टोक्यो ओलंपिक से पहले कुछ क्षेत्रों पर ध्यान देने की जरूरत: हमनप्रीत सिंह 

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के उप-कप्तान का भी मानना है कि मैच के दौरान हमले में निरंतरता बनाए रखने की जरूरत है।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम (Indian Men's Hockey Team) ने एफआईएच प्रो लीग (FIH Pro League) में अभी तक की सबसे शानदार शुरुआत की है। टीम ने बेल्जियम, ऑस्ट्रेलिया और नीदरलैंड से हुए कड़े मुकाबलों में दो गेम सामान्य समय में बेहतर प्रदर्शन करते हुए जीते, दो अन्य पेनल्टी शूट-आउट में, जबकि दो में उसे हार का सामना करना पड़ा।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के उप-कप्तान हरमनप्रीत सिंह (Harmanpreet Singh) ने कहा, "विश्व की शीर्ष तीन टीमों के खिलाफ हमने शानदार प्रदर्शन करते हुए बेहतर परिणाम हासिल किए और इससे पूरी टीम का आत्मविश्वास बढ़ा है। लेकिन अभी भी कुछ ऐसे क्षेत्र हैं, जो हमारे लिए चिंता का सबब बने हुए हैं।" आपको बता दें कि भारतीय पुरुष हॉकी टीम वर्तमान में 10 अंक के साथ चौथे स्थान पर है। वहीं, ऑस्ट्रेलिया केवल एक बेहतर गोल के अंतर से आगे है।

कोच ग्राहम रीड का मानना है, "हमें सर्कल को भेदने, सर्कल के बाहर विरोधी खिलाड़ी से निपटने और ज्यादा पेनल्टी कार्नर नहीं देने पर काम करना होगा। इसके साथ ही यह लंबा शिविर हमारे लिए महत्वपूर्ण है, जहां इन सभी चीजों में सुधार करने का मौका मिलेगा।"

बता दें कि एफआईएच प्रो लीग में भारतीय पुरुष हॉकी टीम का अगला मुकाबला अप्रैल में जर्मनी के खिलाफ होगा और टीम भारतीय खेल प्राधिकरण बेंगलुरु में एक महीने के लिए राष्ट्रीय शिविर में अभ्यास कर रही है।

हरमनप्रीत सिंह एफआईएच प्रो लीग में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे मैच में 'मैन ऑफ द मैच' रहे। फोटो: हॉकी इंडिया
हरमनप्रीत सिंह एफआईएच प्रो लीग में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे मैच में 'मैन ऑफ द मैच' रहे। फोटो: हॉकी इंडियाहरमनप्रीत सिंह एफआईएच प्रो लीग में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे मैच में 'मैन ऑफ द मैच' रहे। फोटो: हॉकी इंडिया

टोक्यो 2020 को लेकर उत्सुक सविता पूनिया

भारतीय महिला हॉकी टीम अमेरिका पर रोमांचक जीत हासिल कर टोक्यो ओलंपिक 2020 में अपनी जगह बनाने में सफल रही है और इसी के साथ टीम आगामी टोक्यो ओलंपिक की तैयारियों में जुट गई है।

वहीं, भारतीय महिला हॉकी टीम की उप-कप्तान सविता पूनिया (Savita Punia) ने कहा, "हम सभी ने अपने फोन पर रिमाइंडर सेट किए हैं, जो टोक्यो में हमारे पहले मैच के लिए बचे दिनों की रोज़ याद दिलाते हैं। जैसे-जैसे ओलंपिक 2020 करीब आ रहा है, वैसे-वैसे हमारा उत्साह लगातार बढ़ता जा रहा है। इसके साथ ही हम सभी पूरी तरह से तैयार हैं। टीम की उपकप्तान सविता का मानना है कि टीम ने हाल के न्यूज़ीलैंड दौरे से काफी कुछ सीखा है।

उन्होंने कहा अभी हाल ही में न्यूज़ीलैंड का दौरा हमारे लिए एक बेहतरीन अनुभव था, जहां हम लोगों ने बहुत कुछ सीखा"। सविता ने कहा कि वहां उन्होंने दो मुकाबलों में जीत हासिल की और सिर्फ एक गोल के अंतर से दो मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा।

सविता ने कहा, “मौजूदा ट्रेनिंग कैम्प में हम अपनी फिटनेस, स्पीड, गोल शूटिंग, बॉल पर नियंत्रण और टैकलिंग में सुधार कर रहे हैं। इसके साथ ही हमने विभिन्न संयोजनों के साथ भी खेलने की कोशिश की है, जो कि मिडफील्ड और फारवर्ड लाइन में प्रभावकारी साबित होंगे।"

उन्होंने आगे कहा कि टीम हर बार खुद को साबित करने की पूरी कोशिश करती है, जो कि प्रतिस्पर्धा के दृष्टिकोण से एक अच्छी बात है। इससे प्रतिस्पर्धात्मक माहौल बनाने और एक टीम के रूप में सुधार करने में मदद मिल रही है।

2020 के ओलंपिक से पहले भारतीय हॉकी महिला टीम के लिए बड़ा टूर्नामेंट है, जो जून में एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी होगी, जिसे उन्होंने 2016 में जीता था। वहीं, सविता पूनिया को विश्वास है कि यह हमारे लिए सही साबित होगा।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!