जहां चाह, वहां राह! लॉकडाउन में गोल्फ़र ने रेलवे ट्रैक के पास बनाया अस्थायी गोल्फ़ कोर्स

मुम्बई भर के सभी गोल्फ़ कोर्स बंद हो सकते हैं लेकिन अनिल माने को जिस खेल से प्यार है उससे वो दूर नहीं रह सकते हैं।

वाशी नाका के पास रेलवे पटरियों पर सुबह की सैर के लिए निकले मुंबई के गोल्फ खिलाड़ी अनिल माने (Anil Mane) ने वहां एक छोटी सी गोल्फ कोर्स बना ली।

बॉम्बे प्रेसीडेंसी गोल्फ क्लब (BPGC) में प्रोफेशनल गोल्फ टूर ऑफ इंडिया (PGTI) और कोच-कम-कैडी में 10 साल के अनुभवी अनिल माने काफी समय से अभ्यास नहीं कर पा रहे हैं। क्योंकि COVID-19 के कारण लागू लॉकडाउन की वजह से चेम्बूर के सभी क्लबों को बंद कर दिया गया है।

हालांकि, मुंबई की रेलवे पटरियों पर टहलने के दौरान, माने को घास का ढेर दिखाई दिया, जो उनके स्विंग को बेहतर करने में मदद कर सकती है।

“हम पिछले दो हफ्तों में एक जगह की तलाश कर रहे थे। जब मैं सुबह टहलते हुए पास की रेलवे लाइन पर आया, तो मुझे एक बहुत अच्छी जगह मिली जहाँ बहुत सारी घास थीं।

उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, "तो मैंने कहा कि हम यहां अभ्यास कर सकते हैं क्योंकि मुझे कोई और अच्छी जगह नहीं मिली।"

रेलवे ट्रैक पर गोल्फ का अभ्यास

माने और BPGC कैडेटों का एक ग्रुप पिछले कुछ दिनों से लगातार इस तरह की जगह की तलाश में था, जिससे वो अपने खेल को बेहतर बनाने के लिए शानदार कोर्स बना सकें।

ग्रुप ने स्थानीय निवासियों के बीच अपने अनोखे अभ्यास सत्र की बदौलत काफी प्रशंसा हासिल की।  

माने ने कहा, “यहाँ किसी ने भी इस खेल को पहले नहीं देखा है और ये लोग इसे देखना पसंद करते हैं। ये उनके लिए एक नई बात है।”

माने ने चुटकी लेते हुए कहा, गोल्फर्स घर पर नहीं रह सकते," ग्रुप ने उनके उद्देश्य के बहुत मेहनत की और यहां तक कि मुम्बई की बारिश ने भी इस अभ्यास में अपना योगदान दिया।"

गोल्फ के खेल में घास का महत्वपूर्ण योगदान होता है, वहां चारों तरफ लोग रह रहे हैं, ऐसे में हमें उनका ध्यान रखते हुए ही अभ्यास करना है। हालांकि चिपिंग और पुटिंग करना आसान है, लेकिन लंबे शॉट्स को हिट करना मुश्किल है।

हालांकि, माने खाली सड़कों का लाभ उठाने के लिए सुबह 6 बजे के आसपास उस जगह पर पहुंचने की योजना बना रहे है और उम्मीद है कि अब 150-यार्ड के स्विंग का अभ्यास करेंगे।

मुंबई के गोल्फर अनिल माने वाशी में रेलवे पटरियों के बगल में अभ्यास करते हुए। फोटो: राहिल गांगजी / ट्विटर
मुंबई के गोल्फर अनिल माने वाशी में रेलवे पटरियों के बगल में अभ्यास करते हुए। फोटो: राहिल गांगजी / ट्विटरमुंबई के गोल्फर अनिल माने वाशी में रेलवे पटरियों के बगल में अभ्यास करते हुए। फोटो: राहिल गांगजी / ट्विटर

गोल्फ कोर्स पर वापस जाने के लिए बेक़रार

साधारण परिवार से आने वाले माने का गोल्फ के लिए जुनून अतीत में सुर्खियों में रहा है, जिसे अक्सर अमीरों का खेल माना जाता है।

2015 में वो एक सीसीटीवी डॉक्यूमेंट्री मे देखे गए थे, जहां उन्होंने इस बारे में बात की थी कि कैसे उन्होंने झुग्गियों से गोल्फ तक का सफर तय किया।

पिछले तीन महीनों से प्रतियोगिताओं से दूर रहने के बाद, माने खेल में वापस आने के लिए उत्सुक हैं और गोल्फ के लिए

तैयार रहने के लिए पटरियों के पास घास को देखकर खुश हैं।

39 वर्षीय ने तर्क दिया, “मुझे अभ्यास करने की आवश्यकता है क्योंकि लॉकडाउन खत्म हो जाने के बाद, अगर सरकार अनुमति देती है, तो टूर्नामेंट तुरंत शुरू हो जाएंगे। जब तक गोल्फ कोर्स नहीं खुल जाता, तब तक हमें ये करना होगा, कोई विकल्प नहीं है।”

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!