एफआईएच प्रो लीग में बेल्जियम से दो-दो हाथ करने को तैयार है भारतीय हॉकी टीम

वर्ल्ड चैंपियन बेल्जियम प्रो लीग के इस संस्करण में अभी तक 3 मुकाबलों में विजयी रही है और साथ ही 1 मुकाबले को ड्रॉ करने में भी सफल हुई हैं।  

लेखक जतिन ऋषि राज ·

भारतीय मेंस हॉकी टीम बेल्जियम के खिलाफ अपने एफआईएच प्रो लीग के कारवां को आगे बढ़ाएगी। इन दो टीमों के बीच भुवनेश्वर में फरवरी 8-9 को दो मुकाबले खेले जाएंगे। कलिंगा स्टेडियम एक बार फिर रोमांचक हॉकी मुकाबले का सबूत बनेगा। 

गौरतलब है कि भारतीय मेंस टीम ने विश्व नंबर 3 की टीम नीदरलैंड को हराकर अपने पहले प्रो लीग के संस्करण की शुरुआत शानदार जीत के साथ की थी। सही मायनों में कहा जाए तो बेल्जियम अपनी फॉर्म को जारी रख भारतीय मेंस हॉकी टीम को कड़ा मुकाबला देने के लिए तैयार है। 

चारों ओर आक्रामक तेवर 

आपको बता दें कि एफआईएच प्रो लीग के इस संस्करण में बेल्जियम ने 4 मुकाबले खेले हैं और उनमें से 3 में उन्हें जीत मिली है और एक ड्रॉ रहा है। इन मुकाबलों में इस टीम ने शानदार 15 गोल दागे हैं। इस टीम के गोल मशीन फिलिक्स दनेएर और अलेक्स्ज़ेंडर हेंड्रिक्स हैं और इस डुओ ने अभी तक 3-3 गोल अपने खाते में दर्ज कराए हैं। यकीनी तौर पर भारतीय टीम इन दोनों के खिलाफ कड़ी रणनीति लेकर मैदान में उतरेगी। 

चोट के बाद वापसी कर रहे ड्रैग फ्लिकर रुपिंदर पाल सिंह ने नीदरलैंड के खिलाफ आक्रामक खेल दिखाते हुए अपने इरादे पुष्ट किए थे और बेल्जियम के खिलाफ भी उनसे अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है। मंदीप सिंह और ललित उपाध्याय के टीम में एक साथ खेलने से संतुलन बना रहता है और इन दोनों ही खिलाड़ियों का योगदान हमेशा से अहम रहा है। 

डिफ़ेंस में चाहिए मज़बूती 

इसमें कोई दो राय नहीं कि भारत बनाम बेल्जियम का यह मुकाबला दिलचस्प होने वाला है। खेल की रणनीति की बात करें तो दोनों ही टीमों को अपने डिफ़ेंस पर ज़्यादा ध्यान देना होगा और हर समय अपने प्रतिद्वंदी को गोल से दूर रखना होगा। बेल्जियम ने अब तक 4 मुकाबलों में 7 गोल खाए हैं और साथ ही आंकड़े यह भी बताते हैं कि इस टीम ने 2 गोल हर मुकाबले में अपने खिलाफ लिए हैं। सर्वश्रेष्ठ डिफ़ेंस इस टीम का न्यूज़ीलैंड के खिलाफ आया जहां वे 3-1 से विजयी रहे। 

वहीं भारत ने अपने पहले मुकाबले में 2 गोल खाए थे। अगले मैच में भारत को उनके प्रतिद्वंदी ने 3 बार चकमा दे कर गोल दागे, हालांकि वह मुकाबले 3-3 से ड्रॉ रहा।

रुपिंदर पाल सिंह अपने आक्रामक अंदाज़ से इस टीम को एक लय प्रदान करते हैं और उनका ड्रैग फ्लिक का कौशल उनके नाम पर गोल भी अंकित करता है। साथ ही यह खिलाड़ी पीछे रहकर डिफ़ेंस को मज़बूती देता है जिस वजह से प्रतिद्वंदी के पास स्कोर करने के ज़्यादा मौके नहीं होते। 

एफआईएच प्रो लीग – कब और कहां देखें 

एफआईएच प्रो लीग का सीधा प्रसारण स्टार स्पोर्ट्स नेटवर्क और हॉटस्टार पर देखा जा सकता है। यह दोनों मुकाबले शाम 5:00 बजे से 8 और 9 फरवरी को खेले जाएंगे।