भारत हॉकी कोच ने सकारात्मक सोच बनाए रखने की बात कही

55 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई मूल के भारतीय कोच का ये भी मानना है कि भारतीय टीम का एक साथ प्रशिक्षण जारी रखना उनकी तैयारियों के लिए फायदेमंद है।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम के मुख्य कोच ग्राहम रीड (Graham Reid) ने कहा कि जहां दुनिया COVID-19 के प्रकोप को दूर करने में लगी हुई है वहीं ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करना खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा का काम करेगा

ऑस्ट्रेलियाई कोच ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया से कहा कि “इन परिस्थितियों में आपको एक सकारात्मक मानसिक स्थिति को बनाए रखना होगा। जिससे खिलाड़ियों को एक-दूसरे की कंपनी मिलेगी और ओलंपिक में प्रेरणा हासिल होगी।"

उन्होंने कहा, "विश्व की शीर्ष तीन टीमों के खिलाफ तीन एफआईएच प्रो लीग मैच खेलने के बाद अब हमारे आत्मविश्वास में वृद्धी हुई है।" हमने एफआईएच प्रो लीग में बेल्जियम, नीदरलैंड और ऑस्ट्रेलिया जौसी फेवरेट टीमों के खिलाफ जीत हासिल की।

"ओलंपिक एक अलग स्टेज है लेकिन अगर हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे तो सब कुछ संभव है।"

The Indian hockey men’s team chief coach Graham Reid feels Olympics participation is ‘enough motivation’ for his players
The Indian hockey men’s team chief coach Graham Reid feels Olympics participation is ‘enough motivation’ for his playersThe Indian hockey men’s team chief coach Graham Reid feels Olympics participation is ‘enough motivation’ for his players

ग्राहम रीड ने कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) और हॉकी इंडिया द्वारा उठाए गए कदमों की भी सराहना की।

ग्राहम रीड ने कहा कि “अधिकारियों ने कार्रवाई करने और SAI केंद्र को अलग करने के लिए जल्दी प्रयास किए। अब हम अलग हैं लेकिन हम अपने सामान्य कार्यक्रम को अंजाम दे सकते हैं। सभी चीजें बहुत समान्य हो गई हैं। हम वायरस को नियंत्रित नहीं कर सकते, लेकिन हम अपने पर्यावरण को नियंत्रित कर सकते हैं।”

ट्रेंनिंग जारी रखना भारत के लिए फायदेमंद

उनका मानना ​​है कि SAI द्वारा की गई तुंरत कार्रवाई और भारतीट टीम द्वारा प्रशिक्षण जारी रखने की क्षमता उन्हें अन्य देशों के मुकाबले बेहतर बनाएगी।

ग्राहम रीड ने कहा, "चीजें प्रत्येक दिन के आधार पर बदल रही हैं, लेकिन प्रशिक्षण जारी रखने की हमारी क्षमता एक अच्छा कदम है जो अन्य देशों के पास नहीं है।"

उन्होंने कहा कि “हमारे यहां 32 कैंपर हैं और हम एक-दूसरे के खिलाफ प्रतिस्पर्धात्मक हॉकी खेल सकते हैं। हम अंतरराष्ट्रीय तरिकों से आंतरिक खेल खेल रहे हैं। हम हर रोज अलग-अलग स्टाइल में खेल रहे हैं। एक दिन, हम जर्मनी की तरह खेल रहे हैं, तो अगले दिन ऑस्ट्रेलिया की तरह।”

भविष्य के बारे में आगे बताते हुए 55 वर्षीय कोच ने कहा, "हम वो सब कर रहे हैं जो हम कर सकते हैं, हम एक बंद और सुरक्षित वातावरण में सर्वश्रेष्ठ हॉकी खेल रहे हैं।"

ग्राहम रीड ने कहा कि “हम अभी भी हॉकी इंडिया और सरकार की ओर से अगले सूचना का इंतजार कर रहे हैं। निश्चित रूप से हमें अपने ओलंपिक के लिए तैयारी को फिर से शुरू करना होगा।”

आपको बता दें कि भारतीय टीम को 25 और 26 अप्रैल को जर्मनी के खिलाफ आयोजित दौरे को रद्द कर दिया गया है, साथ ही उसके बाद ग्रेट ब्रिटेन के लंदन में 2 और 3 मई को FIH प्रो लीग में खेलने से भी रोक दिया गया है। इन सभी इवेंट्स को COVID-19 के प्रकोप के कारण रोक दिया गया है।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!