टोक्यो 2020 में भारत का लक्ष्य 5 से 6 मेडल जीतना है: अमित पंघल

एशियन क्वालिफ़ायर्स के ज़रिए बॉक्सर अमित पंघल ने टोक्यो ओलंपिक गेम्स में अपनी जगह बना ली है।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

भारतीय दिग्गज बॉक्सर और 52 किग्रा भारवर्ग में वर्ल्ड नंबर-1 अमित पंघल (Amit Panghal) ने ज़ाहिर किया कि आने वाले टोक्यो ओलंपिक गेम्स में भारतीय सरज़मीं पर 5 से 6 मेडल आ सकते हैं। एशियन ओलंपिक क्वालिफिकेशन में भारतीय मुक्केबाज़ों ने जमकर प्रदर्शन किया था और उसकी बदौलत 9 खिलाड़ियों ने टोक्यो 2020 में अपनी जगह भी बना ली थी। भारत के लिए ओलंपिक में बॉक्सिंग की ओर से यह अपने आप में एक रिकॉर्ड था।

ग़ौरतलब है कि ओलंपिक गेम्स से पहले ओलंपिक क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट भी होना है और अमित पंघल को लगता है कि भारत उसमें भी बाज़ी मारेगा। स्पोर्ट्सकीड़ा से बात करते हुए भारतीय बॉक्सर ने कहा “आने वाले ओलंपिक गेम्स में हम मेंस और वुमेंस में 5 से 6 मेडल जीत सकते है।”

“हमारे पास कुल 13 मुक्केबाज़ हैं और जिसमें से 9 क्वालिफाई भी कर चुके हैं। ऐसे में हम मेडल जीतने की संभावनाएं गिन रहे हैं। ओलंपिक गेम्स से पहले अभी एक क्वालिफिकेशन राउंड बाकी है और हमे भरोसा है कि बाकी के मुक्केबाज़ इसमें सफल होंगे।”

अमित पंघल का मानना है कि टोक्यो 2020 में भारत 5 से 6 मेडल जीत सकता है। 

यह जोश का मामला है

ओलंपिक गेम्स और बॉक्सिंग की बात की जाए तो ज़्यादा दबदबा उज्बेकिस्तान और कज़ाकिस्तान का रहा है और उन्होंने रियो ओलंपिक गेम्स में क्रमश: 7 और 5 मेडल अपने नाम किए थे।

हालांकि विजेंदर सिंह (Vijender Singh) सिंह के बीजिंग में जीते हुए ब्रॉन्ज़ मेडल ने इस खेल को भारत में एक अच्छा दर्जा दिला दिया और इसके बाद मैरी कॉम (MC Mary Kom) ने भी 2012 ओलंपिक गेम्स में मेडल जीत खुद को पहली भारतीय महिला मुक्केबाज़ बना दिया जिसने ओलंपिक गेम्स में मेडल हासिल किया हो।

अमित पंघल, जिन्होंने हसनबाय दुस्मातोव (Hasanboy Dusmatov) को 2018 एशियन गेम्स में हराकर गोल्ड मेडल जीता था और अब वह मानते हैं कि भारत में विश्व स्तर के मुक्केबाज़ हैं और इसका योगदान बॉक्सिंग में बेहतर हुई आधारित संरचना और नई तकनीकों को जाता है।

“पिछले 20 साल में चीज़ों में परिवर्तन आया है और हमारे लिए ट्रेनिंग और डाइट जैसी चीज़ें बेहतर हुई हैं। हम केवल कड़ी मेहनत ही नहीं कर रहे हैं लेकिन विश्व स्तर की तकनीकों का इस्तमाल कर खुद को बेहतर करने के लिए भी कर रहे हैं।”

अमित पंघल ने आगे अलफ़ाज़ साझा करते हुए कहा “अब चीज़ें बदल चुकी हैं और हमारे भारतीय बॉक्सर उन्हें (उज्बेकिस्तान, कज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़) हराने का माद्दा रखते हैं और उनके नंबर-1 बॉक्सर को हम हरा भी चुके हैं।”