लॉकडाउन में राहत मिलने के साथ ही जीव मिल्खा सिंह गोल्फ़ कोर्स में लौटे और इसे कहा 'आज़ादी का दिन'

गोल्फ़र्स कई महीनों बाद गोल्फ़ कोर्स पर वापस लौटे हैं लेकिन उन्हें अब भी कई नियमों का पालन करना पड़ रहा है।

भारत के अनुभवी गोल्फर जीव मिल्खा सिंह ( Jeev Milkha Singh)  गोल्फ कोर्स पर लौट आए हैं। दरअसल, केंद्र सरकार के लॉकडाउन में दी गई छूट के तहत चंडीगढ़ गोल्फ कोर्स के गेट को खोल दिया गया है।

चार बार के यूरोपीय टूर विजेता सामान्य जीवन में वापसी पर काफी उत्साहित हैं और उन्होंने इसे “आजादी का दिन” कहा।

जीव मिल्खा सिंह ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI) से बातचीत के दौरान कहा कि “मैं काफी खुश हूं, जो हुआ वह काफी अलग था।” इसके अलावा भारतीय स्टार ने कहा कि करीब दो महीने बाद गोल्फ कोर्स पर लौटने के बाद मैं उत्साहित हूं। मैं भगवान को धन्यवाद देना चाहता हूं जिनकी वजह से मैं एक बार फिर वह खेल खेलने में समर्थ हूं, ये वह खेल है जिसे मैं सबसे ज्यादा पसंद करता हूं और जिसने मुझे पूरी दुनिया में पहचान दिलाई।”

इस दौरान जीव मिल्खा सिंह सुरक्षा मानकों का पूरा ध्यान रख रहे हैं और हाथों को लगातार सैनेटाइज कर रहे हैं। इसके अलावा क्लब होल्स को भी लगातार साफ कर रहे हैं।

चंडीगढ़ के साथ साथ दिल्ली में भी बुधवार से गोल्फ कोर्स खुल गए, जहां शिव कपूर अन्य भारतीय खिलाड़ियों के साथ प्रैक्टिस कर रहे हैं। हालांकि यहां पर भी सरकार द्वारा बनाए गए नियमों का पालन किया जा रहा है। जैसे कि खिलाड़ी मास्क का इस्तेमाल कर रहे हैं, सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रख रहे हैं और किसी को भी झंडे और गेंद को छूने की इजाज़त नहीं है।

शिव कपूर ने हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए कहा कि “यहां पर कुछ भी गलत होने का डर है। किसी को पसंद हो या ना हो लेकिन अब खिलाड़ी राउंड्स के बीच में एक दूसरे के साथ नहीं बैठ सकते, साथ में कुछ खा-पी नहीं सकते। अब हमे ऐसा लग रहा है जैसे कि हम नया गेम खेल रहे हों।”

यूएस ओपन क्वालिफ़ायर्स रद्द

जहां एक तरफ जीव मिल्खा सिंह और शिव कपूर गोल्फ कोर्स पर लौटकर खुश हैं तो दूसरी तरफ दोनों ही स्टार खिलाड़ी यूएस ओपन के स्थगित हो जाने से दुखी भी है। अब यह टूर्नामेंट जून की जगह सितंबर में होगा।

यूएस ओपन में कई भारतीय गोल्फर हिस्सा लेते हैं और इसके कारण उन्हें दुनियाभर में पहचान मिलती है। इसमें 10, 000 से अधिक खिलाड़ी मेजर के लिए प्रतिस्पर्धा करते हैं।

जीव मिल्खा सिंह, जिन्होंने 2007 और 2009 में दो बार सीधे क्वालिफाई कर कुल पांच बार यूएस ओपन टूर खेला है, इसे सबसे कठिन मेजर मानते हैं।

जीव मिल्खा सिंह ने PTI से बातचीत में कहा कि, ‘’मेरे लिए यह सबसे कठिन मेजर टूर्नामेंट है, हालांकि मास्टर्स भी हर किसी की तरह मेरा भी सपना था।” भारतीय स्टार ने आगे कहा, ‘’यूएस ओपन का क्वालिफ़ायर्स अन्य टूर्नामेंट की तुलना में काफी मुश्किल साबित होता है। मुझे खुशी है कि मैं तीन बार बाधा पार कर और दो बार सीधा इस टूर्नामेंट में खेला।’’

2014 और 2015 में दो बार यूएस ओपन के दौरे पर जाने वाले शिव कपूर ने दोनों ही बार क्वालिफ़ायर्स के माध्यम से क्वालिफाई किया लेकिन इस बार वह ऐसा करने से चूक गए। शिव कपूर ने कहा कि, ‘’इस बार क्वालिफ़ायर्स नहीं होने जा रहे हैं, यह काफी दुखद है लेकिन इसके अलावा कोई विकल्प भी नहीं है। मेरे लिए क्वालिफ़ायर्स के बहुत मायने हैं।’’

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!