पीवी सिंधु ने डेनमार्क ओपन से नाम लिया वापस, साइना और किदाम्बी लेंगे हिस्सा

टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई करने की जद्दोजहद में साइना नेहवाल COVID-19 के ख़तरे के बावजूद यूरोप की यात्रा करने के लिए तैयार हैं।

लेखक रितेश जायसवाल ·

भारत की नम्बर-1 बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने डेनमार्क ओपन (Denmark Open) से अपना नाम वापस ले लिया है। इस टूर्नामेंट को 13 से 28 अक्टूबर के बीच आयोजित किया जाना सुनिश्चित किया गया है। दरअसल, इस टूर्नामेंट को थॉमस और उबेर कप और डेनमार्क मास्टर्स के बीच खेला जाना था, लेकिन कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी की वजह से इन दोनों को रद्द कर दिया गया था।

हालांकि, साइना नेहवाल (Saina Nehwal) महामारी के ख़तरे और कड़े क्वारंटाइन प्रोटोकॉल के बावजूद इस यात्रा के जोखिम को उठाना चाहती हैं।

वर्ल्ड नम्बर-7 पीवी सिंधु ने स्पोर्टस्टार को बताया, "वहां महामारी के मामलों को देखते हुए केवल डेनमार्क ओपन के लिए जोखिम लेना सही नहीं है। इसके अलावा अगर मैं डेनमार्क ओपन में खेलती हूं तो घर वापसी पर मुझे 14 दिनों के लिए खुद को क्वारंटाइन करना होगा, जो फिर से मेरे प्रशिक्षण पर विराम लगाने का काम करेगा।”

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु डेनमार्क ओपन में हिस्सा नहीं लेंगी।

सिंधु ने पहले बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (BAI) के अध्यक्ष हिमंत बिस्वा शर्मा के अनुरोध करने से पहले भी उबेर कप से अपना नाम वापस ले लिया था।

पीवी सिंधु अब एशिया ओपन-I और एशिया ओपन-II के साथ अंतरराष्ट्रीय सर्किट में वापसी पर नज़र बनाए हुए हैं, जिसे थाईलैंड में नवंबर में आयोजित किए जाने की उम्मीद है। वह इस सुपर 1000 इवेंट्स के लिए अपना नाम पहले ही भेज चुकी हैं।

सिंधु के अलावा, भारत की एन सिक्की रेड्डी (N Sikki Reddy) और अश्विनी पोनप्पा (Ashwini Ponnappa) की पसंदीदा महिला युगल जोड़ी के साथ ही साथ मनु अत्री (Manu Attri) और बी सुमीथ रेड्डी (B Sumeeth Reddy) की पुरुष युगल जोड़ी ने भी डेनमार्क ओपन से अपना नाम वापस ले लिया है।

एन सिक्की रेड्डी ने ईएसपीएन से कहा, “अगर थॉमस और उबेर कप हुआ होता तो हम यात्रा करते, लेकिन सिर्फ एक टूर्नामेंट के लिए सभी तरह के जोखिम लेना सही नहीं लगता है।"

डेनमार्क में साइना नेहवाल करेंगी भारत का नेतृत्व

2012 ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल ओडेंस में वुमेंस इवेंट में सबसे बड़ा भारतीय नाम होंगी। उन्होंने इस यात्रा के लिए सहमति फॉर्म पर हस्ताक्षर करके डेनमार्क ओपन में हिस्सा लेने का अपना इरादा बता दिया है।

महामारी की वजह से कई बड़े खिलाड़ियों के अपना नाम वापस लेने के चलते थॉमस और उबेर कप को स्थगित कर दिया गया। इसके बाद BAI ने सभी भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों को अपने जोखिम पर विदेश यात्रा करने के लिए कहा है।

750,000 डॉलर के वर्ल्ड टूर इवेंट के लिए डेनमार्क जाने की योजना बनाने वाले शटलरों को अपनी यात्रा और भागीदारी की पूरी ज़िम्मेदारी लेते हुए फेडरेशन को अपनी लिखित सहमति देनी होगी।

लक्ष्मण सेन, किदांबी श्रीकांत, पारुपल्ली कश्यप, अजय जयराम और सुभंकर डे डेनमार्क ओपन में पुरुष एकल स्पर्धा में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।

शुभंकर डे ने आखिरी बार फरवरी में बार्सिलोना स्पेन मास्टर्स में एक प्रतिस्पर्धी मैच खेला था और ऐसे में दुनिया के 46 वें नंबर के बैडमिंटन खिलाड़ी कोर्ट पर वापसी के लिए काफी उत्सुक हैं।

शुभंकर डे ने ईएसपीएन को बताया, "टेनिस और फुटबॉल जैसे खेल फिर से शुरू हो गए हैं और अब बैडमिंटन को फिर से शुरू करने का समय है। मुझे प्रतियोगिताओं की याद आती है। मैं समझता हूं कि स्वास्थ्य महत्वपूर्ण है, लेकिन हमें इस स्थिति को स्वीकार करने की आवश्यकता है। यह काफी लंबा हो गया है। इसलिए मैंने खेलने का फैसला किया है।”