पूर्व भारतीय मुक्केबाज़ डिंग्को सिंह कोरोना को मात देकर पहुंचे अपने घर

41 वर्षीय डिंग्को सिंह पूर्व एशियन चैंपियन हैं, जिनका लिवर कैंसर का इलाज भी चल रहा है।

भारत के पूर्व बैंटमवेट मुक्केबाज़ और एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता डिंग्को सिंह को COVID -19 से बचा लिया गया है। अब वो इम्फाल में स्थित अपने घर पर वापस लौट गए हैं।

41 वर्षीय पूर्व मुक्केबाज़ लीवर कैंसर से भी पीड़ित हैं, उन्होंने व्यस्त यात्राओं और उपचार वाले एक दुखद महीने को गुजारा है। 

भारत की मुक्केबाज़ी फ्रेटरनिटी ने अप्रैल में एयर एम्बुलेंस सेवा के माध्यम से दिल्ली पहुंचाने में मदद की थी। वहां पहुंचने के बाद पूर्व मुक्केबाज़ को पीलिया का मरीज भी बताया गया। जिसके बाद उन्हें सड़क से 2,400 किमी की यात्रा करनी पड़ी थी। इंफाल पहुंचने पर उनका टेस्ट हुआ, जिसमें वो COVID-19 पॉज़िटिव पाए गए।

डिंग्को सिंह ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI) समाचार एजेंसी को बताया, "मेरा पांच बार अस्पताल में रहने के दौरान टेस्ट हुआ और पांचों पर रिपोर्ट पॉज़िटिव आई।"

“ये बहुत दर्दनाक था क्योंकि मैं उन लोगों को देखा, जो मेरे बाद आए, और मेरे से पहले ठीक होकर चले गए। लेकिन फिर भी मैं डॉक्टरों और नर्सों को धन्यवाद देता हूं।

अर्जुन पुरस्कार के विजेता ने कहा, "ये एक महीना मेरे लिए बहुत मुश्किल था।"

स्पाइसजेट के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक और बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (BFI) के प्रमुख अजय सिंह ने इससे पहले बॉक्सर को राजधानी शहर तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

डिंग्को सिंह ने न केवल उन्हें धन्यवाद दिया, बल्कि राष्ट्रीय महासंघ का भी आभार व्यक्त किया। आपको बताते चले कि डिंग्को सिंह को 2013 में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

उन्होंने कहा, "मैं अपने घर की सबसे ऊपरी मंज़िल (इम्फाल) पर आइसोलेटेड हूं, लेकिन घर वापस आकर मैं बहुत खुश हूं।"

“हर कोई जश्न मना रहा है, मेरे गांव के लोग अपनी शुभकामनाएं देने आए हैं। मैं उनसे नहीं मिल सका, लेकिन मुझे खुशी है कि उन्होंने मेरी परवाह की।”

डिंग्को सिंह
डिंग्को सिंहडिंग्को सिंह

पीलिया से निजात पाने के बाद डिंग्को सिंह रेडिएशन थेरेपी ट्रिटमेंट करवाना चाहते हैं, हालांकि COVID-19 के हॉटस्पॉट के कारण वो फिलहाल दिल्ली आने की योजना नहीं बना रहे हैं।

डिंग्को सिंह ने कहा, “मैं कुछ समय के लिए दिल्ली के बारे में नहीं सुनना चाहता। मैं वहाँ से गुज़रा हूँ।”

उन्होंने आगे कहा, “मैं एक चेक-अप के लिए आऊंगा लेकिन वो बाद में होगा। अभी के लिए, मैं सिर्फ राहत की सांस ले रहा हूं।”

6 बार की विश्व चैंपियन एमसी मैरी कॉम (MC Mary Kom) को मुक्केबाज़ी के लिए प्रेरित करने वाले और पूर्व नेवी बॉक्सर 2017 से लीवर कैंसर से जूझ रहे हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!