भारतीय महिला हॉकी टीम को न्यूज़ीलैंड के हाथों 1-2 से मिली हार

शुअर्ड मरिने की अगुवाई वाली भारतीय महिला टीम ने मुकाबले के पहले 3 मिनट में ही गोल खाया और मुकाबला 1-2 से हारा। 

लेखक जतिन ऋषि राज ·

न्यूज़ीलैंड दौरे पर पहुंची भारतीय वूमेंस हॉकी टीम को दूसरे मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा। पेनल्टी कॉर्नर के चलते घर में खेल रही न्यूज़ीलैंड टीम ने 1-0 से बढ़त हासिल किया और खेल पर अपना दबदबा बनाना शुरू किया। सोमवार को भारत को 1-2 से हार मिली और अब देखना यह होगा कि अगले मुकाबले के लिए इस टीम की रणनीति क्या होती है।

भारतीय हॉकी टीम ने इस दौरे की शुरुआत जीत के साथ की थी। जब शनिवार को न्यूज़ीलैंड डेवलपमेंटल टीम को भारत ने मानों फील्ड पर खेल के बदले जादू दिखाया था और 4-0 से शिकस्त दी थी। पर इस लय को टीम इंडिया बरक़रार नहीं रख पाई जिस वजह से मुकाबला उनके हाथ से निकल गया।

पहले क्वार्टर में अपने प्रतिद्वंदियों से पीछे चल रही भारतीय टीम अब गोल पर निशाना बनाए हुए थी। देखते ही देखते पेनल्टी कॉर्नर का एक मौका बना और इस बार मौका सलीमा टेटे के पास, जिन्होंने अपना कौशल दिखाया और इस मौके को गोल में तब्दील किया।

अब स्कोर 1-1 से बराबर था और दोनों ही टीमों का खेल भी नियंत्रण में चल रहा था। चौथे क्वार्टर में एक एरर के कारण भारतीय महिला हॉकी टीम अपने प्रतिद्वंदियों को एक पेनल्टी स्ट्रोक का मौका दे बैठी। मेगन हुल्ल ने होशियारी दिखाते हुए इसका भरपूर फायदा उठाया और अपनी टीम को एक गोल की मदद प्रदान कर स्कोर को 2-1 से अपने पाले में किया।

खेल को प्रभावशाली करने की ज़रूरत

भारतीय वूमेंस हॉकी टीम के चीफ कोच, शुअर्ड मारिने ने कहा “आज हमने गोल करने के बहुत से मौके बनाए लेकिन उनको गोल मार कर सफल न कर पाए। हमारे मुताबिक़ न्यूज़ीलैंड ने खेल में अच्छे बदलाव किए और अपनी प्रतिक्रियों को सफल बनाया।“

“यह खेल सिर्फ मौके बनाने पर निर्भर नहीं है बल्कि आप कितना प्रभावशाली खेल खेलते हैं वह महत्वपूर्ण है। न्यूज़ीलैंड पहले मुकाबले से आज ज़्यादा मज़बूत दिखी। पहले क्वार्टर में हम लय में नहीं थे लेकिन उसके बाद हमने भी अच्छा खेल दिखाया।“

उन्होंने आगे कहा “हमने आज 8 शॉट गोल पर मारे और साथ ही 4 पेनल्टी कॉर्नर भी हमारे हाथ आए। ज़ाहिर तौर पर हम आने वाले मुकाबलों में ज़्यादा प्रभावशाली खेल दिखाने की कोशिश करेंगे।”

इस दौरे पर भारत अब न्यूज़ीलैंड के खिलाफ 29 जनवरी और 5 फरवरी को खेलेगा जबकि ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ 4 फरवरी को भारतीय महिला हॉकी टीम मैदान में होगी।