठीक है।" इसके साथ ही सिंधु ने कहा कि ऐसी खबरें सुनकर उन्हें काफी दुख होता है।

भारतीय स्टार ने कहा कि "मैं बाहरी बातों को कंट्रोल नहीं कर सकती, मेरा काम है कि मैं बैडमिंटन पर ध्यान दूं और देश के लिए ज्यादा से ज्यादा पदक जीतकर लाऊं।"

अच्छा फॉर्म में वापसी की कोशिश कर रही पीवी सिंधु मार्च में स्विस ओपन (Swiss Open) में खेलती नजर आएंगी।