नंबर-1 बनना आसान है लेकिन उसपर बने रहना चुनौतीपूर्ण है: अमित पंघल

भारत का ये मुक्केबाज़ 52 किग्रा भारवर्ग में दुनिया में नंबर-1 है, लेकिन वह चाहते हैं कि इस पर लगातार बने रहें।

भारतीय मुक्केबाज़ अमित पंघल (Amit Panghal) ने अपने भार वर्ग में विश्व में नंबर एक का स्थान बनाने में क़ामयाब हुए हैं। वहीं, इस दिग्गज मुक्केबाज़ का मानना है कि जब कोरोना वायरस (COVID-19) ब्रेक के बाद सीज़न फिर से शुरू होगा तो इससे उन्हें और अधिक ऊंचाइयां हासिल करने में मदद मिलेगी। ग़ौरतलब है कि इंटरनेशनल बॉक्सिंग एसोसिएशन (AIBA) द्वारा सोमवार को नवीनतम रैंकिंग की सूची जारी की गई थी, जिसमें 24 वर्षीय एथलीट अमित पंघल 52 किग्रा भार वर्ग में शीर्ष रैंकिंग पर हैं।

अमित पंघल ने ओलंपिक चैनल से एक्सक्लूसिव बातचीत की और अपने रैंकिंग पर ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए कहा, "मैं बहुत ख़ुश हूं। यह मेरे लिए एक संतोषजनक अहसास है।" उन्होंने आगे कहा "जब सीज़न शुरु होगा तो मुझे इससे और आत्मबल मिलेगा, जब मैं बाहर फ़ाइट के लिए जाता हूं तो अपनी पोज़िशन को बरकरार रखने की कोशिश करता हूं, और फिर विश्व में नंबर एक का टैग को बरक़रार रखना है।"

वहीं इससे अमित पंघल प्रतियोगिताओं में सबसे अधिक विश्लेषण और अध्ययन करने वाले मुक्केबाज़ होंगे। इस दिग्गज मुक्केबाज़ ने भरोसा दिलाते हुए कहा कि उन्हें अपना क़द बनाए रखने के लिए और ध्यान देना होगा। उन्होंने आगे कहा, "चीजें अलग होंगी। मुझे इसमें कोई संदेह नहीं है। हर कोई दुनिया के नंबर 1 एथलीट को हराना चाहेगा, इसलिए मुझे नहीं लगता कि सीज़न शुरू होने के बाद मेरे पास कोई भी आसान मुकाबला होगा।"

वहीं, पंघल ने आगे की रणनीति पर कहा, "मुझे इसके लिए कड़ी मेहनत और प्रतियोगिता के लिए तैयार होने का मौका मिला है, यही नहीं आगे अपनी रैंकिंग पर पकड़ बनाना आसान काम नहीं होगा।''

उन्होंने कहा, ''मुझे यह साबित करने की ज़रूरत है कि मैं इसके क़ाबिल हूं और अपने मुक़ाबलों को जीतकर ही ऐसा हासिल कर सकूंगा। ये पहला क़दम है, अब इसे बनाए रखने और दुनिया के बेहतरीन मुक्केबाज़ की तरह प्रदर्शन करने का समय आ गया है।''

गौरतलब है कि AIBA ने 2019 में प्रतियोगिताओं में प्रदर्शन के आधार पर नवीनतम रैंकिंग की घोषणा की है। जबकि अमित पंघल का नाम मार्च में ओलंपिक मुक्केबाज़ी क्वालिफ़ायर में विश्व में शीर्ष पर था। बताते चलें कि यह अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) द्वारा बॉक्सिंग टास्क फोर्स द्वारा तय किया गया है।

दरअसल, AIBA के निलंबन के बाद टोक्यो ओलंपिक में ओलंपिक क्वालिफायर और मुख्य कार्यक्रम का संचालन करने के लिए इस निकाय को बनाया गया था।

