नई तारीखों की घोषणा: भारतीय कोचों को फिर से तैयारी के लिए बनानी होंगी नई रणनीति

नई तारीखों का स्वागत करते हुए भारतीय कोचों ने कहा कि आने वाला समय खेलों की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण होगा।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) और स्थानीय आयोजन समिति ने पुष्टि करते हुए कहा कि है कि टोक्यो ओलंपिक अब अगले साल 23 जुलाई से 8 अगस्त तक होगा, जिसके बाद भारतीय कोचों ने गर्मजोशी से इस घोषणा की स्वागत की।

पिछले हफ्ते ओलंपिक के 124 साल पुराने इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ था जब ओलंपिक को स्थगित करना पड़ा था। आईओसी और स्थानीय आयोजन समिति द्वारा घोषित की गई, यह तारीखें एथलीटों को सहुलियत प्रदान करती हैं, जिसका मतलब है कि अगले साल खेलों की तैयारी के लिए उन्हें बहुत समय मिलेगा।

बहुत से भारतीय एथलीटों के पास पहले से ही टोक्यो-बाउंड है, यहां ओलंपिक के लिए नई तारीखों के लिए कुछ कोचों की प्रतिक्रियाएं सामने आई हैं।

ग्राहम रीड भारतीय पुरुष हॉकी टीम के साथ साल 2019 से हैं। फोटो क्रेडिट: हॉकी इंडिया   

दीपा करमाकर की अब क्वालिफिकेशन इवेंट्स पर नज़र

जिमनास्ट दीपा करमाकर (Dipa Karmakar) के कोच बिश्वेश्वर नंदी (Bishweshwar Nandi ) ने ओलंपिक चैनल से बात करते हुए कहा कि "वो अब चोट से उबर चुकी हैं। उन्होंने तब ही प्रशिक्षण शुरू कर दिया था जब कोरोनो वायरस ने सब कुछ बंद कर दिया था और उन्हें सुबह और शाम को प्रशिक्षण के लिए कुछ समय मिलता है। जहां तक ​​उनकी संभावनाओं की बात की जाए तो, ये बहुत मुश्किल है।"

उन्होंने आगे कहा कि, 'हमें क्वालिफाई करने के लिए केवल दो विश्व कप मिलेंगे। उन्हें अभी तक उस जोन में आने का समय नहीं मिल रहा है और क्वालिफाइंग इवेंट्स की तारीख़े तस्वीर को और स्पष्ट कर देंगी। हम उनसे ओलंपिक में खेलने की उम्मीद कर रहे हैं और अपना 100 प्रतिशत देंगे। मुझे लगता है कि फॉर्म में वापस आने के लिए उन्हें पांच महीने के निरंतर ट्रेनिंग की जरूरत है।

ट्रेनिंग एरिया में वापस आने की उम्मीद

भारतीय पुरुष हॉकी कोच ग्राहम रीड (Graham Reid) ने हॉकी इंडिया को दिए एक बयान में कहा कि, "ये टोक्यो ओलंपिक खेलों की नई तारीख बहुत अच्छा है। ये हमें अगले साल जुलाई के लिए तैयार होने की योजना प्रक्रिया शुरू करने में मदद करेगी। इस बीच हम इस मौजूदा कठिन दौर से गुजर रहे हैं और जल्द से जल्द ट्रेनिंग एरिया में वापस आने की उम्मीद कर रहे हैं, ”

फिर से शुरूआत करेगी भारतीय महिला हॉकी टीम

भारतीय महिला हॉकी टीम की कोच सोअर्ड मरिन (Sjoerd Marijne) ने कहा “ये अच्छा है कि हमारे सामने सब स्पष्ट है कि कब ओलंपिक आयोजित होगा और हम उसी हिसाब से उसकी तैयारी कर सकते हैं। हम सभी एक ही अवस्था में हैं और इन कठिन समयों में एक-दूसरे के लिए उपलब्ध हैं, ओलंपिक के लिए एक नई तारीख हम सभी के लिए अच्छी खबर है। लेकिन अभी के लिए, हम दिन के हिसाब से जी रहे हैं, मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत रहकर अपनी सामान्य रूटीन में वापस आने के लिए बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। हम रीसेट बटन को हिट करने के लिए तैयार हैं।"

मानसिक फिटनेस भारतीय निशानेबाजों का मूल मंत्र

भारत के राष्ट्रीय पिस्टल शूटिंग कोच जसपाल राणा (Jaspal Rana) ने ओलंपिक चैनल से कहा कि, “हमें अपने शूटर का मनोबल ऊंचा रखने की जरूरत है। हमें अपनी शारीरिक फिटनेस पर और ज्यादातर मानसिक फिटनेस पर काम करने की आवश्यकता है क्योंकि हम में से अधिकांश अनुभवी हैं और ज़रूरतों को समझते हैं और इससे बहुत अच्छे से निपट सकते हैं। लेकिन युवाओं की ओर ध्यान देने की जरूरत होगी। हमें ठीक से ट्रेंनिंग करने की जरूरत है। ”

अपूर्वी चंदेला के लिए इवेंट्स के हिसाब से बनेगी योजनाएं

भारतीय निशानेबाज अपूर्वी चंदेला (Apurvi Chandela) के कोच राकेश मानपत ने ओलंपिक चैनल से बात करते हुए कहा कि, “तारीखें सुनकर खुशी हुई। ये एक साल के लिए दबाए गए रिवाइंड बटन की तरह है। हम 2021 के रन-अप के साथ सभी इवेंट्स के लिए योजना बना सकते हैं।”