भारतीय गोल्फ़र अनिर्बान लाहिड़ी कर सकते हैं अपने सीज़न की शुरुआत

अनिर्बान लाहिड़ी इंडिया ओपन के लिए तैयारी कर रहे हैं और अगर सब सही रहा तो वह प्रतियोगिता का हिस्सा बन इसे दोबारा जीतने की कोशिश करेंगे।

भारतीय गोल्फर अनिर्बान लाहिड़ी (Anirban Lahiri) इंडियन ओपन (Indian Open) के लिए जब अपने देश आए तो किसने सोचा था कि अगले तीन महीनों के लिए यहीं रुक जाएंगे। कोरोना वायरस (COVID-19) की वजह से देश भर में लगे लॉकडाउन ने उन्हें ऐसा करने पर मजबूर कर दिया है।

ऐसे में अनिर्बान 11 जून से कर्नल कंट्री क्लब, टेक्सास में होने वाले चार्ल्स श्वाब चैलेंज में खेलने वाले 148 खिलाड़ियों में नहीं होंगे। इस पीजीए टूर का हिस्सा न बन पाने का मलाल ज़रूर इस गोल्फर को होगा।

इस समय वह स्पर्धा से तो दूर हैं लेकिन उनका अभ्यास जारी है। असल मायनों में खिलाड़ी वही है जो कठिन समय में ज़्यादा मेहनत करता है और आने वाले चुनौतियों के लिए खुद को तैयार करता है। ऐसा ही कुछ भारतीय गोल्फर अनिर्बान भी कर रहे हैं।

हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा “टूर्नामेंट में खेलने के लिए मुझे कम से कम 2 से 3 हफ़्तों के अभ्यास की ज़रूरत है। बिना अभ्यास किए प्रतियोगिता का हिस्सा बनना गलती हो सकती है। वैसे खिलाड़ी स्पर्धा के लिए तैयार हो गए हैं क्योंकि ज़्यादातर गोल्फ कोर्स खुले रहते हैं।

टी ऑफ से पहले रणनीति

2015 इंडियन ओपन विजेता इस समय हैदराबाद में अपने परिवार के साथ समय बिता रहे हैं और आने वाली चुनौतियों के बारे में सोच रहे हैं।”

अनिर्बान फिलहाल जून में अभ्यास कर आने वाली प्रतियोगिताओं के लिए खुद को तैयार करना चाहते हैं। रियो ओलंपिक गेम्स में भाग लेने वाले भारतीय गोल्फर ने आगे कहा “ऐसे में बहुत सी चीज़ों को देखना पड़ेगा जैसे कि, 150 अनजान लोगों के साथ टूर्नामेंट की फ्लाईट में बैठना, बैगेज लेने के लिए लगभग 700 से ज़्यादा लोगों की भीड़ का हिस्सा होना और उसके बाद वहां से होटल के लिए टैक्सी लेना और वहां जा कर सैनिटेशन के स्तर को देखना।''

साल के आख़िर में प्रस्तावित है इंडिया ओपन

अब जब भी यातायात में रियायत दी जाएगी तो ऐसे में अनिर्बान लाहिड़ी अपना ज़्यादा समय यूएसए ओर यूरोप में बिता सकते हैं। यह खिलाड़ी अक्टूबर के महीने में इंडिया ओपन में भाग लेने वापस भारत आ सकता है।

प्रतियोगिता के आयोजकों ने ज़ाहिर किया कि “हमारे शेड्यूल में संभावित तिथि ज़रूर है और जब हम आश्वस्त हो जाएंगे तब हम उसे सबको बता देंगे। हालांकि द हीरो इंडियन ओपन अक्टूबर के आखिर या नवंबर के शुरुआती दौर में किया जा सकता है। साल 2005 से 2013 तक यह प्रतियोगिता इसी महीने में हुई है लेकिन यूरोपियन टूर के आ जाने के बाद साल 2014 के बाद से इसे मार्च के महीने में कर दी गई है।’’

ग़ौरतलब है कि गोल्फर अनिर्बान लाहिड़ी ने पहली बार इस खिताब को इसी सीज़न के दौरान अपने नाम किया था।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!