उभरते हुए फुटबॉल स्टार सुमित राठी ने ISL में अपनी प्रतिभा को साबित करने के लिए कसी कमर

ATK के साथ राठी पिछले सीज़न में आईएसएल के विजयी अभियान में शानदार रहे थे और इस बार भी जबरदस्त खिलाड़ियों वाली टीम में जगह बनाकर वह कड़ी टक्कर देने को तैयार हैं।

लेखक रितेश जायसवाल ·

युवा फुटबॉल खिलाड़ी सुमित राठी (Sumit Rathi) भले ही इंडियन सुपर लीग (ISL) की मौजूदा चैंपियन एटीके मोहन बागान के लिए पहली पसंद नहीं रहे, लेकिन यह भारतीय फुटबॉल खिलाड़ी टीम में बुलाए जाने पर खुद को साबित करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

राठी ने पीटीआई से कहा, “कोच सर (एटीके मोहन बागान के एंटोनियो लोपेज हाबास) ने हमेशा यही कहा है कि किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पेशेवर खिलाड़ियों को तैयार रहना होगा। मैं तैयार रहूंगा।”

19 वर्षीय सुमित राठी ने पिछले सीज़न में खिताब जीतने के अभियान में एटीके के लिए 14 बार अपना खेल प्रदर्शन किया था और उनके प्रभावशाली प्रदर्शन की वजह से उन्हें 2019-20 सीज़न के आईएसएल इमर्जिंग प्लेयर बताया गया था।

हालांकि, टीम की यह प्रशंसा कुछ भी मायने नहीं रखेगी जब आईएसएल 2020-21 सीज़न इस सप्ताह के अंत में शुरू हो जाएगा, क्योंकि एटीके मोहन बागान ने भारत के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी संधेश झिंगन (Sandesh Jhingan) और सुभाषिश बोस (Subhashish Bose) को अपने डिफेंस में शामिल किया है।”

आपको बता दें, ISL ने कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के चलते इस सीज़न के आयोजन के लिए कई सावधानियां बरती हैं।

इस बार यह गोवा में बायो-बबल में प्रशंसकों की ग़ैरमौजूदगी में आयोजित किया जा रहा है और लीग ने ला लीगा, बुंदेसलीगा और यूएई चैंपियंस लीग के नक्शेकदम पर चलते हुए स्क्वॉड को चोट से दूर रखने के लिए हर खेल में पांच खिलाड़ियों को बदलने की अनुमति देने का फैसला किया है।

नए खिलाड़ियों को बदले जाने के नियम की वजह से सुमित राठी के एटीके स्क्वॉड में एक नए किरदार के तौर शामिल होने की उम्मीद है, जो कि मोहन बागान में भारत के सबसे प्रतिष्ठित पक्षों में से एक के साथ जुड़ा है।

उन्होंने कहा, “इस बार पांच खिलाड़ियों को बदले जाने के तौर पर खेलने का मौका मिलेगा। अगर मौका मिला तो मैं खुद को साबित करूंगा।

एटीके के लिए पिछले सीजन में सुमित राठी के प्रभावशाली प्रदर्शन ने उन्हें एक राष्ट्रीय शिविर के लिए वरिष्ठ भारतीय फुटबॉल टीम के लिए बुलाया गया था। हालांकि, महामारी के बढ़ते प्रकोप की वजह से शिविर को खत्म कर दिया गया था। इसलिए अब यह युवा खिलाड़ी जल्द ही भारत के लिए एक नियमित खिलाड़ी बनना चाहता है।

राठी ने कहा, “अगर मैं अच्छा खेलता हूं, तो मुझे फिर से बुलाया जाएगा। भारतीय टीम में नियमित रूप से खेलना मेरा सपना है।”