प्रो लीग की बदौलत ओलंपिक से पहले लय हासिल करने की कोशिश करेंगे: ग्राहम रीड

भारत को अगले साल अप्रैल में अपने FIH प्रो लीग अभियान की शुरुआत करनी है और वह टोक्यो ओलंपिक शुरू होने के दो महीने पहले मई में समाप्त होगा।

भारतीय पुरूष हॉकी टीम के कोच ग्राहम रीड (Graham Reid) को लगता है कि एफआईएच प्रो लीग के संशोधित कार्यक्रम टीम की ओलंपिक तैयारी में काफी मददगार साबित होगा। इसके अलावा उनका मानना है कि अगले साल लगातार मैच खेलने से उन्हें टोक्यो ओलंपिक से पहले फॉर्म हासिल करने में मदद मिलेगी।

एफआईएच प्रो लीग सितंबर में वापस शुरू होने को तैयार है, हालांकि भारत का फिक्स्चर अगले साल मई और अप्रैल के बीच निर्धारित किया गया है। भारत के लिए ये अच्छी ख़बर है, क्योंकि ग्राहम रीड की टीम को जुलाई में अपने ओलंपिक सफर की शुरुआत करनी है।

ग्राहम रीड ने हॉकी इंडिया से बातचीत के दौरान कहा, “अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता को फिर से शुरू करना बहुत ही उत्साहजनक है और एफआईएच प्रो लीग की बदौलत हम ओलंपिक की तैयारी अच्छे तरीके से कर पाएंगे।”

हेड कोच ग्राहम रीड ने भारतीय हॉकी मेंस टीम में मानसिक बदलाब कर उन्हें और मज़बूत किया। फोटो क्रेडिट: हॉकी इंडिया मीडिया 
हेड कोच ग्राहम रीड ने भारतीय हॉकी मेंस टीम में मानसिक बदलाब कर उन्हें और मज़बूत किया। फोटो क्रेडिट: हॉकी इंडिया मीडिया हेड कोच ग्राहम रीड ने भारतीय हॉकी मेंस टीम में मानसिक बदलाब कर उन्हें और मज़बूत किया। फोटो क्रेडिट: हॉकी इंडिया मीडिया 

भारतीय हॉकी खिलाड़ियों को लॉकडाउन के कारण दो महीने के लिए बेंगलुरु में भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) केंद्र में ही कैद होना पड़ा था। वहां वे खुद को शारीरिक रूप से फिट रखने में कामयाब रहे लेकिन अभ्यास मैच नहीं खेल सके।

अब भारतीय टीम के खिलाड़ी एक महीने के लंबे ब्रेक पर हैं, लेकिन जल्दी ही व्यस्त कार्यक्रम उनका इंतजार कर रहा है।

एफआईएच प्रो लीग अभियान फिर से शुरू होने से पहले भारतीय हॉकी टीम को विदेश में कई टूर्नामेंट खेलने है।

ग्राहम रीड ने बताया, “हमारे पास नवंबर 2020 में एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी है और हमें मलेशिया में नीदरलैंड के खिलाफ खेलना है। इसके अलावा फरवरी 2021 में हमें 4 देशों के टूर्नामेंट में हिस्सा भी लेना है।”

सही परिस्थितियों में सही टेस्ट

अपने घरेलू जमीन पर अपने पहले ही एफआईएच प्रो लीग अभियान में शानदार प्रदर्शन करने वाली मनप्रीत (Manpreet Singh) एंड कंपनी ने नीदरलैंड, बेल्जियम और ऑस्ट्रेलिया को हराया था।

भारतीय टीम अगले साल 10 और 11 अप्रैल को अर्जेंटीना से खेलेगी। फिर टीम आठ और नौ मई को ब्रिटेन से भिड़ने के बाद 12 और 13 मई को मैच खेलने के लिए स्पेन की यात्रा करेगी। ये अभियान 18 और 19 मई को जर्मनी के खिलाफ मैचों के साथ समाप्त होगा, इससे पहले 29 और 30 मई को न्यूजीलैंड की मेज़बानी करेगा।

अब मनप्रीत सिंह (Manpreet Singh) को भी विश्वास है कि अगली गर्मियों में यूरोप और दक्षिण अमेरिका में मौसम की सही स्थिति टीम के कारण टीम को काफी मदद मिलेगी।

मनप्रीत ने कहा कि मनप्रीत सिंह ने कहा, "मुझे लगता है कि अप्रैल और मई में यूरोप का मौसम हमारे लिए आदर्श होगा क्योंकि सर्दियों के महीने खत्म हो चुके होंगे। वहीं अर्जेंटीना का मौसम हॉकी के लिए परफेक्ट होने की उम्मीद है।”

वहीं मौसम के अलावा मनप्रीत को लगता है कि एफआईएच प्रो लीग के कठिन मैचों के दौरान टीम के खिलाड़ी अपने शरीर और मानसिक मजबूती को टेस्ट कर सकते हैं। वहीं लगातार बड़े मैचों में खेलने के बाद दबाव से कैसे निपटा जा सकता है इस पर भी सभी का ध्यान होगा। ओलंपिक से पहले ये हमारी सही तैयारी होगी।

मनप्रीत ने आगे कहा, “मुझे लगता है कि अर्जेंटीना और ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ हमारे मैचों के बीच चार सप्ताह के अंतराल के बाद, हम मई के अंत तक लगभग हर सप्ताह के अंत में लगातार मैच खेलेंगे। ओलंपिक से पहले हम कुछ इसी प्रकार खेलना चाहते थे ताकि  हमारी लय बरकरार रख सकें। ओलंपिक से पहले हमारे लिए यह एक परफेक्ट टेस्ट होगा।”

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!