ओलंपिक 2020 के ओपनिंग मैच पर हरमनप्रीत सिंह की नज़र

भारतीय ड्रैग-फ्लिकर ने कहा कि टोक्यो की कंडीशन में ढलने के लिए टीम दोपहर के सत्र में ट्रेनिंग कर रही है।

एफआईएच हॉकी प्रो लीग(FIH Hockey Pro League) के शुरुआती कुछ मैचों में दुनिया की कुछ सर्वश्रेष्ठ टीमों के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करने के बाद, भारतीय हॉकी टीम अपने राष्ट्रीय शिविर के लिए बेंगलुरु में वापस आ गई है, जहां खिलाड़ी 2020 ओलंपिक की तैयारी कर रहे हैं।

हर गुजरते पल के साथ अब ओलंपिक खेल काफी पास आ रहा है और टीम भी इन दिनों का महत्व अच्छी तरह जानती है।

हॉकी इंडिया से बातचीत के दौरान हरमनप्रीत सिंह (harmanpreet Singh) ने बताया “कि हमारा पूरा ध्यान न्यूजीलैंड के खिलाफ ओलंपिक में 25 जुलाई को होने वाले पहले मैच पर है”। इस खिलाड़ी ने बताया कि कैंप में हम कुछ कमियों पर काम कर रहे हैं, खासकर विशेष रूप से अपने आक्रमण को 25-यार्ड लाइन से सफल बनाने पर और टैकलिंग में सुधार की कोशिश कर रहे हैं”।

हरमनप्रीत सिंह ने बताया कि हम विशेष रूप से अपने आक्रमण को 25-यार्ड लाइन से सफल बनाने पर काम कर रहे हैं। फोटो: हॉकी इंडिया
हरमनप्रीत सिंह ने बताया कि हम विशेष रूप से अपने आक्रमण को 25-यार्ड लाइन से सफल बनाने पर काम कर रहे हैं। फोटो: हॉकी इंडियाहरमनप्रीत सिंह ने बताया कि हम विशेष रूप से अपने आक्रमण को 25-यार्ड लाइन से सफल बनाने पर काम कर रहे हैं। फोटो: हॉकी इंडिया

भारतीय हॉकी के मुख्य कोच ग्राहम रीड (Graham Reid)  बेंगलुरू में टीम के साथ काफी मेहनत कर रहे हैं। इस ड्रैग-फ्लिकर ने कहा कि “हमारे पास रेड सेशन और ग्रीन सेशन है। रेड सेशन काफी गहन होता है। प्रैक्टिस के दौरान हम एक दूसरे के खिलाफ खेलते हैं”।

हरमनप्रीत सिंह ने बताया कि “हमारा सत्र दोपहर में 12 बजे शुरू होता है, ये इसलिए है क्योंकि हम टोक्यो के गर्म और उमस भरे मौसम में खुद को ढाल सके। इसके अलावा हम ग्रीन सेशन में खुद की तकनीक पर काम करते हैं”

अमृतसर के 24 वर्षीय इस खिलाड़ी ने बताया कि टीम कोरोना वायरस के खतरे से बचने के लिए जरूरी कदम उठा रही है। हरमनप्रीत ने बताया कि “हम सभी को कुछ बुनियादी सावधानियां बरतने के लिए कहा गया है, जैसे कि हमें हाथों को नियमित रूप से धोना है, इसके अलावा हमारे शरीर का तापमान नियमित रूप से जांच किया जा रहा है, साथ ही हमें परिसर से बाहर जाने से बचने के लिए कहा गया है।

इस खिलाड़ी ने कहा कि “वैसे हम वीकेंड पर कॉफी या डिनर के लिए जाया करते थे लेकिन इस बार हमने ऐसा नहीं किया और कहीं नहीं गए। इसके अलावा स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के कैंपस में किसी भी बाहरी व्यक्ति को प्रवेश करने से पहले बुखार की जांच की जाती है”।

भारतीय हॉकी टीम अब बर्लिन में एफआईएच हॉकी प्रो लीग में खेलती दिखाई देगी, इस दौरान पहले वो 4 बार की ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट जर्मनी से भिड़ेगी। इसके बाद मई में वो लंदन में ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ टक्कर लेगी।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!