अक्षय शर्मा ने रिकॉर्ड सबसे कम स्कोर से जीता PGTI प्लेयर्स चैंपियनशिप का ख़िताब

कैडी से गोल्फ़र बने अक्षय शर्मा ने अपना दूसरा PGTI ख़िताब जीता, उन्होंने विजेता रहते हुए संयुक्त तौर पर सबसे कम स्कोर का बनाया रिकॉर्ड।

लेखक सैयद हुसैन ·

शनिवार को पंचकुला गोल्फ़ क्लब में खेली गई PGTI प्लेयर्स चैंपियनशिप को रिकॉर्ड के साथ अक्षय शर्मा (Akshay Sharma) ने अपने नाम किया। कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी की वजह से लगे देशव्यापी लॉकडाउन के बाद ये पहली गोल्फ़ प्रतियोगिता थी।

अक्षय शर्मा के लिए ये दूसरा प्रोफ़ेशनल गोल्फ़ टूर ऑफ़ इंडिया (PGTI) ख़िताब था। इससे पहले उन्होंने 2018 में नोएडा में आयोजित QA इनफ़ोटेक ओपन जीता था।

ये जीत उन्हें रिकॉर्ड स्कोर के साथ आई, अक्षय ने 24-अंडर का स्कोर किया जो PGTI में किसी भी ख़िताब विजेता का संयुक्त तौर पर सबसे कम स्कोर है। उन्होंने इस मामले में अनिर्बान लाहिड़ी (Anirban Lahiri) और राशिद ख़ान (Rashid Khan)की बराबरी कर ली है।

चंडीगढ़ के रहने वाले अक्षय शर्मा ने पूरे टूर्नामेंट में अपनी बढ़त बनाई रखी थी। 30 वर्षीय इस गोल्फ़र ने फ़ाइनल राउंड की शुरुआत ईगल के साथ की थी और इस राउंड में उन्होंने पांच बर्ड़ीज़ भी लगाई।

हालांकि फ़ाइनल होल में आई बोगी ने एक नया रिकॉर्ड बनाने से उन्हें वंचित कर दिया। शर्मा का वर्चस्व इसी बात से समझा जा सकता है कि उन्होंने पूरे टूर्नामेंट में बस दो बोगी और एक डबल-बोगी ज़ाया की।

चंडीगढ़ के ही एक और गोल्फ़र करणदीप कोचर (Karandeep Kochhar) ने भी 19-अंडर के साथ रहते हुए दूसरे स्थान पर फ़िनिश किया। जबकि उदायन माने (Udayan Mane) और चिक्करणगप्पा एस (Chikkarangappa S) 14-अंडर के स्कोर के साथ T-3 पर रहे।

पुणे के उदायन माने ने फ़ाइनल राउंड में 66 का स्कोर किया, जो तीसरे दौर में वीर अहलावत (Veer Ahlawat) के साथ संयुक्त सर्वश्रेष्ठ स्कोर था। माने ने इसके साथ ही वैश्विक रैंकिंग में कुछ अहम अंक भी अर्जित कर लिए हैं जो उन्हें टोक्यो 2020 का टिकट दिलाने में मददगार होगा।

अंतर्राष्ट्रीय गोल्फ़र राशिद ख़ान जो ओलंपिक गोल्फ़ रैंकिंग में शीर्ष-60 में मौजूद एकमात्र भारतीय हैं, वह T-25 पर रहे।

राशिद के लिए अच्छा टूर्नामेंट नहीं गया, जो अब आने वाले दूसरे PGTI इवेंट में अच्छा प्रदर्शन करते हुए टोक्यो की अपनी उम्मीदों को ज़िंदा रखना चाहेंगे।

इसके अलावा युवा आदिल बेदी (Aadil Bedi) ने अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया, वह 6-अंडर के स्कोर के साथ T-12 पर रहे।