BWF ने पीवी सिंधु, बी साई प्रणीत के लिए टोक्यो ओलंपिक का रास्ता किया आसान, साइना नेहवाल के पास भी मौक़ा

बेहतरीन रैंकिंग की बदौलत और BWF की क्वालिफ़िकेशन की नई प्रक्रिया के हिसाब से भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी ओलंपिक गेम्स के क़रीब पहुंचे।

बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (BWF) ने बुधवार को साफ़ कर दिया है कि अगले साल यानी 2021 में जनवरी-अप्रैल के बीच ओलंपिक गेम्स के क्वालिफिकेशन की प्रक्रिया की जाएगी।

BWF के जेनरल सेक्रेटरी थॉमस लैंड (Thomas Lund ) ने इस विषय पर कहा “हालांकि हम 2020 के अंत में अन्तरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं को दोबारा से खोलने की कोशिश करेंगे। हमने ओलंपिक और पैरालम्पिक क्वालिफिकेशन वाली प्रतियोगिताओं को 2021 में ही रखा है क्योंकि तब तक यातायात भी खुल सकता है और कोरोना वायरस (COVID-19) की वजह से सभी बाधाओं का असर भी कम हो सकता है।”

इसका मतलब रियो गेम्स में सिल्वर मेडल जीतने वाली पीवी सिंधु (PV Sindhu) भारत की ओर से क्वालिफाई करने की प्रबल दावेदार हैं। ग़ौरतलब है कि भारतीय शटलर सिंधु फिलहाल 70,754 अंकों के साथ 7 वें स्थान पर काबिज़ हैं। वहीं दूसरी ओर बी साई प्रणीत (B Sai Praneeth) 51, 527 अंकों के साथ 13वें स्थान पर स्थित हैं।

ओलंपिक चैनल से बात करते हुए साई प्रणीत ने बताया “यह सही हुआ। अब अब रणनीति के तहत ट्रेनिंग शुरू कर पाएंगे। खिलाड़ी ने यह भी सिद्ध किया कि वह कम प्रतियोगिताओं में ही भाग लेंगे ताकि वे अपनी रैंकिंग को बेहतर रख सकें। आपको बता दें कि ओलंपिक कट-ऑफ़ डेट 25 अप्रैल 2021 है।

'रेस टू टोक्यो' में बी साई प्रणीत 13वीं रैंकिंग पर काबिज़ हैं  
'रेस टू टोक्यो' में बी साई प्रणीत 13वीं रैंकिंग पर काबिज़ हैं  'रेस टू टोक्यो' में बी साई प्रणीत 13वीं रैंकिंग पर काबिज़ हैं  

इसके अलावा मेंस डबल्स कैटेगरी में भी भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों को खासी उम्मीद है। चिराग शेट्टी (Chirag Shetty) और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी (Satwiksairaj Rankireddy) की जोड़ी फिलहाल 57, 500 अंकों के साथ 9वें रैंक पर हैं। इसी विषय पर चिराग शेट्टी ने ओलंपिक चैनल को बताया “प्लानिंग बिलकुल भी बदली नहीं है और यह निर्णय हमारे लिए अच्छा है। हर कोई कड़ी मेहनत कर रहा था और क्वालिफिकेशन से लगभग डेढ़ महीना पहले सब रुक गया।

चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी अपने डेब्यू ओलंपिक की ओर मज़बूती से बढ़ते हुए 
चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी अपने डेब्यू ओलंपिक की ओर मज़बूती से बढ़ते हुए चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी अपने डेब्यू ओलंपिक की ओर मज़बूती से बढ़ते हुए 

कोरोना वायरस की वजह से ये भारतीय बैडमिंटन जोड़ी ऑल इंग्लैंड ओपन का हिस्सा नहीं रही थी और डायरेक्ट क्वालिफिकेशन के अवसर से वे वंचित रह गए थे। चिराग शेट्टी ने आगे अलफ़ाज़ साझा करते हुए कहा “हमारा पहला मकसद टॉप 8 में जाकर टोक्यो 2020 के लिए डायरेक्ट क्वालिफाई करना है। बचे हुए समय में हम मलेशिया ओपन जैसी 3 से 4 प्रतियोगिताओं में ही भाग लेंगे।”

नई प्रक्रिया ने भारतीय शटलर श्रीकांत किदांबी (Kidambi Srikanth) और लंदन गेम्स में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने वाली साइना नेहवाल (Saina Nehwal) को भी ख़ुशियों का मौक़ा दिया है। दोनों ही खिलाड़ी अपने-अपने वर्गों में छठी रैंक पर हैं और टोक्यो गेम्स में प्रवेश करने के लिए इनके पास सुनहरा अवसर है। यह दोनों खिलाड़ी भी मलेशिया ओपन, इंडोनेशिया और स्पेन मास्टर्स और ऑल इंग्लैंड ओपन जैसी प्रतियोगिताओं का हिस्सा बन ओलंपिक गेम्स में क्वालिफाई करने की कोशिश करेंगे।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!