जानिए सदी के सबसे बड़े मुक़ाबले में विजेंदर सिंह आख़िर होलीफ़िल्ड को क्यों मानते हैं दावेदार

2008 के ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता ने कहा कि जब दोनों रिंग में उतरेंगे तो इनकी उम्र मायने नहीं रखेगी।

पिछले कुछ दिनों से मुक्केबाज़ी की दुनिया से सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है। वो खबर ये है कि अमेरिकी दिग्गज माइक टायसन (Mike Tyson) और इवांडर होलीफील्ड (Evander Holyfield) रिंग में वापस आ रहे हैं।

हेवीवेट चैंपियन सोशल मीडिया पर वर्कआउट वीडियो पोस्ट करते रहे हैं, 1984 के ओलंपिक कांस्य पदक विजेता इवांडर होलीफील्ड ने पुष्टि की है कि वो युवाओं के लिए धन जुटाने के लिए प्रदर्शनी मैचों में मुक्केबाज़ी करेंगे।

1996 और 1997 में उनके बीच हुए दो प्रसिद्ध मैचों के बाद इवांडर होलीफील्ड और माइक टायसन के बीच तीसरे मुकाबले को लेकर दुनिया भर के बॉक्सिंग प्रशंसक भी उत्साहित हैं।

बीजिंग 2008 के कांस्य पदक विजेता विजेंदर सिंह (Vijender Singh) का मानना है कि इस मुकाबले का रोमांच उतना ही अधिक होगा जितना दो दशक पहले हुआ था। उन्होंने WION के साथ एक इंटरव्यू में कहा कि, "अगर टायसन बनाम होलीफील्ड मैच होता है, तो ये सदी का सबसे बड़ा मुकाबला होगा।"

"दरअसल मैं लॉस एंजेलिस में कुछ दिनों पहले ही इवांडर होलीफील्ड से मिला था और मुझे वो बेहद फिट दिख रहे थे।"

एवरेंडर होलीफील्ड, दो श्रेणियों में निर्विवाद चैंपियन बनने वाले इतिहास में एकमात्र मुक्केबाज़ हैं, वो दोनो श्रेणी हैं- क्रूजरवेट और हेविवेट। माइक टायसन के साथ अपने पिछले मुक़ाबलों में दोनों बार जीत हासिल की थी और विजेंदर सिंह को लगता है कि वो इस बार भी जीत हासिल कर हैट्रिक लगाएंगे।

विजेंदर सिंह ने कहा "टायसन खतरनाक लग रहे हैं, लेकिन होलीफील्ड उनसे ज्यादा खतरनाक हैं। मैं लंबे समय से होलीफील्ड का फ़ैन रहा हूं और अगर कोई लड़ाई होती है तो मैं उनपर ही अपना पैसा लगाउंगा।"

‘बॉक्सिंग दिल से होती है’

एक दूसरी बहस जो चारों तरफ चल रही है, वो ये है कि बहुत दिनों पहले से रिटारयमेंट लेने के बाद जब ये दोनों दिग्गज रिंग में उतरेंगे तो वो शारीरिक रुप से कैसा महसूस करेंगे। इस समय टायसन 53 जबकि होलीफील्ड 57 साल के हैं लेकिन भारतीय मुक्केबाज़ को लगता है कि उम्र बहुत मायने नहीं रखती है।

उन्होंने कहा, “दोनों एक ही उम्र के हैं और अगर उन्हें लगता है कि वो रिंग में वापस आ सकते हैं, तो वो ठीक ही होंगे। कुछ साल पहले पेशेवर मुक्केबाज़ी में कदम रखने वाले 34 साल के भारतीय मुक्केबाज़ ने कहा, मुक्केबाज़ी दिल से खेली जाती है।”

विजेंदर सिंह ने कहा, "मुझे नहीं लगता कि ये एक बड़ा ख़तरा होगा, दोनों इस खेल के दिग्गज हैं और वो निश्चित रूप से जानते हैं कि कैसे लड़ना है।

"दुनिया भर के मुक्केबाज़ी के फैन उन्हें वापस एक्शन में देखना पसंद करेंगे।"

विजेंदर सिंह ने सभी की भावनाओं का मान रखा, जो इस खेल को लंबे समय से पसंद करते आ रहे हैं। लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या राउंड 3 होगा?

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!