डच हॉकी लीग में फिर से खेलेंगे देविंदर वाल्मीकि

भारत के पूर्व कोच पॉल वान एस के साथ जुड़ने के लिए भारतीय हॉकी मिडफील्डर देविंदर वाल्मीकि के पास एक और अवसर होगा।

रियो 2016 ओलंपियन देविंदर वाल्मीकि (Devindar Walmiki) डच हॉकी क्लब HOC गजलीन-कॉम्बिनेटी (HGC) के साथ एक और सीज़न में खेलेंगे।

पिछले साल अपने पहले सत्र का आनंद लेने के बाद, भारतीय हॉकी मिडफील्डर को होफडक्लासे सीज़न के लिए करार करने में कोई संकोच नहीं हुआ। वो 6 सितंबर से होफडक्लासे के साथ जुड़ जाएंगे।

देविंदर वाल्मीकि ने एक इंस्टाग्राम लाइव सत्र में भारतीय ल्युजर शिवा केशवन (Shiva Keshavan) को बताया, "ये दुनिया की शीर्ष लीगों में से एक है और मेरा मानना ​​है कि हममें से अधिक से अधिक खिलाड़ियों को वहां खेलना चाहिए, क्योंकि ये आपको एक बेहतरीन खिलाड़ी बनने में मदद करता है।"

ये जानने के बाद कि भारतीय हॉकी पुरुष टीम के पूर्व कोच पॉल वान एस (Paul van Ass) डच क्लब में होंगे। तब 28 वर्षीय देविंदर ने पहली बार HGC के साथ 2019 में हस्ताक्षर किया था।

इस जोड़ी ने भारतीय हॉकी टीम में रहते हुए अच्छे रिश्ते बनाए और एक विदेशी लीग में खेलने की चुनौती ने देविंदर वाल्मीकि को इसके लिए प्रेरित किया।

उन्होंने द न्यू इंडियन एक्सप्रेस को बताया, "पॉल वान एस जैसे रणनीति के मास्टर और विश्व के हर कोने के खिलाड़ियों के साथ खेलने का अनुभव शानदार रहा है।"

डिफेंस में भी कमाल करने वाले इस मिडफील्डर ने भारतीय हॉकी पुरुष टीम के लिए 48 मैच खेले हैं, लेकिन साल 2016 के बाद से सीनियर टीम के लिए एक भी मैच टीम के लिए नहीं खेले हैं।

उन्होंने कहा, "मेरा प्रदर्शन काफी अच्छा होना चाहिए, जिससे मुझे राष्ट्रीय टीम के लिए चयन ट्रायल के लिए बुलावा आए और यही मेरा अंतिम लक्ष्य है।"

देविंदर वाल्मीकि, जो पिछले महीने ही नीदरलैंड से मुंबई आए थे, अब हॉलैंड आ गए हैं।

देविंदर वाल्मीकि भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं
देविंदर वाल्मीकि भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैंदेविंदर वाल्मीकि भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं

उन्हें 14 दिनों की क्वारनटीन से गुजरना होगा, जिसके बाद वो ट्रेनिंग कर सकते हैं, उसमें भी डच हॉकी महासंघ सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए कुछ दिशा-निर्देश निर्धारित करेगा।

देविंदर वाल्मीकि ने स्पोर्टस्टार को बताया, “महासंघ ने हमें छोटे ग्रुप्स में ट्रेनिंग करने का निर्देश दिया है, शायद एक ग्रुप में पांच खिलाड़ी होंगे। मैदान में प्रवेश करने से पहले, खुद को साफ करना अनिवार्य था और क्लब हाउस और चेंजिंग रूम का उपयोग करना मना है। खिलाड़ियों को पूरे किट में ट्रेनिंग करने के लिए लिए कहा गया है और वापस उसी किट पहनकर लौटने का निर्देश दिया गया है।”

होफडक्लासे तीन महीने तक खेला जाएगा, जिसका फाइनल 29 नवंबर को होगा।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!