BWF वर्ल्ड टूर फाइनल: पीवी सिंधु को नहीं मिलेगा सीधा प्रवेश 

BWF वर्ल्ड टूर में जगह बनाने के लिए भारतीय स्टार पीवी सिंधु को अब टूर इवेंट में हिस्सा लेना होगा।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

महिला एकल की वर्ल्ड चैंपियन पीवी सिंधु (PV Sindhu) अब 2020 BWF वर्ल्ड टूर फाइनल में ऑटोमैटिक स्थान प्राप्त नहीं कर पाएंगी। इसकी वजह है कि बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (Badminton World Federation – BWF) ने इस नियम को बदल दिया है और अब इसके तहत भारतीय शटलर पीवी सिंधु को इसका पालन करना होगा।

पहले विश्व विजेता खिलाड़ियों को BWF वर्ल्ड टूर फाइनल में डायरेक्ट एंट्री दी जाती थी लेकिन अब ऐसा नहीं किया जाएगा। हालांकि BWF ने इस निर्णय के पीछे प्रतियोगिताओं के स्थगन को कारण बताया है।

रविवार को जारी किए गए एक स्टेटमेंट में BWF ने कहा “हाल ही के नियम के अनुसार सभी खिलाड़ियों को HSBC BWF वर्ल्ड टूर फाइनल 2020 बैंकॉक के लिए क्वालिफाई करना होगा। इसके नियम (वर्ल्ड टूर रेगुलेशन क्लॉज़ 8.2.3) के तहत मौजूदा विश्व वजेता को किसी भी प्रकार की की डायरेक्ट एंट्री नहीं दी जाएगी और सिर्फ वर्ल्ड टूर टूर्नामेंट से बटोरे गए अंकों को ही जोड़ा जाएगा।”

आने वाला सुपर 750 डेनमार्क ओपन मंगलवार से शुरू होने जा रहा है और यह 2020 BWF वर्ल्ड टूर का हिस्सा माना जाएगा। दोनों ही स्तर भारतीय खिलाड़ी पीवी सिंधु और साइना नेहवाल (Saina Nehwal) इस इवेंट का हिस्सा नहीं होंगी।

इसके बाद टूर जनवरी से दोबारा शुरू होगा और इसमें सुपर 1000 इवेंट (एशिया I और एशिया II) का आयोजन किया जाएगा। इसके बाद बैंकॉक में ही 2020 BWF वर्ल्ड टूर फाइनल को अंजाम दिया जाएगा।

BWF ने यह भी साझा किया है कि जो भी खिलाड़ी एशिया I और एशिया II में हिस्सा लेंगे वही 2020 BWF वर्ल्ड टूर फाइनल में शिरकत कर पाएँगे।

BWF के अनुसार “खिलाड़ियों को दिए गए समय पर यानी एशिया ओपन I 2020 से पहले थाईलैंड आना होगा। खिलाड़ियों की सुरक्षा और क्वारंटाइन की वजह से बाद में आना उनके लिए मुमकिन नहीं है (अदाहरण: या तो एशियन ओपन I 2020 या एशिया ओपन II 2020)।”

BWF वर्ल्ड टूर फाइनल 2008 सीज़न को पीवी सिंधु ने अपने नाम किया था।

यह घोषणा रियो 2016 में सिल्वर मेडल जीतने वाली सिंधु के लिए दिक्कतें ज़रूर पैदा कर सकती है। ग़ौरतलब है कि पीवी सिंधु डेनमार्क ओपन से अपने कारवाँ की शुरुआत करने जा रही थीं लेकिन अब यह खिलाड़ी इस प्रतियोगिता का हिस्सा नहीं होंगी।

पीवी सिंधु एक पूर्व BWF टूर फाइनल की विजेता हैं और उन्होंने यह खिताब साल 2008 (डेब्यू सीज़न) में अपने नाम किया था और वह 2019 संस्करण में भी सेमीफाइनल तक पहुंची थी।

अब जब 2020 BWF वर्ल्ड टूर फाइनल में प्रवेश करने के नियम बदल गए हैं तो इसमें सुपर 750 डेनमार्क ओपन (Super 750 Denmark Open) में जीते गए अंक भी गिने जाएंगे।

हालाँकि इस तरह के सभी प्वाइंट्स तभी खिलाड़ी के खाते में जोड़े जाते हैं जब रैंकिंग्स फ़्रीज़ न हों, और इस समय इसका क्या करना है इसपर फ़ैसला लेना बाक़ी है।