रॉकेट मोर्टगेज क्लासिक टूर्नामेंट के आख़िरी राउंड में अर्जुन अटवाल का निराशाजनक प्रदर्शन, 45वें स्थान से करना पड़ा संतोष

भारतीय गोल्फर ने फाइनल राउंड में 73 का स्कोर बनाया, वहीं अमेरिकन गोल्फर ब्रायसन डिचेम्बो नें अंत में जबर्दस्त प्रदर्शन कर खिताब पर कब्जा जमाया

शनिवार को भारतीय गोल्फर अर्जुन अटवाल ने रॉकेट मोर्टगेज क्लासिक टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन कर सभी को प्रभावित किया लेकिन रविवार को खेले गए अंतिम राउंड में उन्होंने सभी को निराश किया। डेट्रॉइट गोल्फ क्लब में खेले जा रहे रॉकेट मोर्टगेज क्लासिक टूर्नामेंट में भारतीय गोल्फर को 45वें स्थान से संतोष करना पड़ा। अटवाल का यह कोविड-19 ब्रेक के बाद पहला इवेंट था।

रविवार को 19वें स्थान से शुरुआत करने वाले अर्जुन का तीसरे राउंड में प्रदर्शन अच्छा रहा था और उन्होंने 36 स्थान की छलांग लगाई थी लेकिन भारतीय गोल्फर आखिरी राउंड में अपनी लय बरकरार नहीं रखा पाया।

अटवाल ने चार राउंड में 70-69-66-73 के कार्ड खेले और उनका कुल स्कोर 10 अंडर 278 रहा।

वहीं अमेरिकी डिचेम्बो ने अंतिम दौर में 65 का कार्ड खेला। इस खिलाड़ी ने पहले सात होल में से चार में बर्डी बनाई और लगातार तीन बर्डी के साथ टूर्नामेंट खत्म किया। यह डिचेम्बो के करियर का छठा खिताब है।

अर्जुन अटवाल से आखिरी राउंड में जिस तरह के प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही थी, वह वैसा नहीं कर पाए। भारतीय गोल्फन ने चौथे राउंड में 11 अंडर से शुरुआत की और पहले तीन होल में पार स्कोर बनाया। इसके बाद वह चौथे होल में बोगी और पांचवें होल में डबल बोगी कर बैठे। इसके बाद ये गोल्फर आठवें होल में 22 फुट से बर्डी जमाने में सफल रहे लेकिन उसके बाद वह करीबी पुट्स चूक गए।

हालांकि भारतीय गोल्फर अपने प्रदर्शन में सकारात्मक पक्ष ही देख रहे हैं। प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि "अभी भी लंबे ले-ऑफ को देखते हुए मैं अच्छी तरह से ट्रेंड कर रहा हूं और इसमें बहुत सारी सकारात्मकताएं बातें हैं। अब देखना होगा कि कि मैं आगे कहां तक जा पाता हूं।"

अर्जुन अटवाल का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 17वें होल में दिखने को मिला, जहां वह ईगल बनाने में सफल रहे। पार फाइव के इस होल में उन्होंने शुरुआती दो शॉट शानदार तरीके से लगाए, इस प्रदर्शन के कारण वह पुट जमाने से केवल 5 फुट दूर रह गए थे और इस बार गेंद अंदर डालने में उन्होंने कोई गलती नहीं की।T

वहीं खिताब जीतने वाले ब्रायसन डिचेम्बो ने कहा कि "यह मेरे लिए थोड़ा भावनात्मक है क्योंकि इसके लिए मुझे कुछ अलग करना पड़ा था। मैंने अपने शरीर में बदलाव करना पड़ा, इसके साथ ही खेल के प्रति मुझे मेरी सोच भी बदलनी पड़ी, यह खिताब मैंने गोल्फ की सामान्य तकनीक के बिल्कुल विपरीत तरीके से जीता है।"h

पीजीए टूर में अब आगे क्या

PGA टूर अब ऑहियो में वर्कडे चैरिटी ओपन से आगे बढ़ेगा। मुइरफील्ड गोल्ड क्लब में फिल माइकलसन, बुब्बा वाटसन, ब्रुक्स कोएपा और 2015 PGA चैंपियनशिप के विजेता जेसन डे भी शामिल हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!