ओलंपिक क्वालिफ़िकेशन की अवधि बढ़ने से भारतीय शटलर्स को होगा फ़ायदा: गोपीचंद

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने पिछले महीने तीन टूर्नामेंट में हिस्सा लिया लेकिन वह एक भी ख़िताब नहीं जीत पाए। गोपीचंद को लगता है कि बढ़ा हुआ समय भारतीय शटलर्स के लिए फ़ायदेमंद होगा।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

भारतीय नेशनल बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद (Pullela Gopichand) को लगता है कि ओलंपिक क्वालिफिकेशन की तारीख आगे बढ़ने से भारतीय खिलाड़ियों को फायदा होगा और वह अपनी ग़लतियों में सुधार कर पाएंगे।

शुक्रवार को बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (Badminton World Federation) ने घोषणा करते हुए कहा कि टोक्यो 2020 बैडमिंटन क्वालिफिकेशन की तारीख 15 जून तक बढ़ा दी गई है। इससे पहले ये अवधि 25 अप्रैल थी। ये फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के कारण तीन टूर्नामेंट रद्द हो गए थे।

मलेशिया ओपन (Malaysia Open) (सुपर 750) अब 25 मई को शुरू होगा तो वहीं और सिंगापुर ओपन (Singapore Open) (सुपर 500)  की शुरुआत 1 जून से होगी। इसके अलावा  मलेशिया मास्टर्स (Malaysia Masters) के लिए नई तारीख अभी निर्धारित नहीं की गई है।

शिफ्ट होने के कारण, इंडोनेशिया मास्टर्स (Indonesia Masters) और इंडोनेशिया ओपन (Indonesia Open), जिससे ओलंपिक की रैंकिंग पॉइंट  नहीं मिलते है, उसे भी पोस्टपोन कर दिया गया है।

पुलेला गोपीचंद ने IANS से बातचीत में बताया कि "यह सभी के लिए समान है और मुझे लगता है कि यह सही है। इस समय से खिलाड़ियों को टूर्नामेंट के लिए तैयार होना का समय मिलेगा।"

मुझे लगता है कि "सभी खिलाड़ी टूर्नामेंट (इंडोनेशिया मास्टर्स, इंडोनेशिया ओपन) स्थगित से खुश होंगे।। इससे कम से कम हमारे भारतीय खिलाड़ियों को फायदा होता है। यह अच्छा है कि हमारे पास टूर्नामेंटों के बीच प्रशिक्षण और बेहतर तैयारी करने का समय है।"

पिछले महीने जब से बैडमिंन सीजन की शुरुआत हुई है, तब से भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने कुछ कमाल नहीं किया है। अब तक उन्होंने बैंकॉक में थाईलैंड ओपन के दो एडिशन में हिस्सा लिया है और xपीवी सिंधु (PV Sindhu) और किदांबी श्रीकांत (Kidambi Srikanth) ने इसके तुरंत बाद बीडबल्यूएफ वर्ल्ड टूर फाइनल में हिस्सा लिया लेकिन सभी के हाथ खाली रहे।

गोपीचंद ने कहा है कि कुछ खिलाड़ी फॉर्म में नहीं दिखे लेकिन कुछ ने अच्छा प्रदर्शन किया। हमे कुछ और प्रतियोगिता में उनके प्रदर्शन को देखना होगा, तभी हम कुछ फैसले तक पहुंच सकते हैं।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि "हमे ये भी मानना होगा कि जापान और चीन बड़े देश हैं और उन्होंने ज्यादा हिस्सा नहीं लिया है। इसी कारण से हम इन नतीजों से सही तरह से निष्कर्ष नहीं निकाल सकते। हम इस बारे में ज्यादा कुछ नहीं कर सकते क्योंकि हमारे पास ज्यादा मौके नहीं है।"

भारतीय बैडमिंटन अगले महीने nस्विस ओपन में खेलते दिखाई देंगे और इसके बाद वह ऑल इंग्लैंड ओपन में हिस्सा लेंगे। दोनों ही टूर्नामेंट मार्च में होगे और इसी से ओलंपिक क्वालिफिकेशन पीरियड की शुरुआत होगी।

इसी महीने घोषणा की गई थी कि मार्च में ही होने वाले जर्मन ओपन (सुपर 300 टूर्नामेंट) को कोरोना प्रतिबंधों के कारण रद्द कर दिया गया है।

वहीं ओलंपिक क्वालिफिकेशन अवधि का अंत इंडियन ओपन (Indian Open) से होगा, जो कि नई दिल्ली में 11 से 16 मार्च तक खेला जाएगा।

ेस टू टोक्यो रैंकिंगi की बात करें तो सिंगल्स में पीवी सिंधु (PV Sindhu) और बी साई प्रणीत क्वालिफाई (B Sai Praneeth) ने क्वालिफाई कर लिया है।, वहीं डबल्स में सतविकसाईराज रणकीरेड्डी (Satwiksairaj Rankirenddy) और चिराग शेट्टी (Chirag Shetty) ने टोक्यो का टिकट हासिल कर लिया है।