मैं साइना और सिंधु, सभी एक स्तर के खिलाड़ी हैं - ताई ज़ू यिंग

विश्व नंबर दो शटलर ताई ज़ू यिंग ने टोक्यो 2020 में सिंधु के साथ साथ कई भारतीय खिलाड़ियों को बताया स्वर्ण पदक का दावेदार

लेखक जतिन ऋषि राज ·

भारत में बैडमिंटन के खेल को खूब सराहा गया है और इस खेल ने अलग-अलग मौकों पर देश को गौरांवित भी किया है। भारत ने सिर्फ अपने खिलाड़ियों को ही नहीं बल्कि विदेशी खिलाड़ियों को भी सम्मान दिया है। यही नहीं, विदेशी खिलाड़ी भी भारतीय खिलाड़ियों को सम्मान देते हैं। चीनी ताइपे खिलाड़ी ताई ज़ू यिंग (Tai Tzu Ying) बैडमिंटन की दुनिया का एक बड़ा नाम हैं। यिंग के मुताबिक उनके और भारतीय महिला बैडमिंटन स्टार खिलाड़ी पीवी सिंधु (PV Sindhu)और साइना नेहवाल (Saina Nehwal) का खेल लगभग एक ही स्तर का है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए गए एक इंटरव्यू में ताई ज़ू यिंग ने कहा “मेरे, सिंधु और साइना में ज़्यादा असमानताएं नहीं है। ऐसा नहीं है कि वे मुझसे बेहतर हैं या मैं उनसे बेहतर हूं, बल्कि हम सब लगभग एक ही स्तर का खेल खेलते हैं”। ओलंपिक गेम्स में मेडल जीत चुकी दोनों ही भारतीय खिलाड़ियों को अपने कौशल का सबूत देने की ज़रूरत नहीं है और इसी कौशल को देख ताई ज़ू यिंग ने कुछ सुनहरे अल्फ़ाज़ साझा किए हैं।

आपको बता दें कि पीवी सिंधु और साइना नेहवाल का रिकॉर्ड चीनी ताइपे शटलर ताई ज़ू यिंग के सामने कुछ ख़ास नहीं है। वहीं, सिंधु ने 17 मुकाबले और साइना नेहवाल ने 20 मुकाबले खेलें हैं, जिनमें दोनों खिलाड़ियों ने 5 मुकाबलों में जीत हासिल की है। यह एक ऐसा आंकड़ा है, जो इन दोनों ही खिलाड़ियों के नाम के विपरीत खड़ा होता है।

विश्व नंबर 2 की इस खिलाड़ी ने सिंधु को कई बार आड़े हाथों ले उन्हें कोर्ट पर मात दी है। बात करें अगर प्रीमियर बैडमिंटन लीग (Premier Badminton League) की करें तो बेंगलुरू रैप्टर्स (Bengaluru Raptors) की ओर से खेल रही ताई ज़ू यिंग ने हैदराबाद हंटर्स (Hyderabad Hunters) की सिंधु को एक बार फिर धूल चटाई है।

ऐसा नहीं है कि भारतीय बैडमिंटन स्टार सिंधु ने हमेशा ही इस खिलाड़ी के सामने घुटने टेके हों। इतिहास गवाह है कि वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप (World Badminton Championships) में सिंधु ने अपने कौशल का प्रमाण देते हुए ताई ज़ू यिंग को कोर्ट पर धाराशाई किया और इतना ही नहीं रियो ओलंपिक गेम्स में भी करिश्माई खेल दिखाते हुए शानदार जीत हासिल की।

पीवी सिंधु ने रियो ओलंपिक गेम्स 2016 और वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में ताई ज़ू यिंग को पछाड़ा 

पीवी सिंधु को हराकर जीता था गोल्ड

महिला बैडमिंटन के खेमे में दिन प्रतिदिन मुस्तैदी और स्फूर्ति बढती जा रही है। वहीं, इसका सबसे बड़ा सबूत खुद ताई ज़ू यिंग हैं, जिन्होंने रियो गेम्स के बाद अपने खेल में तब्दीली कर दुनिया के हर कोने में शोहरत हासिल की। इतना ही नहीं इस दिग्गज खिलाड़ी ने ली झुइरुई (Li Xuerui’s) की लगातार सबसे ज़्यादा जीत के रिकॉर्ड को तोड़ अपने नाम दर्ज किया। इस रिकॉर्ड को हासिल करने के दौरान इस चीनी ताइपे के हाथ एशियन गेम्स 2018 (Asian Games 2018) का गोल्ड मेडल भी लगा। गौरतलब है कि इस खिलाड़ी ने यह खिताब भारत की दिग्गज खिलाड़ी पीवी सिंधु को हराकर हासिल किया था।

अगर कोई रिकॉर्ड है, जिसको ताई ज़ू यिंग ठीक करना चाहेंगी तो वह ओलंपिक गेम्स का रिकॉर्ड होगा। लंदन ओलंपिक गेम्स (London Olympic Games) और रियो ओलंपिक गेम्स (Rio Olympic Games) में इस खिलाड़ी का सफ़र प्री-क्वार्टर फाइनल में ही ख़त्म हो गया था। वे इस आंकड़े को ज़रूर सफलता में बदलना चाहेंगी, लेकिन इस कार्य की होड़ में इन्हें दुनिया की बेहतरीन महिला बैडमिंटन खिलाड़ियों की चुनौतियों को पार करना होगा।

इंटरव्यू के दौरान इस खिलाड़ी ने आगे बताया, “प्रतियोगिता पूरी तरह से खुली हुई है और कोई भी खिलाड़ी इसे जीत सकता है। 2020 ओलंपिक गेम्स में कैरोलिना मारिन (Carolina Marin), चेन यूफेई (Chen Yu Fei), ही बिंग जियाओ (He Bing Jiao) और रैचानॉक इंथानॉन (Ratchanok Intanon) जैसी अव्वल दर्जे की खिलाड़ियों के पास हर वह ताकत है, जिससे वे इस बार गोल्ड मेडल जीत सकते हैं।”

टोक्यो 2020 में भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी आ सकते हैं अव्वल

ताई ज़ू यिंग ने बिना किसी झिझक के पीवी सिंधु का नाम मेडल जीतने के लिए अव्वल नंबर पर रखा। इसी के साथ इस खिलाड़ी ने टोक्यो 2020 के खिताब के लिए बी साई प्रणीत (B Sai Praneeth) और किदांबी श्रीकांत (Kidambi Srikant) को पुरुष वर्ग के मुख्य दावेदार के तौर पर बताया।

आपको बता दें कि ओलंपिक गेम्स में आज तक भारत सिर्फ़ दो मेडल हासिल करने में सफल रहा है। साल 2012 लंदन गेम्स में साइना नेहवाल ने ब्रॉन्ज़ मेडल जीता तो 2016 रियो गेम्स में पीवी सिंधु ने सिल्वर पर कब्ज़ा जमाया था।