टोयोटा थाईलैंड ओपन के दूसरे दौर में पीवी सिंधु और किदांबी श्रीकांत ने किया प्रवेश

सिंधु ने प्रतिस्पर्धी बैडमिंटन में लौटने के बाद अपने पहले मैच को जीतने के लिए सीधे गेम में अपने प्रतिद्वंद्वी को हराया। श्रीकांत ने भी आसानी से हासिल की जीत।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने टोयोटा थाईलैंड ओपन (Toyota Thailand Open) के दूसरे दौर में प्रवेश कर लिया है। मंगलवार को खेले गए पहले दौर के मुकाबले में उन्होंने स्थानीय खिलाड़ी बुसानन ओंगबामरुंगफ़ान (Busanan Ongbamrungphan) को 21-17, 21-13 से हराया।

पिछले साल मार्च में ऑल इंग्लैंड ओपन (All England Open) के बाद सिंधु की ये पहली जीत थी। उन्होंने पिछले हफ्ते योनेक्स थाईलैंड ओपन (Yonex Thailand Open) में भी प्रतिस्पर्धा किया था लेकिन वहां वो मिया ब्लिचफेल्ट (Mia Blichfeldt) से पहले दौर में हार गई थीं

ओंगबामरुंगफ़ान के खिलाफ सिंधु के लिए एक और कड़े मुकाबले की उम्मीद की जा रही थी, जिन्होंने योनेक्स थाईलैंड ओपन में ओलंपिक पदक विजेता साइना नेहवाल (Saina Nehwal) को हराया था।

ये मुक़ाबला उन खिलाड़ियों के बीच था, जिसके खेलने की शैली समान है। सिंधु और ओंगबामरुंगफ़ान लंबा सर्व करते हैं और जैसी उम्मीद थी, हुआ भी ऐसा ही। शुरुआती दौर में दोनों शटलर्स के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिल रही थी।

हालांकि, थाई खिलाड़ी ने सिंधु के खिलाफ कुछ शानदार ड्रॉप शॉट्स के साथ अपने स्मैश की भी झलक दिखाई और 11-9 की बढ़त के साथ मिड-गेम ब्रेक में गईं।

ओंगबामरुंगफ़ान ने जल्द ही चार अंक की बढ़त ले ली, जब उन्होंने फोरहैंड शॉट्स से सिंधु को बार-बार डिफेंस करने पर मजबूर किया, इस दौरान भारतीय शटलर को एक ही अंक मिला, जब उनकी प्रतिद्वंद्वी ने गेंद शटल को कोर्ट से बाहर मार दिया।

भारतीय बैडमिंटन दिग्गज ने जल्द ही दिखाया कि वो विश्व चैंपियन क्यों है। सिंधु ने अपनी लंबी पहुंच का इस्तेमाल करते हुए ड्रॉप शॉट से ओंगबामरुंगफ़ान को अपना दम दिखाया। सिंधु ने पहला गेम जीतने के लिए लगातार चार अंक जीते।

टोयोटा थाईलैंड ओपन में पीवी सिंधु ने पहले दौर में हासिल की शानदार जीत। फोटो: बैडमिंटनफोटो – सौजन्य BWF

दूसरे गेम में, पीवी सिंधु ने दिखाया कि क्यों वो ओंगबामरुंगफ़ान के खिलाफ हावी रहती हैं। दोनों अब तक 11 बार आमने-सामने हो चुके हैं, जिसमें सिंधु ने 10 मैच जीते हैं।

दूसरे गेम में सिंधु ने शानदार खेल दिखाया और ओंगबामरुंगफ़ान को बहुत कम मौके दिए। स्कोर जब 18-8 हुआ तो लगा कि मैच जल्दी ही खत्म हो जाएगा, लेकिन थाई खिलाड़ी ने लगातार पांच अंक जीतकर स्कोर 19-13 कर दिया। उसके बाद सिंधु ने जल्द ही दो अंक जीतकर गेम के साथ मैच भी जीत लिया और दूसरे दौर में पहुंच गईं।

सिंधु ने मैच के बाद कहा, "ये एक अच्छा मुक़ाबला था और मैं बहुत खुश हूं। ये जीत मेरे लिए इस टूर्नामेंट में बहुत महत्वपूर्ण थी क्योंकि पिछले हफ्ते मैं पहले दौर में बाहर हो गई थी। इसलिए ये जीत आज महत्वपूर्ण थी, क्योंकि पहला में भी कड़ा मुक़ाबला हुआ था और दूसरे को मैच आसान बनाना नहीं चाहती थी।"

दूसरे राउंड में पहुंचे श्रीकांत और सात्विक-अश्विनी

पूर्व विश्व नंबर एक किदांबी श्रीकांत (Kidambi Srikanth) ने मांसपेशियों के खिंचाव से उबरते हुए पहले दौर में थाई खिलाड़ी सित्तिकोम थम्मासीन (Sitthikom Thammasin) को 21-11, 21-11 से हराकर आसान जीत दर्ज की।

श्रीकांत को अपना पहला मैच जीतने के बाद योनेक्स थाईलैंड ओपन से बाहर होना पड़ा, उन्होंने कोर्ट में अच्छा प्रदर्शन किया और मैच को अपनी पकड़ में रखा। उन्होंने थम्मासिन पर क्रॉस-कोर्ट शॉट्स और स्मैश की बौछार की और पहला गेम आसानी से अपने नाम कर लिया।

दूसरे गेम में कहानी बिल्कुल नहीं बदली और जिस लय को किदांबी ने पहले गेम में दिखाया था उसी लय को जारी रखते हुए दूसरे गेम में 11-2 से बढ़त बना ली।

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी ने दूसरे गेम में थम्मासिन को सिर्फ नौ और अंक दिए और दूसरा गेम में अपने नाम कर लिया।

श्रीकांत ने मैच के बाद कहा, “मैं इस जीत से खुश हूं। मैं चार दिनों से अभ्यास नहीं कर पा रहा था क्योंकि मैं मांसपेशियों में खिंचाव से जूझ रहा था। मैं आराम कर रहा था और उबरने की कोशिश कर रहा था, साथ ही मुझे कल कुछ अभ्यास करने का मौका मिला। अब मैं अगले दौर का इंतजार कर रहा हूं।

सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी (Satwiksairaj Rankireddy) और अश्विनी पोनप्पा (Ashwini Ponnappa) की मिक्स डबल्स जोड़ी ने जीत के साथ भारतीय बैडमिंटन के दिन की शुरुआत की।

सात्विक-अश्विनी ने डेनमार्क के निकल्स नोर (Niclas Nohr) और अमली मैगेलंड (Amalie Magelund) को 23-21, 21-18 से हराकर प्री-क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।

इस बीच, युवा खिलाड़ी सौरभ वर्मा (Sourabh Verma) पहले भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी थे, जिन्हें शुरुआती दौर में ही हार का सामना करना पड़ा, जहां उन्हें इंडोनेशिया के पांचवीं वरीयता प्राप्त एंथनी सिनिसुका गिंटिंग ने 21-16, 21-11 से हराया।

भारतीय टीम की अधिक अपडेट के लिए, टोयोटा थाईलैंड ओपन के हमारे लाइव ब्लॉग को फॉलो करें