बीएफआई रोज़ाना वीडियो कॉल के लिए भारतीय मुक्केबाज़ों से कर रहा है संपर्क

लॉकडाउन के इस समय में बॉक्सिंग फेडरेशन के संरक्षक और कोच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मुक्केबाज़ों के संपर्क में हैं।

दुनियाभर में कोरोना वायरस महामारी की वजह से हुए लॉकडाउन ने सभी एथलीटों को घर पर ही रहने के लिए मजबूर कर दिया है। ऐसे में भारतीय मुक्केबाज़ों के लिए कोचिंग और प्रशिक्षण के दिशा-निर्देशों की प्रक्रिया अब भी जारी है। बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीएफआई) 21 दिन के इस समय में रोज़ाना वीडियो कॉल के जरिए सभी मुक्केबाज़ों से जुड़ रहा है। 

बीएफआई के अध्यक्ष अजय सिंह ने रविवार को हुई पहली कॉल के साथ भारतीय मुक्केबाज़ों से जुड़े रहने की पहल शुरू की। इसमें उन नौ भारतीय मुक्केबाज़ों को शामिल किया गया, जो पहले ही टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुके हैं। इस कॉल में कोच, सहायक स्टाफ, टीम के डॉक्टर और बीएफआई के कार्यकारी निदेशक आरके साचेती शामिल हुए।

अजय सिंह ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया से बात करते हुए कहा, "यह हमारे लिए एक चुनौतीपूर्ण समय है, हमें खुद का खयाल रखने की बहुत जरूरत है।”

उन्होंने आगे कहा, “सभी मुक्केबाज़ों के लिए मेरा संदेश है कि वह फिट रहें। साथ ही अपने कोचों द्वारा निर्देशित अभ्यास को जारी रखें और जितना संभव हो उतना वजन को बनाए रखने की कोशिश करें। हम जल्द ही रिंग में वापस लौटेंगे लेकिन इस दौरान खुद को प्रेरित करते रहना बहुत जरूरी है।”

एक घंटे की इस योजनाबद्ध कॉल में भारतीय मुक्केबाज़ों के संभावित प्रतिद्वंदियों के वीडियो फुटेज दिखाने के साथ ही कोच उनसे निपटने के लिए रणनीतियों पर भी चर्चा करते हैं। इन कक्षाओं को बीएफआई के उच्च-प्रदर्शन निदेशकों द्वारा संचालित किया जा रहा है - सैंटियागो नीवा पुरुषों को और राफेल बर्गमैस्को महिलाओं को ट्रेनिंग देंगी।

इसके अलावा इन डिजिटल सत्रों में आहार नियंत्रण, पोषण संबंधी निर्देश और मानसिक स्वास्थ्य जैसे अन्य पहलुओं पर भी ध्यान दिया जाएगा।

भारतीय मुक्केबाज़, जिन्होंने इस महीने की शुरुआत में जॉर्डन के अम्मान में एशियाई मुक्केबाज़ी ओलंपिक क्वालिफायर में टोक्यो ओलंपिक के लिए रिकॉर्ड नौ ओलंपिक टिकट हासिल किए थे, उन्हें अभी एक राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में शामिल होना था। लेकिन उन सभी योजनाओं को अभी के लिए स्थगित कर दिया गया है।

लॉकडाउन से कैसे निपट रहे हैं मुक्केबाज़

अम्मान से लौटे भारतीय मुक्केबाज़ देश में लॉकडाउन शुरू होने के बाद सेल्फ-क्वारंटीन में हैं। लंदन 2012 की कांस्य पदक विजेता मैरी कॉम टोक्यो ओलंपिक के जरिए दूसरी बार खेलों के महाकुंभ में हिस्सा लेंगी। लेकिन फिलहाल वह अपने बच्चों और परिवार के साथ समय बिता रही हैं।

भारत के उभरते हुए मुक्केबाज़ अमित पंघल इस समय टोक्यो ओलंपिक की तैयारी के लिए घर पर ही आवश्यक फिटनेस उपकरण के जरिए खुद को फिट रख रहे हैं। इसके साथ ही वह कोरोना वायरस से सुरक्षित रहने के लिए भी उचित कदम उठा रहे हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!