पी वी सिंधु और साइना नेहवाल को इंडिया ओपन में मिलेगी कड़ी चुनौती

इंडिया ओपन 2020 ओलंपिक में क्वालिफ़ाई करने की कट ऑफ़ तारीख़ 26 अप्रैल से पहले का आख़िरी सुपर 500 सीरीज़ टूर्नामेंट होगा

लेखक सैयद हुसैन ·

दुनिया के पांचवें नबर के शटलर डेन विक्टर एक्सेलसन (Dane Viktor Axelsen) और शीर्ष महिला शटलर चीन की चेन यू फ़े (Chen Yu Fei) जैसे बड़े नाम इस बार के इंडिया ओपन में शामिल होंगे। इनके साथ साथ भारतीय शटलर पी वी सिंधु (PV Sindhu) और बी साई प्रणीत (B Sai Praneeth) भी इस सुपर 500 सीरीज़ में हाथ आज़माते नज़र आएंगे।

ये प्रतियोगिता भारतीय शटलरों के साथ साथ कई अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों के लिए भी बेहद ख़ास है, क्योंकि ये 26 अप्रैल (2020 ओलंपिक क्वालिफ़िकेशन की कट ऑफ़ तारीख़) से पहले का आख़िरी टूर्नामेंट होगा।

लंदन 2012 की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल (Saina Nehwal) और 2015 संस्करण के विजेता और पूर्व वर्ल्ड नंबर-1 किदांबी श्रीकांत (Kidambi Srikanth) की नज़र 2020 ओलंपिक से पहले कुछ अहम रैंकिंग प्वाइंट्स हासिल करने पर होगी।

तो वहीं 2014 कॉमनवेल्थ गेम्स के स्वर्ण पदक विजेता पारुपल्ली कश्यप (Parupalli Kashyap), एच एस प्रणॉय (HS Prannoy), सौरभ वर्मा (Saurabh Verma), समीर वर्मा (Sameer Verma) और युवा खिलाड़ी लक्ष्य सेन (Lakshya Sen) की नज़र भी इस घरेलू चैंपियनशिप में जीत दर्ज करने पर होगी।

चोटों से उबरने बाद, विक्टर एक्सेलसन की अब नज़र टोक्यो पर।

रियो 2016 में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने वाला डेनमार्क का यह खिलाड़ी एक मुश्किल साल...

सिंधु, साइना के सामने होगी कड़ी चुनौती

महिला प्रतिस्पर्धा की बात करें तो इसमें टॉप-10 में से 8 शटलर इस चैंपियनशिप में कोर्ट पर अपना वर्चस्व स्थापित करने के इरादे से उतरेंगी। जिनमें अकाने यामागुची (Akane Yamaguchi), हे बिंग जियाओ (He Bing Jiao), आन से यंग (An Se Young), मिशेल ली (Michele Li) के साथ साथ तीन बार की इंडिया ओपन चैंपियन रत्चानोक इन्तानोन (Ratchanok Intanon) और रियो 2016 की स्वर्ण पदक विजेता कैरोलिना मरीन (Carolina Marin) भी शामिल रहेंगी।

उच्च रैंकिंग वाली खिलाड़ियों की नज़र बेहतर प्रदर्शन करते हुए 2020 ओलंपिक से पहले अपनी वरियता को बढ़ाने पर होगी, ताकि उन्हें आसान ड्रॉ मिल सके।

पी वी सिंधु के लिए भी ये प्रतियोगिता बेहद अहम होने वाली है, जिन्होंने 2017 में इंडिया ओपन को अपने नाम किया था, उनकी नज़र एक बार फिर कुछ बेहतरीन खिलाड़ियों के सामने अपने रंग में लौटने पर होगी, प्रीमियर बैडमिंटन लीग (Premier Badminton League) के बाद ये उनकी पहली चैंपियनशिप होगी।

ओलंपिक गोल्ड को लेकर अपने जुनून पर बोलीं पीवी सिंधु

भारत ने आखिरी बार 2008 में ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता था। बैडमिंटन स्टार पीवी स...

रंकीरेड्डी-शेट्टी फिर होंगे साथ साथ

प्रीमियर बैडमिंटन लीग में अलग अलग टीमों के साथ खेलने वाले और भारत की बेहतरीन युगल जोड़ी सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी (Satwiksairaj Rankireddy) और चिराग शेट्टी (Chirag Shetty) एक बार फिर एक साथ खेलते हुए नज़र आएंगे।

हालांकि बैडमिंटन एशिया टीम चैंपियनशिप में इन दोनों के पास साथ में खेलने का मौक़ा था, लेकिन सात्विकसाईराज ने चोट की वजह से अपना नाम वापस ले लिया था। इस जोड़ी के सामने इंडिया ओपन में सबसे कड़ी चुनौती चौथी रैंकिंग हासिल ताकेशी कामुरा (Takeshi Kamura) और कीगो सोनोडा (Keigo Sonoda) से मिल सकती है।

पुरुष युगल के साथ साथ सात्विकसाईराज मिश्रित युगल में भी नज़र आएंगे जहां उनके साथ होगीं अश्विनी पोनप्पा (Ashwini Ponnappa)। इनके साथ साथ प्रणाव जेरी चोपड़ा (Pranaav Jerry Chopra) और एन सिक्की रेड्डी (N Sikki Reddy) की जोड़ी भी इंडिया ओपन में जीत के इरादे से कोर्ट पर उतरेगी।

इस टूर्नामेंट में भारत की ओर से महिला युगल में सिर्फ़ एक जोड़ी ही कोर्ट पर नज़र आएगी और वह होगी एन सिक्की रेड्डी और अश्विनी पोनप्पा की। जिनकी नज़र बेहतरीन शटलरों के ख़िलाफ़ खेलते हुए कुछ अच्छे अनुभव हासिल करने पर भी होगी।