पूर्व भारतीय दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने एमपी सिंह के लिए बढ़ाए मदद के हाथ

पूर्व भारतीय हॉकी ओलंपियन MP Singh किडनी की बीमारी से जूझ रहे हैं और ऐसे में सुनील गावस्कर ने उनकी आर्थिक मदद करने का फ़ैसला किया है।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

पूर्व दिग्गज भारतीय बल्लेबाज़ और भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रह चुके सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने बढ़ाए मोहिंदर पाल सिंह (Mohinder Pal Singh) की ओर मदद के हाथ। भारतीय हॉकी खिलाड़ी के लिए गावस्कर ने आर्थिक मदद कर एक बार फिर बता दिया कि खेल की कोई ज़बान नहीं होती और होता है तो सिर्फ प्रेम।

एमपी सिंह के नाम से जाना जाने वाला यह खिलाड़ी अपने समय पर पेनल्टी का जादूगर कहलाता था। 1986 वर्ल्ड कप और 1988 सियोल ओलंपिक गेम्स का हिस्सा रह चुके एमपी सिंह ने मोहम्मद शाहिद (Mohammad Shahid), एमएम सोम्मैया (MM Somaiya), मर्विन फर्नाडिस (Mervyn Fernandes) और अशोक कुमार (Ashok Kumar) के साथ इस खेल का मज़ा लिया है।

58 वर्षीय हॉकी खिलाड़ी को 2017 में किडनी की बीमारी हो गई थी और हाल ही में उनकी हालत को नाज़ुक बताया गया है। यही कारण रहा कि एमपी सिंह को अस्पताल भी दाखिल  कराया गया था।

बस, एक खिलाड़ी पर आपदा क्या आई देश का दूसरा खिलाड़ी उसकी मदद करने उतर गया। गावस्कर ने यह कार्य “द चैम्प फाउंडेशन” के साथ मिलकर किया। CHAMP का अर्थ Caring, Helping, Assisting, Motivating, Promoting Sportsperson है।

PTI से बात करते हुए गावस्कर ने कहा “मैं अक्सर ऐसी ख़बरें पढ़ता हूं कि हमारे ओलंपियन और पडक विजेता मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। एमपी सिंह से जुड़ी ख़बर भी मुझे मीडिया के ज़रिए ही मिली।”

“इसी तरह हमे अपने पूर्ण अंतरराष्ट्रिय खिलाड़ियों की मदद करनी चाहिए और इसमें मीडिया भी एक अहम किरदार अदा करती है।”

ग़ौरतलब है कि सुनील गावस्कर ‘The CHAMPS Foundation’ के ट्रस्टी भी हैं और लगभग 20 सालों से वह इसके ज़रिए खिलाड़ियों की मदद कर रहे हैं।

गावस्कर ने बातचीत को बढ़ाते हुए कहा “1983 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्यों के साथ मिलकर हिमने एक प्रतियोगिता का आयोजन भी किया था और इसमें उद्योगपति और कॉर्पोरेट के लोगों ने एक पार्टनर की भूमिका भी निभाई थी। ऐसे में उनकी कम्पनियों ने आगे बढ़कर डोनेशन भी दी थी।”