अमित पंघल का मानना है कि टोक्यो 2020 में भारत 5 से 6 मेडल जीत सकता है। 
अमित पंघल का मानना है कि टोक्यो 2020 में भारत 5 से 6 मेडल जीत सकता है। अमित पंघल का मानना है कि टोक्यो 2020 में भारत 5 से 6 मेडल जीत सकता है। 

अमित पंघल पर नहीं पड़ा असर

कोरोना वायरस (COVID-19) की वजह से पूरी दुनिया में खेल गतिविधियाँ ठप्प पड़ गईं हैं, लेकिन ये भी अमित पंघल को रोक नहीं सकी।  ये भारतीय मुक्केबाज़ अपने कोच अनिल धनकर के अंदर जमकर प्रैक्टिस कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘’मुझे नहीं लगता कि मेरी ट्रेनिंग पर इसका कोई ज़्यादा असर पड़ा। मैं अपने कोच के साथ यहां था और उन्होंने मेरी कमज़ोरियों को सुधारने में लगातार मेहनत की है।’’

‘’मुझे लगता है कि मेरा फ़िटनेस स्तर भी पहले से बेहतर हुआ है। इस ब्रेक ने मुझे अपने खेल में सुधार करने और उन जगहों पर काम करने का मौक़ा दे दिया, जहां मैं कमज़ोर था। एक बार जैसे ही राष्ट्रीय कैंप दोबारा शुरू होते हैं, तो मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देने की पूरी कोशिश करूंगा।’’

तीसरे स्थान पर पहुंची मैरी कॉम

अमित पंघल के अलावा एशियन चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता कविंदर बिश्ट (Kavinder Bisht) 56 किग्रा भारवर्ग में चौथे स्थान पर हैं, जबकि वर्ल्ड चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता मनीष कौशिक (Manish Kaushik) 64 किग्रा भारवर्ग में छठे पायदान पर हैं।

बात अगर महिला मुक्केबाज़ों की करें तो 6 बार की वर्ल्ड चैंपियन एमसी मैरी कॉम (MC Mary Kom) 51 किग्रा भारवर्ग में तीसरे स्थान पर हैं जबकि 2019 वर्ल्ड चैंपियनशिप की पदक विजेता जमुना बोरो (Jamuna Boro, 54kg) और लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain, 69kg) क्रमश: पांचवें और तीसरे पायदान पर मौजूद हैं।

पुरुषों की रैंकिंग: दीपक (Deepak) (49 किग्रा, 6ठे), अमित पंघल (Amit Panghal) (52 किग्रा, प्रथम), कविंदर बिष्ट (Kavinder Bisht) (56 किग्रा, 4थे), शिवा थापा (Shiva Thapa) (60 किग्रा, 16वें), मनीष कौशिक (Manish Kaushik) (64 किग्रा, 6ठे), आशीष (Ashish) (69 किग्रा, 19वें), आशीष कुमार (Ashish Kumar) (75 किग्रा, 13वें), संजीत (Sanjeet) (91 किग्रा, 12वें) और सतीश कुमार (Satish Kumar) (+91 किग्रा, 23वें) स्थान पर हैं।

महिलाओं की रैंकिंग: मंजू रानी (Manju Rani) (48 किग्रा, दूसरे नंबर पर), एमसी मैरी कॉम (MC Mary Kom)  (51 किग्रा, नंबर-3), पिंकी रानी (Pinki Rani) (51 किग्रा, 13वें) और निकहत ज़रीन (Nikhat Zareen) (51 किग्रा, 21वें), जमुना बोरो (Jamuna Boro) (54 किग्रा, 5वें) और मनीषा (Manisha) (54 किग्रा, 13वें); सोनिया लाथेर (Sonia Lather) (57 किग्रा, 4थे), सरिता देवी (Sarita Devi) (60 किग्रा, 25वें), सिमरनजीत कौर (Simranjit Kaur) (64 किग्रा, 6ठे), लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) (69 किग्रा, नंबर-3), पूजा रानी (Pooja Rani) (81 किग्रा, 8वें) स्थान पर हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!